बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksFY-19 में फार्मा सेक्टर में टर्नअराउंड की उम्मीद, लंबी अवधि के लिए निवेश की सलाह

FY-19 में फार्मा सेक्टर में टर्नअराउंड की उम्मीद, लंबी अवधि के लिए निवेश की सलाह

एक्सपर्ट्स का मानना है कि 2 साल से अंडरपरफॉर्मर रहे सेक्टर में इस फिस्कल टर्नअराउंड देखने को मिल सकता है।

1 of

नई दिल्ली। पिछले फाइनेंशियल में पूरे साल फार्मा सेक्टर पर दबाव देखा गया। पिछले एक साल की बात करें तो बीएसई पर फार्मा इंडेक्स में 15 फीसदी की गिरावट रही, वहीं निफ्टी पर इंडेक्स 18 फीसदी कमजोर हुआ। हालांकि एक्सपर्ट्स का मानना है कि फार्मा सेक्टर से जुड़ी चिंताएं कम हो रही हैं। पिछले दिनों कई रुके प्रोडक्ट्स को मंजूरी मिली है, वहीं इस फाइनेंशियल में पिछले कई साल से ज्यादा नए प्रोडक्ट मार्केट में आएंगे। वहीं, पिछले कुछ महीनों से डोमेस्टिक के साथ विदेशी बाजारों में भी अच्छी डिमांड ग्रोथ दिख रही है। ऐसे में 2 साल से अंडरपरफॉर्मर रहे सेक्टर में इस फिस्कल टर्नअराउंड देखने को मिल सकता है। एक्सपर्ट्स ने अजंता फार्मा, शिल्पा मेडिकेयर, सनफार्मा और नेटको फार्मा में निवेश की सलाह दी है। 

 


क्या निवेश का है सही समय
एक्सपर्ट्स का कहना है कि मौजूदा समय में मार्केट वोलेटाइल है, इस लिहाज से डिफेंसिव स्टॉक्स में निवेश का सही समय है। इसमें फार्मा सेक्टर भी शामिल है, जो अट्रैकिटर वैल्युएशन पर है। पिछले एक साल के दौरान स्टॉक्स में 46 फीसदी तक गिरावट देखी गई है। ल्यूपिन, कैडिला, सिप्ला, डॉ रेड्डी, सन फार्मा और अरबिंदो फार्मा के स्टॉक्स एक साल के दौरान सस्ते हो चुके हैं। फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि फार्मा से डिफेंसिव स्टॉक्स में निवेश का सही समय है। फार्मा सेक्टर ऐसा है, जिनमें डिमांड हमेशा बनी रहती है। हालांकि पिछले दिनों घरेलू और विदेशी बाजारों में कुछ कंसर्न रहा है, जिससे सेक्टर पर दबाव रहा है। लेकिन एक्सपोर्ट को लेकर कोई चिंता नहीं दिख रही है। आगे सेक्टर में रिकवरी की उम्मीद है। 
 

FY19 में 22% दिख सकती है ग्रोथ  
रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की रिपोर्ट के अनुसार इस फाइनेंशियल ईयर में फार्मा सेक्टर के ऑपरेटिंग प्रॉफिट में 20-22 फीसदी  की ग्रोथ हो सकती है, जो 2014 के बाद सबसे तेज होगी। इस दौरान रेवेन्यू ग्रोथ 9-11 फीसदी के बीच रह सकती है। रिपोर्ट के मुताबिक, ड्रग कंपनीज के लिए इस साल पिछले साल से चुनौतियां कम रहेंगी, वहीं, इस साल कई नए प्रोडक्ट मार्केट में आने का भी फायदा मिलेगा। क्रिसिल का मानना है कि इस साल गलोबल मार्केट में भी ड्रग कंपनियों की ग्रोथ तेज होगी। 

 

सेक्टर के लिए हैं कुछ कंसर्न
इंडिया इंफोलाइन (IIFL) के फार्मा एनालिस्ट श्रीकांत अकोलकर का कहना है कि डोमेस्टिक मार्केट में ग्रोथ बेहतर है। ऐसे में जिन कंपनियों का एक्सपोजर इंडियन मार्केट में ज्यादा है, उनके लिए ये साल बेहतर रहने वाला है। लेकिन यूएस मार्केट को लेकर अभी भी कंपनियों के मार्जिन पर दबाव दिख रहा है। यूएस में प्राइसिंग प्रेशर अभी बना हुआ है। जेनेरिक ड्रग में कॉम्पिटीशन बढ़ गया है, ऐसे में सभी दिक्कतों के दूर होने में कुछ वक्त लगेगा। हालांकि जिन इंडियन कंपनियों को बेस बड़ा है और उनका बिजनेस मॉड्यूल बेहतर है, उम्मीद है कि वे दबाव हैंडल कर लेंगी। 

 

किन शेयरों में करें निवेश

अजंता फार्मा 
ब्रोकरेज हाउस अरिहंत कैपिटल ने अजंता फार्मा में 1500 रुपए के लक्ष्‍य के साथ निवेश की सलाह दी है। रिपोर्ट के अनुसार कंपनी का फोकस एशिया के अलावा अफ्रीकन मार्केट पर है। अफ्रीकन मार्केट में जेनेरिक बिजनेस में कंपनी की अच्छी पकड़ है। हालांकि कंपनी अब यूएस मार्केट में भी अपना बेस मजबूत कर रही हे। पिछले दिनों डर्मेटोलॉजी में डोमेस्टिक मार्केट में बेहतर ग्रोथ दिखाई है। 

 

शिल्पा मेडिकेयर
शिल्पामेडिकेयर हाई क्वालिटी के एक्टिव फॉर्मास्युटिकल्स इनग्रेडिएंट (APIs) बनाने वाली कंपनी है। कंपनी का फोकस अफोर्डेबल हेल्थकेयर पर है। कंपनी का क्लाइंट बेस मजबूत है। हाल ही में यूएसएफडीओ की ओर से कंपनी को एस्टेब्लिशमेंट इंसपेक्शन रिपोर्ट (EIR) जारी हुआ है। कंपनी के कुछ प्रोडक्ट भी जल्द मार्केट में आने वाले हैं। शिल्पा मेडिकेयर को फाइनेंशियल ईयर की तीसरी तिमाही में 18.41 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने शेयर के लिए 686 रुपए का लक्ष्‍य दिया है। 

 

सन फार्मा
सनफार्मा के लिए पिछले दिनों बेहतर खबर रही कि उसे प्लेक सोरायसिस की दवा के लिए यूएसएफडीए से मंजूरी मिल गई है। इस दवा को पहले यूएस बेस्ड कंपनी मर्क ने बनाया था, जिसे बाद में सनफार्मा ने वर्ल्डवाइड राइट्स खरीद लिए। इस दवा को मूजरी मिलने से सनफार्मा पर दबाव कम होगा। इससे यूएस मार्केट में कंपनी को अपना मार्केट शेयर बढ़ाने में मदद मिलेगी। कुछ नए प्रोडक्ट पाइपलाइन में हैं, जो जल्द मार्केट में आएंगे। जीएसटी के बाद रीस्टॉकिंग शुरू हो चुकी है। इन सबका फायदा कंपनी को आगे होगा। ब्रोकरेज हाउस केआर चौकसे ने शेयर के लिए 633 रुपए का लक्ष्‍य रखा है। 

 

नैटको फार्मा
आईआईएएफएल के फार्मा एनालिस्ट श्रीकांत अकोलकर ने नैटको फार्मा में 1006 रुपए के लक्ष्‍य के साथ निवेश की सलाह दी है। नैटको फार्मा इंडिया की तेजी से बढ़ती हुई फार्मा कंपनी है। देश भर में 5 मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी है। मौजूदा समय में कंपनी के 66 इंडियन और इंटरनेशनल ग्रांटेट पेटेंट हैं। 


(नोट-निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स व ब्रोकरेज हाउस के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।)

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट