Home » Market » Stocksकोचिंग से बायजू को हो रही 260 करोड़ सालाना इनकम- Know how byju make a 260 crore coaching class company

40 लाख छात्रों को पढ़ा रहा है यह शख्‍स, 260 करोड़ है सालाना इनकम

आज कोचिंग के दम पर बायजू की सालाना कमाई 260 करोड़ रुपए पहुंच चुकी है।

1 of

नई दिल्ली. गांव में पढ़ाई शुरू करने वाले इस शख्स ने अपने टैलेंट के दम पर अच्छी नौकरी हासिल की। मोटी सैलरी की नौकरी छोड़ अपनी कोचिंग क्लास शुरू कर दी। आज यह कोचिंग इतनी बड़ी हो चुकी है कि छात्रों की संख्‍या 40 लाख पहुंच गई है। उसकी कोचिंग अब एक बड़ी कंपनी में तब्दील हो चुकी है और दुनिया में अपनी धाक जमा ली है। इस शख्‍स का नाम है बायजू रविंद्रन, जो ऑनलाइन एजुकेशन स्टार्टअप बायजू के फाउंडर हैं। आज कोचिंग के दम पर बायजू की सालाना कमाई 260 करोड़ रुपए पहुंच चुकी है। नौकरी छोड़ सिर्फ 2 लाख से शुरू की कोचिंग......... 

 

ये भी पढ़ें: पिता चाहते थे कुली बने, बेटे ने खड़ी कर दी 200 करोड़ की कंपनी

 

ऐसे शुरू हुआ सफर  

बायजू रविंद्रन की शुरुआती शिक्षा उनके गांव अझीकोड से शुरू हुई जो कन्नूर जिले में हैं। कालीकल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग पूरी कर शिपिंग कंपनी में नौकरी की। उसी दौरान अपने कुछ दोस्तों को एमबीए के एग्जाम की तैयारी में मदद करने की सोची और उनके लिए टीचिंग शुरू की। बेहतर रिजल्ट दिखा तो दोस्तों ने कोचिंग क्लास शुरू करने की सलाह दी। यहीं से बायजू के एक सफल बिजनेसमैन बनने का सफर शुरू हुआ।

 

2 लाख रुपए से शुरू की थी कोचिंग
बायजू ने महज 2 लाख रुपए से अपनी कोचिंग क्लास शुरू की थी। बाद में उन्हें ज्यादा लोगों को एजुकेशन प्रोवाइड करने के लिए एक खास आइडिया सूझा और उन्होंने 2011 में बायजू नाम से अपना स्टार्टअप तैयार कर लिया है। आज एजुकेशन प्रोवाइड कराने वाली इस कंपनी की सालाना कमाई 260 करोड़ रुपए तक पहुंच गई है।

 

 

आगे पढ़ें, किस आइडिया ने बदल दी उनकी किस्मत ...

 

शुरू किया ऑनलाइन टीचिंग प्रोग्राम
 
रविंद्रन फुल टाइम कोचिंग क्लास चलाने लगे। वे कई और शहरों में जाकर भी कोचिंग क्लास लेते थे। बाद में उन्होंने सोचा कि क्यों न एक ही जगह रहकर अपने सभी छात्रों तक पहुंचा जा सके। यहीं उन्होंने पहली बार 2009 में CAT के लिए ऑनलाइन वीडियो बेस्ड लर्निंग प्रोग्राम शुरू किया। यह ऐसा आइडिया था, जिसके बाद से उनका एक नया सफर हुआ।
 
2011 में अपनी कंपनी शुरू की


रविंद्रन ने बायजू नाम से 2011 में अपनी कंपनी शुरू की। कंपनी का फोकस CAT के अलावा चौथी से 12वीं क्लास के छात्रों को ऑनलाइन कोचिंग प्रोवाइड करने पर था। उनकी कोचिंग में छात्रों की संख्‍या बढ़ने लगी। 2015 में उन्होंने अपना फ्लैगशिप प्रोडक्ट BYJU’s- द लर्निंग एप लॉन्च किया। यह उनके लिए गेमचेंजर साबित हुआ। स्मार्टफोन की बढ़ती लोकप्रियता के बीच उनका यह एप भी पॉपुलर होता गया।  

 

 

आगे पढ़ें, कैसे हो रही कमाई 

 

40 लाख छात्र बायजू से जुड़े 
कंपनी ऑनलाइल कंटेंट उपलब्ध करवाती है। कुछ कंटेंट तो फ्री हैं, लेकिन एडवांस लेवल के लिए फीस देनी होती है। मौजूदा समय में 40 लाख छात्र बायजू से जुड़े हैं। इसमें से करीब 7 लाख पेड सब्सक्राइबर्स हैं। मौजूदा समय में बायजू के साथ 1000 कर्मचारी जुड़े हुए हैं। 

 

260 करोड़ सालाना रेवेन्यू 
रविंद्रन ने जब कोचिंग क्लास शुरू की थी तो सिर्फ 2 लाख रुपए निवेश किया था। कंपनी बनने के बाद2011-12 में उनकी कंपनी का रेवेन्यू 4 करोड़ रुपए था, जो 2012-13 में बढ़कर 12 करोड़, 2013-14 में बढ़कर 20 करोड़, 2014-15 में बढ़कर 48 करोड़ और 2015-16 में बढ़कर 120 करोड़ रुपए हो गया। यह 2016-17 में बढ़कर 260 करोड़ रुपए हो गया। 

 

 

आगे पढ़ें, अब विदेश में जमाएंगे धाक 

अब विदेश में जमाएंगे धाक 


- बायजू ने हाल ही में ऑनलाइन ट्यूटरिंग ब्रॉन्ड ट्यूटर विस्ता और एड्यूराइट को खरीदा है। ये दोनों स्टार्टअप भी विदेशों में ऑनलाइन एजुकेशन से जुड़ी हैं। इसके साथ ही बायजू ने अमेरिका और इंग्लैंड जैसे देशों में भी अपने कदम मजबूती के साथ जमाने शुरू कर दिए हैं।


 - BYJU’s- द लर्निंग एप से कुल रेवेन्यू का 90 फीसदी हिस्सा आ रहा है। वहीं ओवरसीज यूजर्स से आने वाले रेवेन्यू का हिस्सा 15 फीसदी है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट