Home » Market » Stocksfrequent asked question about demat account, How to open Demat Account

घर बैठे फ्री में खुल जाएगा Demat Account, यह है प्रॉसेस

शेयर बाजार सहित विभिन्न सिक्युरिटीज में निवेश के लिए है जरूरी

1 of

 

नई दिल्ली. शेयर बाजार (Share Bazar) से हर कोई कमाई करना चाहता है, लेकिन डीमैट (Demat) अकाउंट के बिना इसमें निवेश नहीं कर सकते। हालांकि डीमैट बनवाना काफी आसान है। आप घर बैठे ही डीमैट अकाउंट खुलवा सकते हैं, जो पूरी तरह फ्री में बन जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ब्रोकरेज हाउस बढ़ते कॉम्पिटीशन को देखते हुए जीरो फीस में अकाउंट खोल रहे हैं।

 

इसलिए जरूरी है डीमैट अकाउंट

-डीमैट अकाउंट एक तरह का इलेक्ट्रॉनिक लॉकर है, जहां निवेशक अपनी सिक्युरिटीज रख सकते हैं। सिक्युरिटीज में स्टॉक्स, म्युचुअल फंड आदि आते हैं।

-इसमें पेपर वर्क के बिना ही सिक्युरिटीज बेहद कम समय में एक निवेशक से दूसरे निवेशक को ट्रांसफर हो जाती हैं। वहीं जोखिम भी काफी कम हो जाता है।

-स्टॉक मार्केट में अगर निवेश करना है तो आपके पास डीमैट अकाउंट होना जरूरी है।

-देश में कई डीपी काम कर रहे हैं, जो निवेशकों के लिए डीमैट अकाउंट खोलते हैं। इससे निवेशक ट्रेड के साथ इलेक्ट्रॉनिक तरीके से शेयर अपने पास रख सकते हैं।

आगे जानिए-कैसे खुलता है डीमैट अकाउंट

 

 

 

कैसे खुलता है डीमैट

-जिस तरह से बैंक में सेविंग अकाउंट खुलता है, वैसे ही डिपॉजिटरीज आपके लिए डीमैट अकाउंट खोलते हैं।

-इसके लिए आपके पास आइडेंटिटी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ और पैन कार्ड होना चाहिए।

- कई ब्रोकर बिना किसी शुल्क के आपका अकाउंट खोलने का ऑफर दे रहे हैं। हालांकि बाद में डिपॉजिटरीज अपनी सर्विस के लिए आपसे चार्ज ले सकते हैं। इसमें ब्रोकिंग चार्ज, सलाना मेंटीनेंस चार्ज शामिल हैं। यह फीस कुछ सौ रुपए सालाना हो सकती है। वहीं ब्रोकिंग चार्ज आपके द्वारा किए गए ट्रांजेक्शन के आधार पर तय होती है।

- डीमैट अकाउंट खोलने के लिए करीब-करीब वही प्रक्रिया अपनाई जाती है जो एक बैंक अकाउंट खोलने के लिए होती है। आम तौर पर एक हफ्ते के अंदर अकाउंट खुल सकता है।

आगे जानिए-डीमैट अकाउंट को लेकर क्या हैं नियम

 

 

 

अकाउंट को लेकर क्या हैं नियम

-ग्राहक एक से ज्यादा अकाउंट खोल सकता है। वहीं वो अलग-अलग डिपॉजिटरीज पार्टिसिपैंट के पास भी अकाउंट खोल सकता है।

-डिपॉजिटरीज पार्टिसिपैंट के पास डीमैट अकाउंट बनाए रखने के लिए सिक्युरिटीज की कोई न्यूनतम सीमा नहीं होती। आप अकाउंट में जीरो बैलेंस भी रख सकते हैं।

-आप अपने शेयर सर्टिफिकेट डीमैट में इलेक्ट्रॉनिक फार्म में सबमिट कर सकते हैं। वहीं आप दूसरे डीपी के पास रखे सर्टिफिकेट भी ट्रांसफर कर सकते हैं।

-अपने डीमैट अकाउंट में आप किसी जानकार को नॉमिनेट भी कर सकते हैं।

 

आगे जानिए-डीमैट अकाउंट का क्या है फायदा

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट