Home » Market » StocksPricing Pressure Will Continue in Pharma Sector in Domestic Market

फार्मा सेक्टर में जारी रहेगा प्राइसिंग प्रेशर, स्टॉक में ऐसे बनाएं निवेश की स्ट्रैटेजी

इंडियन फॉर्मास्युटिकल मार्केट की सेकंडरी सेल्स ग्रोथ पिछले 3 महीनों से बेहतर है।

1 of

नई दिल्ली। इंडियन फॉर्मास्युटिकल मार्केट की सेकंडरी सेल्स ग्रोथ पिछले 3 महीनों से बेहतर है। दिसंबर से फरवरी तक ग्रोथ 8.1 फीसदी रही। लेकिन खासतौर से मुख्‍य तौर पर यूएस में कारोबार करने वाली कंपनियों पर 9 तिमाही से प्राइसिंग प्रेशर बना हुआ है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि प्राइसिंग प्रेशर अभी जारी रहेगा, जिससे कंपनियों के मुनाफे पर असर दिखेगा। हालांकि फार्मा सेक्टर में दिक्कतों का असर सभी कंपनियों पर नहीं होगा। निवेशकों को स्टॉक स्पेसिफिक रहकर लंबी अवधि के नजरिए से निवेश करना चाहिए। खासतौर से जिनका एक्सपोजर इंडियन मार्केट में ज्यादा है। 

 

 

मुनाफे पर होगा असर 
इंडिया इंफोलाइन (IIFL) के फार्मा एनालिस्ट श्रीकांत अकोलकर का कहना है कि फाइनेंशियल ईयर 2018 के शुरू में ही यूएस जेनेरिक मार्केट में कारोबार करने वाली कंपनियों पर प्राइसिंग प्रेशर शुरू हो गया था जो अबतक बना हुआ है। मार्केट में कॉम्पिटीशन बढ़ने और यूएस गवर्नमेंट की फार्मा मार्केट को लेकर पॉलिसी में बदलाव से कंपनियों को अपने प्रोडक्ट की कीमतें घटानी पड़ी हैं। यह प्रेशर अभी आगे भी बना रहेगा। ऐसे में जेनेरिक ड्रग पर फोकस करने वाली जिन कंपनियों का रेवेन्यू यूएस मार्केट से ज्यादा आता है, उनके मुनाफे पर असर दिखेगा। हालांकि जिन इंडियन कंपनियों को बेस बड़ा है और उनका बिजनेस मॉड्यूल बेहतर है, उम्मीद है कि वे दबाव हैंडल कर लेंगी। 

 

बाजार में रिकवरी, सेंसेक्स 100 अंक मजबूत, निफ्टी 10100 के ऊपर

 

लंबी अवधि में स्टेबल आउटलुक 
जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिडेट के हेड इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटजिस्ट गौरांग शाह का कहना है कि फार्मा सेक्टर की जितनी भी दिक्कतें हैं उसे दूर होने में अभी कुछ समय लग जाएगा। हालांकि जिन कंपनियों का एक्सपोजर इंडियन मार्केट में ज्यादा है, उनमें ज्यादा परेशानी नहीं दिख रही है। अच्छे शेयरों में लंबी अवधि के नजरिए से निवेश की सलाह है। वहीं, रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग के अनुसार डोमेस्टिक मार्केट में स्टेबल ग्रोथ बना हुआ है। सेल्स ग्रोथ बेहतर है। ओवरऑल न्यू प्रोडक्ट की लॉन्चिंग में भी ग्रोथ है। यूएस और यूरोप के बाजारों में जेनेरिक ड्रग का वॉल्यूम ग्रोथ भी अच्छा है। ऐसे में दबाव के बाद भी लंबी अवधि के लिहाज से सेक्टर का आउटलुक स्टेबल दिख रहा है। 

 

सेक्टर के लिए पॉजिटिव संकेत
ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल की रिपोर्ट के मुताबिक दिसंबर से फरवरी के बीच सेकंडरी सेल्स में 8.1 फीसदी ग्रोथ रही है। वहीं, 2 महीनों से वॉल्यूम ग्रोथ स्ट्रॉन्ग बना हुआ है। फरवरी में वॉल्यूम ग्रोथ 6.5 फीसदी रही है। न्यू प्रोडक्ट की लॉन्चिंग 3 से 4 तिमाही से स्टेबल है। इसमें फरवरी में 2.8 फीसदी ग्रोथ रही है। 

 

आगे पढ़ें, किन शेयरों में निवेश की सलाह....... 

 

गौरांग शाह, जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज 

 

अरविंदो फार्मा
लक्ष्‍य: 880 रुपए, करंट प्राइस: 572 रुपए
रिटर्न अनुमान: 54 फीसदी

 

नैटको फार्मा
लक्ष्‍य: 925 रुपए, करंट प्राइस: 761 रुपए  
रिटर्न अनुमान: 22 फीसदी

 

 

श्रीकांत अकोलकर, इंडिया इंफोलाइन
 

नैटको फार्मा
लक्ष्‍य: 1006 रुपए, करंट प्राइस: 761 रुपए  
रिटर्न अनुमान: 32 फीसदी

 

अलकेम लैब
लक्ष्‍य: 2550 रुपए, करंट प्राइस: 2121 रुपए  
रिटर्न अनुमान: 20 फीसदी

 

बॉयोकॉन 
लक्ष्‍य: 750 रुपए, करंट प्राइस: 579 रुपए  
रिटर्न अनुमान: 30 फीसदी

 

ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर 
 

अरविंदो फार्मा
लक्ष्‍य: 909 रुपए, करंट प्राइस 572
रिटर्न अनुमान: 59 फीसदी

 

(नोट-निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स व ब्रोकरेज हाउस के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।)

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट