बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksयूनिटेक को कंट्रोल में ले सकती है सरकार, NCLT ने 10 डायरेक्टर्स के नाम देने को कहा

यूनिटेक को कंट्रोल में ले सकती है सरकार, NCLT ने 10 डायरेक्टर्स के नाम देने को कहा

कर्ज के बोझ से दबी रियल्टी कंपनी यूनिटेक पर अब सरकार का कंट्रोल होगा।

1 of

नई दिल्ली। कर्ज के बोझ से दबी रियल्टी कंपनी यूनिटेक पर अब सरकार का कंट्रोल हो सकता है। नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) ने सरकार को यह अधिकार दिया है कि वह रियल्टी फर्म के बोर्ड में अपने डायरेक्टर्स नियुक्त करें। सरकार को 10 डायरेक्टर्स के नाम 20 दिसंबर तक सबमिट करने हैं। 

 

 

2 सदस्यों वाली एनसीएलटी बेंच ने सरकार को यह निर्देश दिया है कि वह यूनिटेक रियल्टी के लिए अपने 10 डायरेक्टर्स नियुक्त करे। यह भी कहा गया है कि कंपनी के मौजूदा डायरेक्टर्स न तो कंपनी के और न ही पर्सनल एसेट्स बेच सकते हैं। इसके पहले सरकार ने एनसीएलटी में कंपनी का कंट्रोल लेने के लिए याचिका दायर की थी। कंपनी मैनेजमेंट पर खरीददारों से जुटाए गए फंड का मिसयूज करने का आरोप है। एनसीएलटी ने यूनिटेक को भी नोटिस भेजकर मामले में जवाब मांगा था। 

 

NCLT ने खारिज की यूनिटेक की अर्जी 
एनसीएलटी ने यूनिटेक की उस अर्जी को खारिज कर दिया, जिसमें यूनिटेक बोर्ड को बनाए रखने की बात कही गई थी। एनसीएलटी ने कहा है कि बोर्ड के नए डायरेक्टर सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार काम करेंगे। 

 

 

ये भी पढ़े -  यूनिटेक मामला: क्‍या सत्‍यम की तरह मुमकिन है यूनिटेक का रिवाइवल

 

723 करोड़ रुपए का डिफॉल्ट
सरकार ने कहा कि कंपनी छोटे जमाकर्ताओं और कर्ज का 723 करोड़ रुपए का डिफॉल्ट कर चुकी है। कंपनी इस स्थिति में नहीं है कि वह बकाएदारों के पैसे वापस कर पाए। कंस्ट्रक्शन का काम बंद पड़ा हुआ है, ऐसे में करीब 19 हजार खरीददारों का भविष्‍य साफ नहीं है। प्रमोटर्स की होल्डिंग 17 फीसदी रह गई है, जिसमें से 75 फीसदी गिरवी है। 

 

यूनिटेक ने प्रतिक्रया

यूनिटेक ने NCLT के आदेश पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि अगर वर्तमान मैनेजमेंट में किसी भी तरह का बदलाव किया गया तो इससे स्‍टेकहोल्‍डर्स को नुकसान हो सकता है।

 

 

MCA ने दाखिल की थी अर्जी 
कॉरपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री ने कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में कंपनी का मैनेजमेंट कंट्रोल पाने के लिए अर्जी दाखिल की थी। साथ ही कंपनी के मौजूदा बोर्ड को भंग करने की मांग की गई थी। सरकार ने कहा था कि वह यूनिटेक के बोर्ड में अपने 10 मनोनीत सदस्य लाना चाहती है। सरकार ने मौजूदा डायरेक्टर और सीएफओ की संपत्ति बेचने पर भी रोक लगा दी है। 

 

शेयर में 20 फीसदी की तेजी 

शुक्रवार के कारोबार में यूनिटेक के शेयरों में 20 फीसदी की तेजी देखी गई। कंपनी का शेयर गुरूवार को 6.10 रुपए के भाव पर बंद हुआ था। वहीं, शुक्रवार को कारोबार के शुरूआत में यह 6.15 रुपए के भाव पर खुला। कारोबार के दौरान यह 20 फीसदी की तेजी के साथ 7.30 रुपए के भाव पर पहुंच गया। 

 

क्या है मामला 

यूनीटेक से फ्लैट खरीदने के इच्छुक लोगों ने फर्म के पास काफी पहले धनराशि जमा करा दी थी, लेकिन उन्हें न तो तय समय पर फ्लैट मिल सका और न ही फर्म ने उनके पैसे लौटाए। इस मामले में खरीददारों ने सुप्रीम कोर्ट का रूख किया था। कुछ लोग फ्लैट का मलिकाना हक चाहते हैं जबकि कुछ अपनी धनराशि लेना चाहते हैं। 

 

अभी ये है देनदारी

 

अंडर कस्ट्रक्शन घर 20 हजार
बुक पर नहीं पूरे हुए घर 16300
सेल से हुई इनकम 7800 करोड़
प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए फंड की जरूरत 900 करोड़

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट