Home » Market » Stockshow this orphaned man established 3500 crore business

बचपन में हो गया था अनाथ, इस शख्स ने खड़ी कर दी 3500 करोड़ की कंपनी

आइए जानते हैं कौन है ये शख्स और कैसे खड़ी की कंपनी।

1 of

नई दिल्ली. अनाथ होने पर जिंदगी किन मुश्किलों से गुजरती है, इस शख्स से बेहतर कोई जान नहीं सकता। अपने माता-पिता को खोने के बाद उसका बचपन एक रिश्तेदार से दूसरे रिश्तेदारों के बीच घूमने में निकल गया। अपनी खानाबदोश जिंदगी को खत्म करने की सोच में उसने पहले नौकरी की। फिर उसने बिजनेस शुरू किया और अपनी मेहनत के बल पर गरीबी को मात देकर 3500 करोड़ रुपए की कंपनी खड़ी कर दी। आइए जानते हैं कौन है ये शख्स और कैसे खड़ी की कंपनी।

 

गरीबी में गुजरी जिंदगी

 

दक्षिण कोरिया के निवासी ली सु-जिन की कहानी गरीबी से लड़ने वालों के लिए एक सबक देती है। अनाथ होने के बाद ली का बचपन गरीबी में गुजरा। गरीबी से तंग आकर उसने 23 की उम्र में एक होटल में काम करना शुरू किया। यहां रहने की सुविधा होने की वजह उन्होंने होटल में नौकरी करना पसंद किया। यहीं से उन्हें बिजनेस का आइडिया मिला और फिर अपनी कंपनी शुरू की।

 


आगे पढ़ें- कैसे शुरू की कंपनी

 

यह भी पढ़ें- पढ़ने-लिखने की उम्र में यह लड़का बन गया कारोबारी, कमा लिए 4 करोड़

पहले बिजनेस में हुए थे फेल

 

होटल में नौकरी से मिली सैलरी को ली ने स्टॉक्स में निवेश किए और फिर सलाद का बिजनेस शुरू किया। लेकिन इसमें उनको सफलता नहीं मिली और वो फिर होटल में काम करने लगे। यहां काम करते हुए ली कुछ समय एकांत में गुजारते थे और कुछ खुद का शुरू करने का प्लान बनाते थे। यहां से मिले अनुभवों को इस्तेमाल कर ली ने यनोल्जा की नींव रखी।

 

 

इंटरनेट का उठाया फायदा

 

ली ने इंटरनेट का फायदा उठाते हुए 10,000 इंटरनेट कम्युनिटी का बेस बनाया। इसमें होटल ओनर्स को टॉवेल और टॉयलेट पेपर के सप्लायर्स भी शामिल थे। उन्होंने 2005 में एक वेबसाइट बनाई जहां लोगों को होटल रूम्स का प्रीव्यू और बुक करने की सुविधा उपलब्ध थी। उनका यह आइडिया काम कर गया और 2011 में उनकी कंपनी स्मार्टफोन एप्लिकेशन लॉन्च की और आज इसके 80 लाख सब्सक्राइबर्स हैं।

 


आगे पढ़ें- 3500 करोड़ की हो गई कंपनी

फिलहाल, यनोल्जा के साथ 17000 होटल जुड़े हैं और इसमें 350 कर्मचारी कार्यरत हैं। कंपनी का फोकस रिसर्च और डेवलपमेंट पर है, जिसमें सॉफ्टवेयर और डिजाइन शामिल हैं। कंपनी की वैल्युएशन 3555 करोड़ रुपए (54.7 करोड़ डॉलर) हो चुकी है। पिछले साल कंपनी का रेवेन्यू 400 करोड़ रुपए से ज्यादा रहा था।

 

क्या है बिजनेस मॉड्यूल

 

ब्रोकिंग फीस में एक हिस्सा कंपनी को मिलता है। वहीं एडवरटाइजिंग और मोटल्स से मिले पेमेंट्स से कंपनी की कमाई होती है। कंपनी का कमीशन जीरो से लेकर 10 फीसदी तक है। रिमोट एरिया में होटल बुकिंग पर कंपनी कोई कमीशन नहीं लेती है, जबकि अपमार्केट एरिया में बुकिंग पर कमीशन 10 फीसदी है।

 

 

कौन यूज करते हैं एप्प

 

यनोल्जा का अधिकतर बिजनेस यंग कपल्स से होता है। कंपनी के अनुसार, नौकरी की शुरुआत करने वाले लोग एक महीने में कम से कम 3 बार इस सर्विस का इस्तेमाल करते हैं। पैसे बचाने के लिए वो सिर्फ कुछ घंटे के लिए रूम किराए पर लेते हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट