बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocks2018 में फार्मा सेक्टर में दिख सकता है टर्न अराउंड, ऐसे बनाएं निवेश की स्ट्रैटेजी

2018 में फार्मा सेक्टर में दिख सकता है टर्न अराउंड, ऐसे बनाएं निवेश की स्ट्रैटेजी

एक्सपर्ट्स का कहना है कि फार्मा कंपनियों की अर्निंग में रिकवरी के संकेत हैं।

1 of

नई दिल्ली। FY 2018 की दूसरी तिमाही में फार्मा सेक्टर की अर्निंग कमजोर रही है। लेकिन पिछले 2 महीनों से सेल्स में ग्रोथ दिख रही है। वॉल्यूम ग्रोथ और न्यू प्रोडक्ट ग्रोथ हेल्दी है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि फार्मा कंपनियों की अर्निंग में रिकवरी के संकेत हैं। डोमेस्टिक और ग्लोबल लेवल पर सेक्टर से जुड़ी चिंताएं कम हो रही हैं। ऐसे में पिछले 2 साल से अंडरपरफॉर्मर रहे फार्मा सेक्टर में 2018 में टर्न अराउंड दिख सकता है। बॉटम पर चल रहे कुछ शेयरों में लंबी अवधि में अच्छा रिटर्न दिख रहा हैं। 

 

 

कंपनियों की वॉल्यूम ग्रोथ हेल्दी 
ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल की रिपोर्ट के मुताबिक सितंबर तिमाही के बाद कंपनियों की सेल्स में सुधार आया है। नवंबर में सेकंडरी सेल्स 8.1 फीसदी बढ़ी है। वहीं, सितंबर से नवंबर के बीच में यह सालाना बेसिस पर 5. फीसदी बढ़ी है। जबकि जून से अगस्त के बीच इसमें 0.5 फीसदी गिरावट रही थी। सितंबर से नवंबर के दौरान वॉल्यूम ग्रोथ भी मजबूत हुआ है। नए प्रोडक्ट मार्केट में आने लगे हैं। पिछले 3 माह में न्यू प्रोडक्ट ग्रोथ 2.7 फीसदी रही है। इसका फायदा तीसरी तिमाही में फार्मा कंपनियों की अर्निंग पर दिखेगा। वहीं, कीमतें बढ़ने का भी फायदा मिलेगा। 

 

जीएसटी का असर कम हुआ 
फॉर्च्युन फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि पिछले दिनों जीएसटी से कंपनियों की सेल्स पर असर हुआ था, जिससे मार्जिन पर दबाव रहा। लेकिन अब जीएसटी का असर कम हो चुका है। ग्लोबल स्तर पर सेक्टर से जुड़ी चिंताएं हें, लेकिन पिछले दिनों यूएसएफडीए से कई कंपनियों के लिए  बेहतर संकेत मिले हैं। डोमेस्टिक लेवल पर कंपनियों का बिजनेस बेहतर हुआ है। यूएस के अलावा भी कंपनियां दूसरे देशों में मार्केट बढ़ा रही हैं। ऐसे में 2018 फार्मा शेयरों के लिहाज से बेहतर रहने की उम्मीद है। 

 

ये चिंताएं अभी भी बनी हुई हैं  
एक्सपर्ट्स के अनुसार सेक्टर पर कुछ दबाव अभी बना रहेगा। मसलन यूएस फार्मा लॉबी की मांग है कि भारतीय कंपनियां यूएस में भी प्लांट लगाएं या एक्सपोर्ट टैक्स दें। वहीं, कई प्रोडक्ट को यूएस में मंजूरी मिलने और कीमतों के स्‍टेबल होने में समय लग सकता है। ऐसे में सेक्टर से दबाव पूरी तरह हटने में अभी कम से कम दो तिमाही का समय लग सकता है। हालांकि, कॉरपोरेट स्कैन डॉट कॉम के सीईओ विवेक मित्तल का कहना है कि पवफार्मा शेयर मार्केट की तेजी में भी सस्ते रह गए हैं, जिससे वैल्युएशन को लेकर चिंता नहीं है। 

 

ये शेयर देंगे अच्छा रिटर्न 

 

अजंता फार्मा


अजंता फार्मा का भारत के अलावा एशिया और अफ्रीका के इमर्जिंग मार्केट में प्रदर्शन बेहतर हुआ है। वहीं, मार्केट में कुछ नए प्रोडक्ट आने से यूएस में भी कंपनी का प्रदर्शन बेहतर होने की उम्मीद है। कंपनी कैपेसिटी बढ़ा रही है। आगे के लिए गाइडेंस मजबूत है। मैनेजमेंट को भरोसा है कि कंपनी अगले फाइनेंशियल ईयर से ग्रोथ के रास्ते पर लौटेगी। ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने शेयर के लिए टारगेट 1606 रुपए से बढ़ाकर 1790 रुपए कर दिया है। शेयर का करंट प्राइस 1505 रुपए है। 

 

 

और किन शेयरों में करें निवेश 

 

 

ल्यूपिन


कंपनी ने डोमेस्टिक बिजनेस पर फोकस बढ़ाया है, जिससे डोमेस्टिक बिजनेस में 16 फीसदी ग्रोथ रही है। भारत के अलावा ब्राजील, मैक्सिको, जापाना और फिलीपींस में कंपनी का प्रदर्शन अच्छा रहा है। मार्जिन परफॉर्मेंस बेहतर है। इससे यूएस बिजनेस कमजोर रहने का असर कुछ कम हुआ है। कंपनी के कुछ नए प्रोडक्ट मार्केट में आने वाले हैं। ल्यूपिन में पिछले एक साल में करीब 40 फीसदी गिरावट रही है। ब्रोकरेज हाउस जेएम फाइनेंशियल ने शेयर के लिए 1140 रुपए का लक्ष्‍य दिया है। शेयर का करंट प्राइस 878 रुपए है। 

 

सिप्ला


कंपनी का डोमेस्टिक बिजनेस तेजी से बढ़ रहा है। सालाना आधार पर दूसरी तिमाही में डोमेस्टिक सेल 12 पीसदी बढ़कर कुल रेवेन्यू की 40 फीसदी हो गई है। मैनेजमेंट ने संकेत दिए हैं कि यूएस बिजनेस में कंपनी पर प्राइसिंग प्रेशर खत्म हुआ है। वहीं, घरेलू स्तर पर जीएसटी से रिकवरी है। कंपनी का अफ्रीका बिजनेस भी बढ़ा है। कुछ प्रोडक्ट के मामले में कंपनी मार्केट लीडर बन गई है, वहीं कुछ नए प्रोंडक्ट आने वाले हैं, जिसका फायदा कंपनी को होगा। फिलहाल ब्रोकरेज हाउस सेंट्रम ने शेयर के लिए 700 रुपए का लक्ष्‍य दिया है। शेयर का करंट प्राइस 598 रुपए है। 

 

कैडिला हेल्थकेयर


जेनेरिक पर फोकस करने का फायदा कंपनी को भारत के साथ यूएस मार्केट में भी मिल रहा है। कंपनी का 52 फीसदी रेवेन्यू यूएस बिजनेस से आता है। वहीं, बीती तिमाही में यूएस बिजनेस में 70 फीसदी से ज्यादा ग्रोथ रही है। पिछले दिनों जायडस कैडिला की 2 दवाओं को हाल ही में यूएस एफडीए से मंजूरी मिली है। कुछ और प्रोडक्ट भी मार्केट में जल्द आने वाले हैं। आने वाले दिनों में इसका फायदा मिलेगा। ब्रोकरेज हाउस एक्सिस डायरेक्ट ने शेयर में 500 रुपए के लक्ष्‍य के साथ निवेश की सलाह दी है। शेयर का करंट प्राइस 426 है। 

 

 

(नोट-निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स व ब्रोकरेज हाउस के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।)

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट