Home » Market » StocksExperts says rally in stock market continue in 2018, these may be key sectors

2018: स्टॉक मार्केट 10% तक दिखा सकता है तेजी, ऑटो-NBFC समेत इन सेक्टर में बनेंगे मौके

एक्सपर्ट्स का कहना है कि जनवरी 2017 में जो रैली शेयर मार्केट में शुरू हुई थी, वह अभी खत्म नहीं हुई है।

1 of
नई दिल्ली। शेयर मार्केट के लिहाज से साल 2017 ब्लॉक बस्टर साबित हुआ है। इस दौरान जहां सेंसेक्स ने 28 फीसदी और निफ्टी ने भी 28 फीसदी तक रिटर्न दिया है, वहीं पूरे साल में निवेशकों ने 45 लाख करोड़ रुपए कमा लिए हैं। ऐसे में अब निवेशकों की निगाहें साल 2018 पर हैं। मार्केट एक्सपर्ट्स का कहना है कि जनवरी 2017 में जो रैली शेयर मार्केट में शुरू हुई थी, वह अभी खत्म नहीं हुई है। 2018 में भी निफ्टी मौजूदा स्तर से 10 फीसदी तक तेजी दिखा सकता है और यह 11500 के स्तर को छू सकता है। इस दौरान ऑटो, एनबीएफसी, इंफ्रा, फार्मा और कंजम्शन सेक्टर में निवेश के नए मौके बनेंगे। 
 
30 दिसबंर 2016 को निफ्टी 8185 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं, 2017 के अंतिम कारोबारी दिन 29 दिसंबर को निफ्टी 10530 के स्तर पर बंद हुआ। यानी एक साल के दौरान निफ्टी में 28 फीसदी से ज्यादा रिटर्न मिला है। वहीं, 30 दिसंबर 2016 को सेंसेक्स 26626 के स्तर पर बंद हुआ था, जो 29 दिसंबर 2017 को यह 34056 के स्तर पर बंद हुआ। एक साल में सेंसेक्स में 28 फीसदी ग्रोथ रही। 
 
इन फैक्टर्स पर रहेगी मार्केट की नजर 
साल 2018 में मार्केट पर असर डालने वाले प्रमुख फैक्टर्स में क्रूड की कीमतें, कॉरपोरेट अर्निंग, रुपए की चाल, जियो पॉलिटिकल टेंशन, यूएस फेड का ब्याज दरों पर निर्णय, आरबीआई मॉनेटरी पॉलिसी, फिस्कल डेफिसिट, कॉरपोरेट अर्निंग और बजट प्रमुख हैं। इनकी वजह से मार्केट में उतार-चढ़ाव आ सकता है। 
 
कॉरपोरेट अर्निंग सुधरने की उम्मीद
एक्सपर्ट्स का कहना है कि 2017 में कॉरपोरेट अर्निंग मार्केट के लिए सबसे बड़ी चिंता रही है, लेकिन नोटबंदी और जीएसटी का असर कम होने से आगे कॉरपोरेट अर्निंग सुधरने की उम्मीद है। इससे मार्केट का वैल्युएशन ऊंचा रहने के बाद भी ज्यादा चिंता वाली बात नहीं है। रेटिंग एजेंसी मूडीज के अनुसार 2017 में सप्लाई चेन में आने वाली दिक्कतें दूर हो रही हैं, जिससे 2018 में कंपनियों की ग्रोथ रेट मजबूत रहने की उम्मीद है। मूडीज के अनुसार 2018 में कंपनियों का प्री-बजट मुनाफा 6 फीसदी बढ़ने का अनुमान है। इनकम बेहतर होने, ग्रोथ रेट मजबूत होने और प्रोडक्शन कैपेसिटी बढ़ने से कंपनियों को अपना कर्ज कम करने में भी मदद मिलेगी। 
 
इन वजहों से भी मार्केट को फायदा
फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि सरकार इस साल से खासतौर पर रूरल सेक्टर, पावर और इंफ्रा पर स्पेंडिंग बढ़ाएगी। फरवरी में पेश होने वाले बजट में इसका एलान भी हो सकता है। स्पेंडिंग बढ़ने का फायदा मार्केट को होगा। वहीं, स्टैलियन एसेट्स डॉट कॉम के सीआईओ अमीत जेसवानी का कहना है कि2019 लोकसभा चुनाव के पहले इस साल सरकार द्वारा किए जाने वाले रिफॉर्म्स में तेजी दिखेगी। जीएसटी का पॉजिटिव असर अब दिखना शुरू हो गया है। नोटबंदी का असर भी कम हो चुका है। इससे कंपनियों की भी अर्निंग बेहतर होगी। ट्रेड स्विफ्ट के रिसर्च हेड संदीप जैन का कहना है कि कंजम्पशन को लेकर जो दिक्कतें थीं, दूर हो रही हैं। कंजम्पशन स्टोरी शुरू होने से मार्केट को फायदा होगा। 
 
इन सेक्टर्स में बनेंगे मौके
एक्सपर्ट्स का कहना है कि साल 2018 एनबीएफसी, फार्मा, रूरल सेक्टर, इंफ्रा, ऑटो और एफएमसीजी सेक्टर के लिए बेहतर साबित हो सकता है। 
 
फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि फार्मा सेक्टर को मार्केट की तेजी का फायदा अभी तक नहीं मिला है। अच्छे शेयर भी सस्ते वैल्युएशन पर हैं, ऐसे में यह सेक्टर 2018 में अच्छा परफार्म कर सकता है। ठक्कर इंफ्रा और पावर सेक्टर पर भी बुलिश हैं। वहीं, संदीप जैन ने फार्मा और एफएमसीजी सेक्टर में ग्रोथ की उम्मीद जताई है। कॉरपोरेट स्कैन डॉट कॉम के सीईओ विवेक मित्तल का कहना है कि एनबीएफसी सेक्टर का आउटलुक काफी अच्छा है। एसएमई और हाउसिंग सेग्मेंट में क्रेडिट ग्रोथ अच्छी है। व्हीकल सेग्मेंट में भी एनबीएफसी ने 16-17 फीसदी ग्रोथ दिखाई है।
 
निफ्टी में 10% दिख सकती है ग्रोथ
मनी भास्कर द्वारा अलग-अलग एक्सपर्ट्स से बात करने पर यह सामने आया है कि निफ्टी-50 में मौजूदा लेवल से एक साल में 10 फीसदी की ग्रोथ दिख सकती है। हालांकि कुछ ने 15 फीसदी तक और कुछ ने 5 फीसदी ग्रोथ की उम्मीद भी जताई है। वहीं, ब्रोकरेज हाउस मॉर्गन स्टेनली के अनुसार 2018 में सेंसेक्स 35700 के लेवल तक जा सकता है। नोमुरा ने अगले साल निफ्टी के लिए 11880 के लेवल का लक्ष्‍य रखा है। गोल्डमैन सैक्स के अनुसार साल 2018 में सेंसेक्स और निफ्टी दोनों ही मौजूदा लेवल से 16 फीसदी तक रिटर्न दे सकते हैं। 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट