बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksदोस्त ने खोले माल्या के कई राज, सुनाई बर्बादी की कहानी

दोस्त ने खोले माल्या के कई राज, सुनाई बर्बादी की कहानी

यूं तो देश में आज भी अरबपति कारोबारी रहे विजय माल्या की बर्बादी के किस्से आम है।

1 of

मुंबई. यूं तो देश में आज भी अरबपति कारोबारी रहे विजय माल्या की बर्बादी के किस्से आम है। इसके पीछे लग्जरी लाइफ पर किए गए खर्च, घाटे में चल रही किंगफिशर एयरलाइंस को चलाना, अनाप-शनाप तरीके से कर्ज लेना आदि वजह बताई जाती है। लेकिन अब माल्या के ही एक पुराने दोस्त ने उसकी बर्बादी के राज खोले हैं। दिलचस्प है कि इस दोस्त की एयरलाइन खरीदने के बाद ही माल्या के कदम बर्बादी की ओर बढ़ गए थे।

 

 

1 हजार करोड़ में कंपनी खरीदकर भी हुए नाकाम

 

हम माल्या के दोस्तों में शुमार रहे कैप्टन गोपीनाथ की बात कर रहे हैं। गोपीनाथ को लो फेयर एयरलाइंस के क्षेत्र में क्रांति करने वाले शख्स के तौर पर जाना जाता है। उनकी एयर डेक्कन देश की पहली सफल लो फेयर एयरलाइन बनी थी। इसे बाद में माल्या ने 1,000 करोड़ रुपए में खरीद लिया और किंगफिशर में मर्ज कर दिया। इसके बावजूद माल्या अपनी एयरलाइन को चलाने में नाकाम रहे।

 

यह भी पढ़ें-अमिताभ बच्चन ऐसे बना रहे पैसे से पैसा, नहीं चलाते कोई कंपनी

 

अपनी तड़क-भड़क भरी लाइफ के हुए शिकार

 

गोपीनाथ ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा, 'मुझे लगता है कि वह किसी राजनीतिक साजिश के बजाय अपनी तड़क-भड़क भरी लाइफ और अक्खड़पन के शिकार हुए हैं।' किंगफिशर एयरलाइंस 2012 से ही ऑपरेशन से बाहर है और उस फर बैंकों का 9 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है। हालांकि मेटल्स और इन्फ्रास्ट्रक्चर जैसे सेक्टर्स के डिफॉल्ट से काफी पीछे है।

 

लगातार दुनिया भर में होने वाली पार्टियों में शामिल होने वाले माल्या फॉर्मूला-1 रेस और सालाना स्विमवियर कैलेंडर को लेकर चर्चित रहे थे। भारत की जांच एजेंसियों और अदालतों के निशाने पर आने के बाद उन्हें लंदन भागना पड़ा था। अब वह देश के बड़े डिफॉल्टर्स के पोस्टरब्वॉय बन गए हैं।

 

 

यह भी पढ़ें-मोदी सरकार की इस डील से बौखलाया चीन, कहा-आग से खेल रहा है भारत

आगे भी पढ़ें

 

 

 

माल्या ने नहीं दिखाई कोई समझदारी

गोपीनाथ ने कहा कि डिफॉल्ट के दिनों में माल्या ने अपनी गतिविधियों को लेकर 'कोई समझदारी नहीं दिखाई' और वह 'राजनीतिक फुटबॉल' बनकर रह गए, जिसने उस समय कर्ज लिया जब केंद्र में कांग्रेस की अगुआई वाली यूपीए सरकार सत्ता में थी।

उन्होंने किसी राजनीतिक दल का नाम लिए बिना कहा कि एक पार्टी पर यह कहकर निशाना साधा गया कि उसने माल्या को देश से बाहर जाने दिया, वहीं दूसरी पर उन्हें डिफॉल्ट से रोकने के लिए कदम नहीं उठाने देने के आरोप लगे।

उन्होंने माना कि माल्या 'लोन डिफॉल्ट्स के पोस्टर ब्वॉय हैं' और इस प्रकार दोनों ही पार्टियां सुविधा के हिसाब से उनके करीब नजर आती हैं।

 

 

आगे भी पढ़ें

भाजपा-कांग्रेस दोनों पर उठाए सवाल

गोपीनाथ ने संकेत किए कि दोनों ही दलों के राजनेता माल्या के साथ नजर आते रहे हैं और फॉर्मूला वन रेस और आईपीएल मैचों में भाग लेने जैसी उनकी आदतों के दौरान साथ नजर आते रहे थे।

उन्होंने दोहराया कि वह अब इतने विवादित हो गए हैं कि राजनीतिक तौर पर हर कोई उनसे पल्ला झाड़ रहा है।

 

आगे भी पढ़ें

 

माल्या पर साधा निशाना

गोपीनाथ ने माल्या के देश से भागने की आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने दूसरी कंपनियों के पैसे से अपना कर्ज लौटाना चाहिए। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि उन्हें अपनी दूसरी लिकर कंपनियों से जल्द से जल्द पैसा जुटाना चाहिए था। लेकिन अब काफी देर हो गई है।' उन्होंने कहा कि जह स्पाइसजेट को बचाया जा सकता है तो किंगफिशर को भी बचाया जा सकता था।

 

 

लो कॉस्ट एयरलाइन खरीदना थी माल्या की मजबूरी

किंगफिशर के कर्ज पर गोपीनाथ ने माना कि एयर डेक्कन खरीदने के लिए जुटाया गया पैसा एक वजह हो सकता है, लेकिन विदेश में उड़ान भरने के वास्ते माल्या के लिए लो-कॉस्ट एयरलाइन खरीदना मजबूरी हो गई थी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट