Home » Market » Stocksबिजनेस- गैराज में शुरू किया था बिजनेस, अब हर साल कमा रहा है 650 करोड़

गैराज से शुरू किया था बिजनेस, अब हर साल कमा रहा है 650 करोड़

ऐसे ही एक शख्स ने अपनी कंपनी की शुरुआत अपने पापा की गैराज से की और आज वह हर साल 650 करोड़ रुपए की कमाई कर रहा है।

1 of

नई दिल्ली. यह सुनने में काफी रोमांचक लगता है कि दुनिया की बड़ी कंपनियों हैवलेट पैकर्ड, एप्पल और अमेजन की शुरुआत एक गैराज से हुई थी। जब तक आप वास्तव में अपने गैराज में कोई कंपनी शुरू नहीं करते हैं, तब तक आपको वह एहसास नहीं महसूस कर पाएंगे। ऐसे ही एक शख्स ने अपनी कंपनी की शुरुआत अपने पापा की गैराज से की और आज वह हर साल 650 करोड़ रुपए (10 करोड़ डॉलर) की कमाई कर रहा है। आइए जानते हैं कौन है यह शख्स।

 

गैराज से की शुरुआत

 

हम बात कर रहे हैं न्‍यूयॉर्क की बॉक्‍स्‍ड डॉट कॉम के सीईओ व को-फाउंडर ची हुआंग की। 36 साल के हुआंग ने 2013 में एक ऑनलाइन वेयरहाउस क्लब बॉक्स्ड की शुरुआत अपने पापा के कार गैराज से की थी। पहले साल में उनकी कंपनी का रेवेन्यू 26 लाख रुपए (40 हजार डॉलर) रहा। उनकी कंपनी में फिलहाल 400 कर्मचारी हैं और वेंचर कैपिटल फंडिंग से उन्होंने 1040 करोड़ रुपए (16 करोड़ डॉलर) जुटाए हैं।

 

गरीबी देख चुके हैं हुआंग
 
हुआंग के मां-बाप ताइवानी अप्रवासी थे। हुआंग गरीबी में पले-बढ़े हैं। हुआंग का कहना है कि गरीबी ने उन्‍हें कड़ी मेहनत करना सिखा दिया।

 

आगे पढ़ें- क्या है बिजनेस मॉड्यूल

 

यह भी पढ़ें- पतंजलि से जुड़ी इस कंपनी की दौलत एक दिन में 90 करोड़ घटी, जानिए क्या है वजह

यह है बिजनेस मॉड्यूल

 

बॉक्स्ड अमेजन की तरह सब कुछ नहीं बेचती है। बॉक्स्ड केवल बड़े, वेयरहाउस साइज वाले पैकेज बेचता है। हुआंग ने वास्तव में 'स्टॉक अप और सेव' प्लेटफॉर्म का निर्माण किया हैं जहां लोग खरीददारी के आते हैं।  बॉक्स्ड अपने ग्राहकों के लिए कम कीमतों पर माल की बिक्री और बिक्री कर सकती है।

 

लो कॉस्ट पर काम करती है कंपनी

 

बेहतर मार्जिन के लिए हुआंग लो कॉस्ट थियोरी पर काम करते हैं। इसके लिए उन्होंने वेयरहाउस में रोबोट का सहारा लिया है, ताकि कस्टमर्स को लो कॉस्ट पर सामान बेचा जा सके।

 

आगे पढ़ें- हर इम्‍प्‍लॉई का खुद इंटरव्‍यू लेते हुआंग

क्‍यों लेते हैं खुद इंटरव्‍यू

 

हुआंग अपने हर कर्मचारी का खुद इंटरव्‍यू लेता है। बिना इंटरव्‍यू किसी की भी नौकरी फाइनल नहीं होती है। हुआंग हर कैंडीडेट में काम करने के जुनून और कामयाबी की भूख की तलाश करते हैं। केवल रेज्‍यूमे से इस जूनून का पता लगना मुश्किल है, इसलिए किसी भी कैंडीडेट को कंपनी की तरफ से ऑफर लेटर दिए जाने से पहले वह खुद उसका इंटरव्‍यू लेते हैं। हुआंग का कहना है कि बिना इस जुनून के केवल इंटेलीजेंस बेकार है।

 

आगे पढ़ें- इम्‍प्‍लॉइज को देते हैं कई तरह की सुविधाएं

मिलती हैं ये सुविधाएं

 

हुआंग की कंपनी इम्‍प्‍लॉइज को कई तरह की सुविधाएं देती है। मेहनती लोगों को हुआंग की कंपनी की ओर से इनाम दिए जाते हैं। इम्‍प्‍लॉइज की शादी के बिल को चुकाने में मदद की जाती है। इम्‍प्‍लॉइज के बच्‍चों की कॉलेज एजुकेशन के लिए ट्यूशन का इंतजाम किया जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट