बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocks68000 करोड़ की सेलिंग के बाद FII बने खरीददार, 16 दिन में 6500 करोड़ किया निवेश

68000 करोड़ की सेलिंग के बाद FII बने खरीददार, 16 दिन में 6500 करोड़ किया निवेश

जनवरी में पिछले 16 ट्रेडिंग सेशन में विदेशी निवेशकों ने करीब 6565 करोड़ रुपए स्टॉक मार्केट में निवेश किया है।

1 of

नई दिल्ली. पिछले साल अंतिम 5 महीनों में लगातार बिकवाली के बाद विदेशी निवेशक फिर मार्केट में लौट आए हैं। जनवरी में पिछले 16 ट्रेडिंग सेशन में विदेशी निवेशकों ने करीब 6565 करोड़ रुपए स्टॉक मार्केट में निवेश किया है। वहीं, घरेलू निवेशकों ने इस दौरान सिर्फ 286 करोड़ रुपए निवेश किया है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि पीएसयू बैंकों के लिए रीकैपिटलाइजेशन प्लान, घरेलू स्तर पर मैक्रो-इकोनॉमिक माहौल बेहतर है। वहीं, बेहतर कॉरपोरेट अर्निंग और बजट में बड़े एलान की उम्मीदों से मार्केट में फॉरेल लिक्विडिटी बढ़ रही है। 

 

एफआईआई ने जनवरी के 16 ट्रेडिंग सेशन में 6575 करोड़ रुपए की खरीददारी की है। जबकि अगस्‍त 2017 से दिसंबर 2017 के दौरान 5 महीनों में करीब 68 हजार करोड़ रुपए की सेलिंग की थी।

माह नेट परचेज/सेल
जनवरी (16 सेशन) 6575 करोड़ रुपए परचेज
दिसंबर 2017 6411 करोड़ रुपए सेल
नवंबर 2017 13514 करोड़ रुपए सेल
अक्टूबर 2017 7826 करोड़ रुपए सेल
सितंबर 2017 23969 करोड़ रुपए सेल
अगस्त 2017 15995 करोड़ रुपए सेल

 

क्यों बढ़ रहा है विदेशी निवेश?


रीकैप प्लान से बैंक शेयरों में बढ़ा विदेशी निवेश

ब्रोकरेज हाउस सिस्टेमैटिक्स स्टॉक्स एंड शेयर के मुताबिक रीकैप प्लान की मंजूरी के बाद विदेशी निवेशकों ने बैंक शेयरों में अपनी होल्डिंग बढ़ाई है। ब्रोकरेज हाउस का मानना है कि सरकारी बैंकों की कैपिटल की जरूरतें पूरी होने से उन्हें रिटेल लेंडिंग के साथ स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज लेंडिंग सेग्मेंट में मार्केट शेयर बढ़ाने में मदद मिलेगी। रीकैप प्लान सेक्टर के लिए कैटलिस्ट साबित हो सकता है, जिसकी वजह से विदेशी निवेशक फिर बड़े बैंकों में खरीददारी कर रहे हैं। एफआईआई को भी ऐसा लग रहा है कि 2.11 लाख करोड़ रुपए के रीकैपिटलाइजेशन प्लान से बैंकों पर एनपीए का दबाव कम होगा, साथ ही क्रेडिट ग्रोथ बढ़ेगी।

 

कॉरपोरेट अर्निंग को लेकर पॉजिटिव व्यू 

कॉरपोरेट स्कैनडॉट कॉम के सीईओ विवेक मित्तल का कहना है कि एफआईआई के शेयर बाजार में लौटने के पीछे कॉरपोरेट अर्निंग को लेकर पॉजिटिव व्यू भी बड़ा फैक्टर है। इस अर्निंग सीजन में अबतक बेहतर नतीजे आ रहे हैं। वहीं, अगले तिमाही में जीएसटी और नोटबंदी का असर पूरी तरह खत्म होने से कॉरपोरेट अर्निंग और बेहतर रहने की उम्मीद है। घरेलू स्तर पर मैक्रो इकोनॉमिक माहौल बेहतर है। ग्लोबल स्तर भी क्रूड को छोड़कर ज्यादा कंसर्न नहीं हे। ऐसे में विदेशी निवेशक फिर से खरीदार बन रहे हैं। 

 

रिफॉर्म्स का अच्छा इंपैक्ट आने की उम्मीद 

एक्सपर्ट्स का मानना है कि मूडीज द्वारा रेटिंग बढ़ाए जाने से भी विदेशी निवेशकों का भरोसा और बढ़ा है। वहीं, नोटबंदी और जीएसटी जैसे रिफॉर्म्स का भी इकोनॉमी पर अच्छा इंपैक्ट आने की उम्मीद है। जीएसटी का निगेटिव प्रभाव खत्म हो रहा है। इस वजह से यह संकेत मिल रहे हैं किे सरकार ने जीएसटी को सही से लागू कराया है। पिछले कुछ ट्रेडिंग सेशन में लॉर्जकैप शेयरों में अच्छी खरीददारी रही है। बता दें कि एफआईआई का फोकस लॉर्जकैप शेयरों पर ज्यादा रहता है। 

 

Get Latest Update on Budget 2018 in Hindi

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट