बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksबजट 2018: शेयर बाजार को लांग टर्म कैपिटल गेन टैक्स का डर, इन सेक्टर्स पर है नजर

बजट 2018: शेयर बाजार को लांग टर्म कैपिटल गेन टैक्स का डर, इन सेक्टर्स पर है नजर

मार्केट की निगाहें आज पेश होने वाले आम बजट पर है, जिससे निवेशकों को बहुत उम्मीदें हैं।

1 of

नई दिल्ली. बजट के पहले 2 दिन से मार्केट में सतर्क रुख दिखा है। अब मार्केट की निगाहें आज पेश होने वाले आम बजट पर है, जिससे निवेशकों को बहुत उम्मीदें हैं। वैसे भी 2019 इलेक्शन के पहले यह अंतिम बजट होगा, इससे उम्मीदें और बढ़ गई हैं। बजट से मार्केट को क्या उम्मीदें हैं, इस बारे में हमने एक्सपर्ट्स से बात की है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि बजट में नई नौकरियां बढ़ाने पर सरकार का जोर रह सकता है। सरकार अफोर्डेबल हाउसिंग, कंस्ट्रक्शन, रूरल और पावर सेक्टर के अलावा लेबर ओरिएंटेड इंडस्ट्री पर जोर दे सकती है। हालांकि, लांग टर्म कैपिटल टैक्स को लेकर एक्सपर्ट्स आशंकित भी हैं। 

बजट 2018 - जेटली आज पेश करेंगे बजट, अच्‍छे दिन और ग्रोथ के बीच दिखाना होगा बैलेंस

 

 

लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स
बजट में शेयरों में निवेश पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगाने का एलान किया जा सकता है। सरकार अभी शेयरों पर सिक्योरिटी ट्रांजैक्शन टैक्स लगाती है। अगर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगा तो 1 साल बाद शेयर बेचने पर होने वाले मुनाफे पर टैक्स देना होगा। अभी 1 साल से कम समय में शेयर बेचने पर 15 फीसदी का शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन टैक्स देना होता है। फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेकटर जगदीश ठक्कर का कहना है कि माना जा रहा है कि सरकार अपनी फाइनेंशियल स्थिति मजबूत करने के लिए यह टैक्स लगा सकती है। अगर ऐसा होता है तो शेयर मार्केट में इसे लेकर निगेटिव रिएक्शन देखने को मिल सकता है। 

 

रूरल फंडिंग बढ़ने से इन सेक्टर्स को फायदा
ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल की रिपोर्ट के मुताबिक सरकार इस बजट में रूरल स्कीम्स सेक्टर पर अपनी स्पेंडिंग बढ़ा सकती है। सरकार किसानों की आय बढ़ाने के लिए एग्रीकल्चर सेक्टर को लेकर बड़े एलान कर सकती है। इसका फायदा रूरल सेक्टर के अलावा ऑटो सेक्टर को भी मिलेगा। वैसे भी ऑटो सेक्टर में कंजम्पशन स्टोरी बेहतर हुई है। वहीं, बेहतर मानसून का भी फायदा इस सेक्टर को मिलेगा। एक्सपर्ट्स का मानना है कि रूरल इकोनॉमी बेहतर होने से खासतौर से टू-व्हीलर इंडस्ट्री को बढ़ावा मिलेगा। ट्रेड स्विफ्ट के रिसर्च हेड संदीप जैन के अनुसार बजट के बाद फर्टिलाइजर शेयरों में अच्छा रिटर्न दिख रहा है। 

 

बजट 2018: मिडिल क्‍लास पर इनकम टैक्‍स का बोझ कम कर सकते हैं जेटली

 

जॉब बढ़ाने पर रहेगा जोर
क्रिस रिसर्च के फाउंडर अरुण केजरीवाल का कहना है कि बजट में सरकार रोजगार बढ़ाने पर जोर दे सकती है। इसके लिए एसएमई के लिए नया एलान हो सकता है। वहीं, रूरल इकोनॉमी बढ़ाने पर भी सरकार जोर देगी। एक्सपर्ट्स का यह भी मानना है कि बजट में लेबर ओरिएंटेड इंडस्ट्रीज को बढ़ावा मिल सकता है। खासतौर से टेक्सटाइल और लेदर इंडस्ट्री को नया पैकेज मिल सकता है। 

 

अफोर्डेबल हाउसिंग, पावर और इंफ्रा पर जोर
एक्सपर्ट्स का कहना है कि सरकार का जोर अफोर्डेबल हाउसिंग पर है। ऐसे में बजट से इस सेग्मेंट को भी काफी उम्मीदें हैं। वहीं, पिछले 3 साल से इंफ्रा पर लगातार काम हो रहा है, जिसके आगे और तेज होने की उम्मीदें हैं। बजट में इंफ्रा सेक्टर को लेकर भी बड़े एलान की उम्मीद है। इसके अलावा पावर सेक्टर भी सरकार की टॉप लिस्ट में हैं। सरकार ने 2019 तक सभी को बिजली देने का वादा किया था, जिसे वह पूरा करना चाहेगी। ऐसे में इंफ्रा, रूरल और पावर सेक्टर से जुड़े शेयरों में आगे अच्छी तेजी आ सकती है। वहीं, अगर पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में लाने के संकेत मिलते हैं, तो आगे ऑटो व लॉजिस्टिक शेयर भी फोकस में रहेंगे। 

 

किन सेक्टर्स पर रखें नजर
एक्सपर्ट्स के अनुसार बजट के बाद फर्टिलाइजर, सीमेंट, रियल्टी, कंस्ट्रक्शन, ऑटोमोबाइल, कैपिटल गुड्स और इंफ्रा सेक्टर से जुड़े शेयरों में तेजी आ सकती है। ऐसे में इनसे जुड़े कुछ अच्छे शेयरों में आगे बेहतर रिटर्न मिल सकता है। 

 

Live Budget 2018 News - आम बजट 2018 से जुड़ी हर खबर

 

जानिये बजट 2018 से उम्मीदें से जुड़ी ताज़ा खबरें

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट