Home » Market » Stocksमिलिए बिजनेसमैन राहुल गांधी से- Rahul Gandhi is also a smart investors, know his business strategy

मिलिए बिजनेसमैन राहुल गांधी से, जानिए कैसे की मोटी कमाई

राहुल गांधी सिर्फ देश के बड़े पॉलिटिशियन ही नहीं, एक स्मार्ट इन्वेस्टर भी हैं।

1 of

नई दिल्ली। राहुल गांधी शनिवार (16 दिसंबर) को  कांग्रेस प्रेसिडेंट का पद संभाल रहे हैं। इसके पहले सोनिया गांधी 19 साल तक इस पद पर रही थीं। 47 साल के राहुल गांधी के पॉलिटिकल करियर के बारे में आपको अच्छी खासी जानकारी है, लेकिन आज हम उनके उस पहलू के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी जानकारी बहुत कम लोगों को होगी। 

 

असल में राहुल एक स्मार्ट इन्वेस्टर भी हैं। यूं कह लीजिए कि राहुल गांधी सिर्फ देश के बड़े पॉलिटिशियन ही नहीं, एक बिजनेसमैन भी हैं। उन्होंने अपनी स्मार्ट स्ट्रैटेजी से और खास तौर पर रियल एस्टेट सेक्टर में इन्वेस्ट करके मोटा मुनाफा कमाया है। इसके अलावा उन्होंने ब्रिटिश बेस्ड कंपनी में भी पैसा लगाया था, वहीं वह बीपीओ कंपनी में हिस्सेदार भी रहे हैं। आइए जानते हैं कि राहुल गांधी के अब तक की बिजनेस डीलिंग के बारे.... 

 

 

पॉलिटिक्‍स से पहले बिजनेस में एंट्री  
 
- राहुल गांधी का एक इन्वेस्टर के रूप में इंटरेस्ट राजनीति में आने के पहले से ही दिखा था।
- 2004 के पहले वह एक दिल्ली और एक यूके बेस्ड कंपनी से जुड़ चुके थे।
- बाद में उन्होंने ज्यादातर इन्वेस्टमेंट प्रॉपर्टी में ही किया।
- इसमें कमर्शियल और एग्रीकल्चरल दोनों तरह की प्रॉपर्टी हैं।
 
आगे पढ़ें, कैसे कमाया 5 साल में 3 गुना मुनाफा

2  दुकानों से कमाया तीन गुना मुनाफा
 
- राहुल गांधी ने 2005 में एम्मार एमजीएफ ग्रुप से दिल्ली में मेट्रोपॉलिटन मॉल में दो दुकानें खरीदी थीं।
- यह मॉल साकेत एरिया में है। एक दुकान का एरिया 514.44 वर्ग फुट था, जबकि दूसरी का 999.98 वर्ग फुट।
- ये दोनों दुकानें राहुल ने 2005 में 1.63 करोड़ रुपए में खरीदी थीं। तब उन्हें मार्केट रेट पर ये दुकानें बेची गई थी। 
- राहुल ने 2009 लोकसभा चुनाव के दौरान एफिडेविट में यह जानकारी दी थी।
- 2010 में राहुल ने दोनों दुकान 5.6 करोड़ रुपए में बेच दी, इसके जरिए उन्हें करीब 3 गुना मुनाफा हुआ।
 

 

आगे पढ़ें,  कहां किए 7 करोड़ रुपए रुपए निवेश 

 

कॉमर्शियल प्रॉपर्टी में लगाए 7 करोड़

 
- यूपीए के दूसरे कार्यकाल के दौरान अक्टूबर 2009 में राहुल गांधी ने गुड़गांव में दो कमर्शियल प्रॉपर्टी में निवेश किया।
- ये दोनों प्रॉपर्टी गुडगांव के सिग्‍नेचर्स टॉवर-2 में करीब 7 करोड़ रुपए में बुक कराई गई थीं।
- एक प्रॉपर्टी की कीमत 1.44 करोड़ रुपए जबकि दूसरी की कीमत 5.36 करोड़ रुपए थी।
 
आगे पढ़ें, जानें राहुल की स्टार्ट-अप बीपीओ कंपनी के बारे में

 

स्टार्टअप बीपीओ कंपनी में हिस्सेदार
 
- राहुल गांधी बैकऑप्‍स सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड नाम की स्‍टार्ट अप बीपीओ कंपनी से भी जुड़े रहे हैं।
- दिल्ली बेस्ड इस कंपनी को 2002 में 25 लाख रुपए से शुरू किया गया था।
- 2004 तक कंपनी में राहुल गांधी की 83 फीसदी हिस्‍सेदारी थी।
- यह जानकारी 2004 में उन्होंने इलेक्शन कमीशन को एफिडेविट के जरिए दी थी।
- कंपनी के एक और निदेशक के तौर पर राहुल के पारिवारिक दोस्‍त मनोज मुट्टू का नाम बताया गया था।
- राहुल ने बाद में अपनी हिस्‍सेदारी प्रियंका गांधी के नाम कर दी थी।
- 2010 में प्रियंका 91.67 फीसदी शेयरों की मालकिन थीं।
- उन्‍हें 25 मार्च, 2009 को कंपनी का एडिशनल डायरेक्‍टर बनाया गया था।

आगे पढ़ें, कितने में खरीदी खेती की जमीन 

 

 

एग्रीकल्चरल लैंड में 28.22 लाख रुपए लगाए
 
-राहुल गांधी ने 2008 में एग्रीकल्चरल लैंड में भी पैसा लगाया था।
-फरीदाबाद के मौजा हसनपुर गांव में राहुल ने 6 एकड़ से कुछ बड़ी जमीन खरीदी थी।
-तब इस जमीन की कीमत 28 लाख 22 हजार रुपए थी, जिसकी जानकारी उन्होंने एफिडेविट में दी थी।
-हालांकि 2012 में राहुल ने यह जमीन अपनी बहन प्रियंका को गिफ्ट कर दी।
 
आगे पढ़ें, किस ब्रिटिश कंपनी में लगाया पैसा

ब्रिटिश बेस्ड कंपनी में किया था इन्वेस्टमेंट
 
- बैकऑप्‍स लिमिटेड नाम से यह कंपनी 2003 में यूके में शुरू की गई थी।
- राजनीति में आने के पहले राहुल इस कंपनी से जुड़े थे। तब कंपनी के दो डायरेक्टर थे, जिसमें एक राहुल गांधी भी थे।
- दूसरे डायरेक्‍टर अमेरिका के उलरिक मैकनाइट थे।
- 2004 के राहुल द्वारा एफिडेटि में दी गई जानकारी के मुताबिक कंपनी का बैंक अकाउंट एचएसबीसी (ब्रिटेन) में था।
- उस दौरान कंपनी के अकाउंट में 18,600 डॉलर जमा थे।
- कंपनी 2009 में बंद हो गई।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट