Home » Market » StocksWhatsApp leak: Sebi to soon take action against oprators and staff| मार्केट ऑपरेटर्स और सीनियर स्टॉफ पर कार्रवाई करेगा SEBI

Whatsapp लीक मामला: ब्लूचिप कंपनियों के वरिष्‍ठ अधिकारियों पर कार्रवाई करेगा SEBI

सेबी करीब 1 दर्जन कंपनियों के प्राइस सेंसिटिव इनफॉर्मेशन को वॉट्सऐप पर लीक करने के मामले में कार्रवाई करेगा।

1 of

मुंबई. मार्केट रेग्युलेटर सेबी स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड करीब 1 दर्जन ब्लूचिप कंपनियों के प्राइस सेंसिटिव इनफॉर्मेशन को वॉट्सऐप पर लीक करने के मामले में जल्द कुछ मार्केट ऑपरेटर्स और सीनियर स्टॉफ पर कार्रवाई करेगा। सेबी के सूत्रों के मुताबिक इस मामले में उन कंपनियों की भी इस बात को लेकर निंदा की जा सकती है कि ऐसी प्राइस सेंसिटिव इनफॉर्मेशन को छुपाने के लिए सही उपाय नहीं किए जा रहे हैं। सेबी की जांच फाइनल स्टेज में है। सेबी को इस मामले में इनसाइडर ट्रेडिंग से कमाई का भी शक है। 

 

 

फाइनेंशियल रिजल्ट भी लीक हुआ 
बता दें कि ऐसी सूचनाओं में किसी कंपनी का फाइनेंशियल रिजल्ट भी है, जिसे निवेशकों के लिए सार्वजनिक किए जाने के पहले ही लीक कर दिया गया हो। सेबी की शुरुआती जांच में सामने आया है कि फाइनेंशियल रिजल्ट से पहले , जो आंकड़े वॉट्सऐप ग्रुप पर सर्कुलेट हो रहे थे, वो आधिकारिक नतीजों से मेल खा रहे हैं। इससे स्टॉक मार्केट में कंपनी के स्टॉक के प्रदर्शन पर असर होता है। फिलहाल इस मामले में सभी संबद्ध कंपनियों ने सेबी द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब दे दिया है। माना जा रहा है कि उन कंपनियों के खिलाफ भी एक्शन हो सकता है, जो जिम्मेदारी तय करने में विफल रही हैं। 

 

इनसाइडर ट्रेडिंग से कमाई का शक
- सेबी इस मामले में इनसाइडर ट्रेडिंग के एंगल से भी जांच कर रहा है। सेबी को शक है कि कुछ लोगों ने लीक सूचनाओं के जरिए गैरकानूनी तरीके से मुनाफा कमाया।
- संबंधित अधिकारियों के मुताबिक कंपनियों से मिली सूचनाओं का मिलान किया जा रहा है। इस मामले की जांच जल्द पूरी होने वाली है।
- ब्रोकरेज फर्मों के कर्मचारी और मार्केट से जुड़े कुछ लोग भी राडार पर हैं। इन पर कंपनियों के अधिकारियों से मिलीभगत का आरोप है। पिछले साल ये मामला सामने आया था।
- सेबी कंपनियों के अधिकारियों समेत जिन लोगों के खिलाफ जांच कर रहा है उनमें ऑडिटर, ब्रोकर, एनालिस्ट और निवेश सलाहकार शामिल हैं, जिनके साथ सूचनाएं शेयर कई गई थीं।

 

2017 का है मामला
पिछले साल जुलाई-सितंबर तिमाही के आधिकारिक नतीजे जारी होने से पहले ही कई कंपनियों के आंकड़े वॉट्सऐप पर लीक हो गए थे। इनमें डॉ. रेड्डीज, सिप्ला, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, टाटा स्टील, विप्रो, बजाज फाइनेंस, महिंद्रा हॉलीडेज एंड रिसॉर्ट, क्रॉम्प्टन ग्रीव्स, माइंडट्री, मस्टेक, इंडिया ग्लाइकोल्स जैसी कंपनियां हैं। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट