Utility

24,712 Views
X
Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

Petrol Price: आज फिर महंगे हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल Stock Tips: हफ्ते के आखिरी दिन इन शेयरों में होगी कमाई, उठाएं फायदा ऊंचे स्तरों से गिरावट के बाद मिडकैप में बने मौके, ये शेयर दे सकते हैं 50% तक रिटर्न 13 हजार Cr के टेंडर वापस या रद्द, मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए बड़ी पहल ट्रम्‍प ने उत्तर कोरियाई तानाशाह के साथ रद की बैठक, अमेरिकी स्‍टॉक मार्केट में गिरावट पेट्रोल-डीजल पर 15% तक ड्यूटी घटाएं राज्य, दे सकते हैं केंद्र से ज्यादा राहतः नीति आयोग Forex Market: रुपए 8 पैसे मजबूत होकर 68.34 प्रति डॉलर पर बंद लॉजिस्टिक सेक्टर में आएंगी 30 लाख नई नौकरियां, GST लागू होने का असर: रिपोर्ट महाराष्ट्र समेत 6 राज्यों में कल से लागू होगा इंट्रा स्टेट ई-वे बिल मोदी सरकार का 5वें साल में होगा असल टेस्‍ट, महंगा क्रूड और रोजगार सबसे बड़ा चैलेंज भारत के किशनगंगा प्रोजेक्‍ट में वर्ल्‍ड बैंक नहीं देगा दखल, खारिज की पाक की अपील अस्थायी तौर पर शटडाउन हुआ ‘NSE NOW’, एक्सजेंच ने बताई टेक्निकल प्रॉब्लम Stock Market: IT स्टॉक्स में उछाल से सेंसेक्स 318 अंक बढ़ा, निफ्टी 10500 के पार बंद सरकारी ऑर्गेनाइजेशंस में प्रोक्‍योरमेंट और सर्विसेज की डिलीवरी भी हैं भ्रष्‍टाचार की वजह: CVC खास स्टॉक: 12% तक टूटा ONGC, विंडफाल टैक्स लगाने की खबर का असर
बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksखास खबरः जो काम अंबानी और बिड़ला नहीं कर पाए, वो TCS ने ऐसे कर दिखाया

खास खबरः जो काम अंबानी और बिड़ला नहीं कर पाए, वो TCS ने ऐसे कर दिखाया

नई दिल्ली.  देश की आईटी कंपनी ने सोमवार यानी 23 अप्रैल 2018 को वह काम कर दिखाया, जो अब तक कोई भी भारतीय कंपनी नहीं कर पाई। टीसीएस  ऐसी पहली भारतीय कंपनी बनी जिसका मार्केट कैप 10,000 करोड़ डॉलर (6.6 लाख करोड़ रुपए) पार कर गया। जिसके साथ ही वह दुनियाभर के टॉप 63 कंपनियों के एलीट क्लब में शामिल हो गई। एक्सपर्ट्स का कहना है कि टीसीएस लीडरशिप में कंसिस्टेंसी, बेहतर मैनेजमेंट, क्लीयर स्ट्रैटेजी, क्लाइंट के साथ बेहतर रिलेशन के साथ ही नई टेक्नोलॉजी को आसानी से स्वीकार करने के साथ उनपर फोकस करने का फायदा कंपनी को मिला है। ये ऐसे कुछ कारण हैं, जिसकी वजह से टीसीएस आज देश की सबसे मूल्यवान कंपनी बनी है। 

 
TCS की राह में ये साल थे मील के पत्‍थर 

अगस्‍त 2004  10 अरब डॉलर
मार्च 2006 20 अरब डॉलर
नवंबर 2006 25 अरब डॉलर
दि‍संबर 2010 50 अरब डॉलर
जून 2014 75 अरब डॉलर 
अप्रैल 2018 100 अरब डॉलर

 

लीडरशिप में स्थिरता, क्लीयर स्ट्रैटेजी का फायदा 
फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर के मुताबिक टीसीएस अगस्त 2004 में शेयर मार्केट में लिस्ट हुई थी। पिछले 14 साल के प्रदर्शन की बात करें तो उनके लीडरशिप में कंसिस्टेंसी रही है। मैनेजमेंट लेवल पर मजबूती से काम किया गया। लीडरशिप और मैनेजमेंट के बीच बेहतर कम्युनिकेशन रहा है। वहीं, कंपनी ने नई टेक्नोलॉजी को सही से न केवल अडॉप्ट किया, बल्कि उनपर फोकस भी किया। मसलन कंपनी ने डिजिटाइजेशन में बड़ी डील हासिल की। कंपनी की खासियत यह भी है कि उनका अपने क्लाइंट के साथ रिलेशन मजबूत रहा है। इस सब बातों का फायदा उन्हें कारोबार बढ़ाने में मिला है। 
 
 
ऐसे कारोबार को लगातार बनाया बेहतर 
जियोजीत बीएनपी परिबास के इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटेजिस्ड हेड गौरांग शाह का कहना है कि टीसीएस की स्ट्रैटेजी और फोकस्ड एरिया क्लीयर है। कंपनी ने पिछले दिनों वाइड रेंज प्रोडक्ट सर्विसेज से अपना मार्जिन बेहतर किया है। अमेरिका में कारोबार को लेकर जो चिंताएं थीं, उनको टॉप मैनेजमेंट ने सही से हैंडल किया है। समय-समय पर स्ट्रैटेजी में परिवर्तन लाकर कारोबार को लगातार बेहतर बनाने का काम किया है। लीडरशिप में मजबूती और मैनेजमेंट के बेहतर काम करने के तरीकों से कंपनी को क्लाइंट मजबूत करने में फायदा मिला है। दूसरी राइवल कंपनियों से निकलकर निवेशकों ने टीसीएस भर भरोसा जताया। 
 टीसीएस की इस उपलब्धि पर कंपनी के सीईओ और एमडी राजेश गोपीनाथन ने कहा, ‘हम खुश हैं और इस उपलब्धि को हासिल करने में मदद करने के लिए इम्प्लाइज और कस्टमर्स के आभारी हैं। हम उत्साहित हैं। इस दौरान कस्टमर्स ने उनकी ग्रोथ और बदलाव के सफर में भागीदार बनकर कंपनी को बड़ा बनने का मौका दिया।’
 

TCS Vs Infosys

 

रेवेन्यू

FY TCS Infosys
FY18 1910 करोड़ डॉलर 1094 करोड़ डॉलर
FY19 10% ग्रोथ अनुमान 6-8% ग्रोथ अनुमान (गाइडेंस)

 

 मार्जिन

FY TCS Infosys
FY18 24.8% 24.3%
FY19 26-28% अनुमान 22-24% अनुमान


14 साल में 1550 फीसदी रिटर्न 
टीसीएस स्टॉक मार्केट में 25 अगस्त 2004 में लिस्ट हुआ था। उस दौरान कंपनी का इश्‍यू प्राइस 850 रुपए फिक्स हुआ था। बीते 14 साल में कंपनी दो बार बोनस (1ः1) शेयर दे चुकी है। इस प्रकार अगर किसी ने आईपीओ में एक शेयर खरीदा होता तो उसके पास आज टीसीएस के 4 शेयर होते। आज टीसीएस के एक शेयर की कीमत 3415 रुपए हो गई है। बोनस शेयर को कै्ल्कुलेट करें तो टीसीएस बीते 14 साल में लगभग 1550 फीसदी रिटर्न दे चुकी है। अगर आईपीओ में किसी को 10 हजार रुपए के शेयर मिले होते, तो उनकी वैल्यू बढ़कर 1.65 लाख रुपए (एक्स डिविडेंड) हो गई होती। 

 

 

ग्लोबल एलीट क्लब में शामिल
टीसीएस दुनिया की 64वीं कंपनी है जिसका मार्केट कैप 10000 करोड़ डॉलर या इससे ज्यादा है। इस मामले में एप्पल 84000 करोड़ डॉलर के साथ दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी है। वहीं, गूगल की पैरंट कंपनी एल्फाबेट का मार्केट कैप 74603 करोड़ डॉलर, एमेजॉन का मार्केट कैप 74079 करोड़ डॉलर, माइक्रोसॉफ्ट का मार्केट कैप 73100 करोड़ डॉलर, फेसबुक का मार्केट कैप 48200 करोड़ डॉलर, नेटफ्लिक्स का मार्केट कैप 14200 करोड़ डॉलर और आईबीएम का मार्केट कैप 13300 करोड़ डॉलर है।

 

टेक कंपनियों में दुनिया में कहां टिकती है टीसीएस 

कंपनी मार्केट कैप (अरब डॉलर में)
Apple 840
माइक्रोसॉफ्ट 731
सिस्को 212
अल्फाबेट 747
इंटेल 241
ओरेकल 188.7
IBM 133.5
SAP 129.7
असेंचर 102.1
TCS 100
कॉग्निजेंट 47.9
इंफोसिस 39.1
HCL 22.8
विप्रो 20.3

 

आगे पढ़ें, कई देशों की जीडीपी से ज्यादा दौलत........

 

 

Trending

NEXT STORY

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.