बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksSBI Q4 Result: SBI को रिकॉर्ड 7718 करोड़ रु का हुआ घाटा, प्रोविजनिंग दोगुने से ज्यादा बढ़कर 28096 करोड़ रु

SBI Q4 Result: SBI को रिकॉर्ड 7718 करोड़ रु का हुआ घाटा, प्रोविजनिंग दोगुने से ज्यादा बढ़कर 28096 करोड़ रु

SBI Q4 Result: फाइनेंशियल ईयर 2018 की चौथी तिमाही में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को 7718 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है।

1 of

नई दिल्ली. SBI Q4 Result: फाइनेंशियल ईयर 2018 की चौथी तिमाही में देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को अबतक का सबसे बड़ा तिमाही घाटा हुआ है। इस दौरान बैंक को 7718 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है, जबकि फाइनेंशियल ईयर 2017 की चौथी तिमाही में बैंक को 2814 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। जनवरी-मार्च, 2018 के दौरान प्रोविजनिंग बढ़ने का असर नतीजों पर दिखा। वहीं, बैंक का बैड लोन भी इस दौरान बढ़ गया है। फाइनेंशियल ईयर 2018 की तीसरी तिमाही में भी बैंक को 2416 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। 

 

प्रोविजनिंग 28090 करोड़ रुपए 

फाइनेंशियल ईयर 2018 की चौथी तिमाही में बैंक की प्रोविजनिंग 11740 करोड़ रुपए से बढ़कर 28096 करोड़ रुपए हो गई। 

 

ग्रॉस एनपीए 10.91%

चौथी तिमाही में बैंक का ग्रॉस एनपीए बढ़कर 10.91 फीसदी हो गया है, जबकि एक‍ तिमाही पहले बैंक का ग्रॉस एनपीए 10.35 फीसदी रहा था। वहीं, एक साल पहले की समान अवधि में ग्रॉस एनपीए 9.1 फीसदी था। 
चौथी तिमाही में बैंक का नेट एनपीए बढ़कर 5.73 फीसदी हो गया है, जबकि एक तिमाही पहले नेट एनपीए 5.61 फीसदी था। वहीं, एक साल पहले की समान अवधि में नेट एनपीए 5.19 फीसदी था। 

 

नेट इंटरेस्ट इनकम 19974 करोड़ रुपए 
चौथी तिमाही में एसबीआई का नेट इंटरेस्ट इनकम 10.5 फीसदी बढ़कर 19974 करोड़ रुपए रहा है। जबकि एक साल पहले की समान अवधि में बैंक का नेट इंटरेस्ट इनकम 18071 करोड़ रुपए रही थी। 

 

क्या कहना है रजनीश कुमार का

एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि बैंक प्रोविजन कवरेज रेश्‍यो 66 फीसदी है, जो इसके बैलेंस शीट की मजबूती को दर्शाता है। एनपीए पर उन्होंने कहा कि बैंक आधे से अधिक की वसूली करने में कामयाब रहेगा। उन्होंने कहा कि स्टेट बैंक 12 बड़े कर्जदारों को नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में ले गया है और बैंक को उम्मीद है कि जब बैंकरप्सी की प्रक्रिया होगी तो बैंक का घाटा 50 से 52 फीसदी से अधिक नहीं होगा। उन्होंने कहा कि फाइनेंशियल ईयर 2017-18 इंडस्ट्री के लिए एक चुनौतीपूर्ण साल रहा है और एसबीआई भी इसमें कोई अपवाद नहीं है। घाटे की रकम बहुत बड़ी दिख रही है, लेकिन बैलेंस शीट की मजबूती भी अहम है। 

 

Live Update

  • 22-05-2018 | 03:11 PM

    डिपोजिट में 4.68 फीसदी ग्रोथ

    चौथी तिमाही में एसबीआई के डिपोजिट में सालाना आधार पर 4.68 फीसदी की ग्रोथ रही है। कुल डिपोजिट 25,85,320 करोड़ रुपए से बढ़कर 27,06,343 करोड़ रुपए हो गया है। इस दौरान डोमेस्टिक कासा डिपोजिट में सालाना आधार पर 7.21 फीसदी ग्रोथ रही और यह 11,07,434 करोड़ रुपए से बढ़कर 11,87,294 करोड़ रुपए हो गया है। डोमेसिटक्‍ टर्म डिपॉजिट ग्रोथ 1.84 फीसदी सालाना रहा है। 



     


  • 22-05-2018 | 03:05 PM

    कॉरपोरेट बैंकिंग ऑपरेशंस में घाटा

    सेग्मेंटवाइज बात करें तो चौथी तिमाही में कॉरपोरेट या होलसेल बैंकिंग ऑपरेशंस में एसबीआई का घाटा 2.5 गुना से ज्यादा बढ़कर 13525 करोड़ रुपए हो गया है। जबकि एक साल पहले की समान अवधि में इस मद में बैंक को 4845 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। वहीं, रिटेल बैंकिंग ऑपरेशंस में भी एसबीआई का मुनाफा सालाना आधार पर 42.64 फीसदी घट गया है। रिटेल बैंकिंग में मुनाफा 3587 करोड़ रुपए रहा है। 


  • 22-05-2018 | 03:05 PM

    बढ़त के साथ कारोबार कर रहा है शेयर

    बीएसई पर एसबीआई का शेयर फिलहाल 4 फीसदी से ज्यादा की बढ़त के साथ कारोबार कर रहा है। हालांकि मंगलवार को शेयर की शुरुआत 0.32 फीसदी की गिरावट के साथ हुई। बीएसई पर शेयर सोमवार के बंद भाव 245.10 रुपए के मुकाबले 0.32 फीसदी टूटकर 244.30 रुपए के भाव पर खुला था। वहीं चौथे क्वार्टर के नतीजे आने से पहले शेयर में तेजी और शेयर 6 फीसदी बढ़कर 259.90 रुपए के भाव पर पहुंच गया, जो इंट्रा-डे का हाई है। कारोबार के दौरान शेयर ने 241.30 रुपए का लो बनाया।


  • 22-05-2018 | 02:57 PM

    रुपए में SBI का बैड लोन 2.2 लाख करोड़

    रुपए में बैड लोन की बात करें तो चौथी तिमाही में एसबीआई का ग्रॉस एनपीए 1.99 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 2.2 लाख करोड़ रुपए रहा है। वहीं, तिमाही आधार पर चौथी तिमाही में एसबीआई का नेट एनपीए 1.02 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 1.11 लाख करोड़ रुपए रहा है।


prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट