Home » Market » StocksIDBI Bank moves NCLT against Reliance Naval to recover loan

एक जगह भाई ने बचाया तो दूसरी जगह फंस गए अनिल अंबानी, IDBI ने अब कोर्ट में घसीटा

एक कंपनी पर है दो दर्जन से ज्यादा बैंकों का 9000 करोड़ रु बकाया

IDBI Bank moves NCLT against Reliance Naval to recover loan

नई दिल्ली।  अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप (ADAG) के चेयरमैन अनिल अंबानी की मुश्किलें कम नहीं हो रही है। देश के अमीर शख्स मुकेश अंबानी ने अपने छोटे भाई अनिल अंबानी की टेलीकॉम कंपनी रिलायंस कम्युनिकेशंस (RCom) को दिवालिया होने से बचा लिया था। रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) ने आरकॉम की एसेट्स खरीदकर अनिल को कर्ज से निकलने में मदद की। वहीं अब अनिल अंबानी दूसरे मामले में फंस गए हैं। दरअसल, आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank) ने अपने बकाए की वसूली के लिए अनिल की कंपनी रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग  (RNAVAL) के खिलाफ नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT) में घसीटा है। इसके अलावा, लॉन्ग-टर्म इंफ्रास्ट्रक्चर लेंडर आईएफसीआई (IFCI) ने नवंबर 2017 में भी इसी तरह का आवेदन दाखिल किया था, जो पिछले 10 महीनों से लंबित है।

 

पहली तिमाही में RNAVAL को 347.21 करोड़ का घाटा

अनिल अंबानी की RNAVAL भारत में पहली प्राइवेट सेक्टर की कंपनी है, जिसके पास वारशिप बनाने के लिए लाइसेंस और कॉन्ट्रैक्ट है। 30 जून को समाप्त तिमाही में कंपनी का इसका नेट लॉस 347.21 करोड़ रुपए हो गया, जो पिछले साल 230.42 करोड़ रुपए था।
कंपनी को पहले पिपवाव डिफेंस एंड ऑफशोर इंजीनियरिंग के नाम से जाना जाता था, 2016 में अनिल अंबानी समूह की ओर से इसे खरीदने के बाद इसका नाम बदलकर रिलायंस डिफेंस एंड इंजीनियरिंग कर दिया गया।

 

9 हजार करोड़ का बकाया

न्यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार कंपनी पर दो दर्जन से ज्यादा बैंकों का 9000 करोड़ रुपए बकाया है, जिसमें ज्यादातर सरकारी बैंक हैं। इनमें सबसे ज्यादा कर्ज आईडीबीआई बैंक का है।

इसके अलावा, कंपनी ने अपनी सहायक रिलायंस मरीन और ऑफशोर लिमिटेड (आरओएमएल) की ओर से प्राप्त कर्ज के लिए कॉर्पोरेट गारंटी जारी की थी, इसके बाद आईएफसीआई ने वर्ष 2017-18 में लोन रिकॉल के लिए नोटिस भेजा था।

 

5 फीसदी तक टूटा RNAVAL का स्टॉक

IDBI बैंक द्वारा NCLT में घसीटे जाने की वहज से शुक्रवार को रिलायंस नेवल के शेयरों में गिरावट देखने को मिली। बीएसई पर रिलायंस नेवल का शेयर 4.95 फीसदी टूटकर 15.35 रुपए के भाव पर आ गया।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट