बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocks2017 अंबानी-अडानी सहित इन अरबपतियों के लिए रहा बेहतर, 2.4 लाख करोड़ तक बढ़ी दौलत

2017 अंबानी-अडानी सहित इन अरबपतियों के लिए रहा बेहतर, 2.4 लाख करोड़ तक बढ़ी दौलत

कॉरपोरेट ग्रुप में टाटा, अंबानी, बिड़ला, अडानी और महिंद्रा को भी 2017 में फायदा हुआ है।

1 of

नई दिल्ली। साल 2017 शेयर मार्केट के लिए बेहतर रहा है। एक साल में सेंसेक्स ने करीब 27 फीसदी रिटर्न दिया है। वहीं, बीएसई मिडकैप में 40 फीसदी और स्मालकैप में 46 फीसदी रिटर्न मिला है। इस दौरान शेयर मार्केट में निवेशकों की पूंजी 33 लाख करोड़ रुपए के करीब बढ़ गई है। कॉरपोरेट ग्रुप में टाटा, अंबानी, बिड़ला, अडानी और महिंद्रा को भी फायदा हुआ है। 2 जनवरी 2017 से 29 दिसंबर 2017 के बीच इनकी कंपनियों की दौलत 2.4 लाख करोड़ रुपए तक बढ़ गई है। हम इस रिपोर्ट के जरिए आपको बता रहे हैं कि साल 2017 में किस कॉरपोरेट के लिए कितना बेतर रहा, उनकी कंपनियों की दौलत कितनी बढ़ गई......
 

 

मुकेश अंबानी (रिलायंस इंडस्ट्रीज)
कितना बढ़ा मार्केट कैप: 2.40 लाख करोड़ 
 
-साल 2017 में आरआईएल का मार्केट कैप 240357 करोड़ रुपए बढ़ गया। 2 जनवरी को आरआईएल का मार्केट कैप 342990 करोड़ था जो साल के अंत में बढ़कर 583347 करोड़ रुपए हो गया। 
-आरआईएल के शेयर में इस दौरान 70 फीसदी से ज्यादा ग्रोथ रही है। 2 जनवरी के बाद शेयर 541 रुपए से बढ़कर 29 दिसंबर को 921 रुपए के भाव पर बंद हुआ। साल के दौरान 932 रुपए की क्लोजिंग शेयर के लिए हाई रहा। 

 

 

रतन टाटा (टाटा ग्रुप)
कितना बढ़ा मार्केट कैप: 97890 करोड़ 
 
2 जनवरी 2017 के बाद से 29 दिसंबर 2017 तक टाटा ग्रुप की मुख्‍य 5 कंपनियों का मार्केट कैप 97890 करोड़ रुपए बढ़ गया है। टाटा ग्रुप की 5 बड़ी कंपनियों टाटा स्टील, टीसीएस, टाटा पावर, टाटा मोटर्स और टाटा ग्लोबल के मार्केट कैप के आंकड़े इसमें शामिल किए गए हैं। इस दौरान सिर्फ टाटा मोटर्स के मार्केट कैप में 16183 करोड़ रुपए की कमी आई है। वहीं, टीसीएस का मार्केट कैप सबसे ज्यादा 65286 करोड़ रुपए बढ़ा। 
 
किस कंपनी का कितना बढ़ा मार्केट कैप 

 

कंपनी  मार्केट कैप में ग्रोथ
TCS 65286 करोड़
टाटा स्टील 31680 करोड़
टाटा पावर 4990 करोड़
टाटा मोटर्स -16183 करोड़ 
टाटा ग्लोबल 12117 करोड़ 

 

 

आगे पढ़ें, इन अरबपतियों के लिए कैसा रहा 2017 

 

 

गौतम अडानी (अडानी ग्रुप)
कितना बढ़ा मार्केट कैप:
59434 करोड़ रुपए
 
साल 2017 में अडानी ग्रुप का मार्केट कैप 59434 करोड़ रुपए बढ़ गया। इसमें अडानी इंटरप्राइजेज लिमिटेड, अडानी पोर्ट्स, अडानी पावर और अडानी ट्रांसमिशन का मार्केट कैप लिया गया है। अडानी ट्रांसमिशन के मार्केट कैप में सबसे ज्यादा 18288 करोड़ रुपए की बढ़ोत्तरी रही है। 

 

 

कंपनी  मार्केट कैप में ग्रोथ
अडानी इंटरप्राइजेज 9848 करोड़
अडानी पोर्ट्स 27017 करोड़
अडानी पावर 4281 करोड़ 
अडानी ट्रांसमिशन 18288 करोड़ 

 

 

  

अनिल अंबानी (ADAG)

कितना बढ़ा मार्केट कैप : 8788 करोड़ 


एडीएजी ग्रुप कंपनियों में साल 2017 में दबाव दिखा, उसके बाद भी 5 कंपनियों की दौलत 8788 करोड़ रुपए बढ़ गई। यहां तक कि रिलायंस कम्युनिकेशंस के शेयर ने भी साल के अंत में बेहतर प्रदर्शन किया और कंपनी का मार्केट कैप 406 करोड़ रुपए पहुंच गया। 2 जनवरी को आर-कॉम का शेयर 34.75 रुपए के भाव पर था जो 29 दिसंबर को 36.22 रुपए के भाव पर बंद हुआ। हालांकि इस दौरान शेयर का भाव 10 रुपए के नीचे भी आ गया था। रिलायंस इंजीनियरिंग के मार्केट कैप में 450 करोड़ रुपए की कमी आई, वहीं रिलायंस कैपिटल का मार्केट कैप सबसे ज्यादा बढ़ा। 


 

कंपनी  मार्केट कैप में ग्रोथ
R-Com 406 करोड़
रिलायंस कैपिटल 4522 करोड़
रिलायंस इंफ्रा 1982 करोड़ 
रिलायंस इंजीनियरिंग -450 करोड़ 
 
रिलायंस पावर 2328 करोड़

 
 

आगे पढ़ें, इन अरबपतियों के लिए कैसा रहा 2017 

 

आनंद महिंद्रा (महिंद्रा एंड महिंद्रा)
कितना बढ़ा मार्केट कैप: 29408 करोड़ रुपए 

 

-महिंद्रा एंड महिंद्रा का मार्केट कैप 2017 में 29408 करोड़ रुपए बढ़ गया है। इस दौरान महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड के मार्केट कैप में 17107 करोड़ रुपए और महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के मार्केट कैप में 11963 करोड़ रुपए का इजाफा हुआ। 
-महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड का शेयर 612 रुपए से 751 रुपए के भाव पर पहुंच गया। वहीं, महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड का शेयर 274 रुपए से 472 रुपए के भाव पर पहुंच गया। 

 

 

अजीम प्रेमजी (विप्रो)
कितना बढ़ा मार्केट कैप: 34858 करोड़ रुपए

 

-विप्रो का मार्केट कैप साल 2017 में 34858 करोड़ रुपए बढ़ गया। इस साल के दौरान 2 जनवरी से 29 दिसंबर के बीच शेयर का भाव 236 रुपए से बढ़कर 313 रुपए के भाव पर पहुंच गया। 
-2 जनवरी को विप्रो का मार्केट कैप 106890 करोड़ रुपए थी, जो 29 दिसंबर को बढ़कर 141748 करोड़ रुपए हो गई। यानी विप्रो में निवेशकों ने एक साल में 34858 करोड़ रुपए कमा लिए। 

 

नोट: स्टोरी के लिए सभी डाटा बीएसई पर कंपनियों के 2 जनवरी 2017 से 29 दिसंबर 2017 तक शेयर की परफॉर्मेंस के आधार पर लिए गए हैं। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट