बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksSBI और PNB में डूब गए 10 हजार करोड़ रु, जानें अपने बैंक का भी हाल

SBI और PNB में डूब गए 10 हजार करोड़ रु, जानें अपने बैंक का भी हाल

बुधवार के कारोबार के दिन देश के बड़े सरकारी बैंकों की दौलत एक झटके में कम होने लगी।

1 of

नई दिल्ली। अगर आप भी बैंक में निवेशक हैं तो आपके लिए फिलहाल बुरी खबर नहीं आ रही है। असल में भारतीय बैंकों का करीब 10 लाख करोड़ का लोन अभी फंसा हुआ है। इसी को लेकर केंद्रीय बैंक रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बैंकों पर सख्‍ती की है। वहीं, आरबीआई ने लोन के रीस्ट्रक्चरिंग से जुड़ी कुछ स्कीम भी खत्म कर दी है। इसी का असर बुधवार को बैंकों में देखा जा रहा है। 

 

 

सरकारी बैंकों में बड़ी गिरावट

बुधवार के कारोबार के दिन देश के बड़े सरकारी बैंकों की दौलत एक झटके में कम होने लगी है। देश के दो सबसे बड़े सरकारी बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और पंजाब नेशनल बैंक में निवेशकों की दौलत 10 हजार करोड़ रुपए डूब गई। वहीं, सभी प्रमुख सरकारी बैंकों के शेयरों में गिरावट रही है और कारोबार के दौरान कुछ घंटों में ही 13 सरकारी बैंकों में निवेशकों की दौलत 15 हजार करोड़ से ज्यादा डूब गई। सबसे ज्यादा दबाव पंजाब नेशनल बैंक में दिख रहा है। 

 

 

किस बैंक में कितनी डूबी निवेशकों की दौलत 

PNB 3300 करोड़ रु
SBI 6053 करोड़ रु
बैंक ऑफ इंडिया 1250 करोड़ रु
IDBI 951 करोड़ रु
केनरा बैंक 984 करोड़ रु
बैंक ऑफ बड़ौदा 678 करोड़ रु
सिंडिकेट बैंक 296 करोड़ रु
विजया बैंक 188 करोड़ रु
यूनियन बैंक 436 करोड़ रु
इलाहाबाद बैंक 176 करोड़ रु
कॉरपोरेशन बैंक  166 करोड़ रु
आंध्रा बैंक 130 करोड़ रु
ओरिएंटल बैंक 232 करोड़ रु

आगे पढ़ें, पीएनबी को लगा एक और बड़ा झटका 

 

 

11,330 करोड़ रुपए के फ्रॉड का मामला 
पंजाब नेशनल बैंक में 1.8 अरब डॉलर (करीब 11,330 करोड़ रुपए) के फ्रॉड और गलत तरीके से ट्रांजैक्‍शन का मामला सामने आया है। यह ट्रांजैक्‍शन बैंक की मुंबई स्थित ब्रांच से हुआ। इस खबर के बाद 11.48 बजे तक बीएसई पर पीएनबी के स्टॉक 7.82 फीसदी तक टूट गए। इस दौरान बैंक में निवेश करने वालों को करीब 3100 करोड़ का नुकसान हो गया। 

 

चुनिंदा अकाउंट होल्‍डर्स को फायदा
- स्‍टॉक एक्‍सचेंज बीएसई को दी जानकारी में बैंक ने एक स्‍टेटमेंट में कहा है कि यह ट्रांजैक्‍शंस कुछ चुनिंदा अकाउंट होल्‍डर्स को फायदा पहुंचाने के लिए हुए थे।
- साथ ही इस ट्रांजैक्‍शन के आधार पर दूसरे बैंकों ने इन कस्‍टमर्स को विदेश में एडवांस पैसे ट्रांसफर किए।
आगे पढ़ें, आरबीआई ने क्या चलाया डंडा 

RBI ने क्या कहा 
-रि‍जर्व बैंक ऑफ इंडि‍या (आरबीआई) ने बैंकों में बढ़ते एनपीए से नि‍पटने के लि‍ए सख्‍त कदम उठाया है। आरबीआई ने बैड लोन के निपटारे के लि‍ए नि‍यमों को सख्‍त करते हुए बड़े एनपीए नि‍पटाने के लि‍ए समयसीमा तय कर दी है। आरबीआई ने कहा कि बैंकों की ओर से तय समयसीमा को पूरा करने में हुई कि‍सी भी तरह की वि‍फलता या बैंकों की ओर से खातों की वास्‍तवि‍क स्‍थि‍ति छुपाने वाले कि‍सी एक्‍श्‍ान पर आरबीआई की ओर से सख्‍त नि‍रीक्षण कि‍या जाएगा। 


-आरबीआई ने SDR और S4A जैसी मौजूदा डेट रीस्‍ट्रक्‍चरिंग स्‍कीमों को भी वापस ले लि‍या है।  इससे आने वाले दिनों में बेंकों की प्रोविजनिंग बढ़ेगी और उन्हें अतिरिक्त पैसों का इंतजाम करना पड़ेगा, जिससे दबाव बढ़ेगा। 

 

-आरबीआई ने बैंकों को निर्देश दि‍या है कि‍ वह चुनिंदा डि‍फाल्‍ट कर्जधारकों पर बने डाटा को आरबीआई के साथ प्रत्‍येक शु्क्रवार को शेयर कि‍या जाए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट