बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksइस कंपनी से अरबों रुपए लेने को तैयार नहीं सरकार, फंसा है यह पेंच

इस कंपनी से अरबों रुपए लेने को तैयार नहीं सरकार, फंसा है यह पेंच

GST के रेट में पिछले साल नवंबर में बदलाव किया गया था, लेकिन एक कंपनी ने इसका तुरंत फायदा लोगों को नहीं दिया।

1 of

नई दिल्‍ली. GST के रेट में पिछले साल नवंबर में बदलाव किया गया था, लेकिन एक कंपनी ने इसका तुरंत फायदा लोगों को नहीं दिया। लेकिन बाद में यह मामला पकड़ आया तो कंपनी 155 करोड़ टैक्‍स के रूप में सरकार को चुकाने को तैयार है। लेकिन सरकार अभी भी कंपनी से पूछ रही है कि वह सरकार को वह फार्म्‍यूला बताए जिसके आधार पर उसने टैक्‍स की गणना की है। इसी के चलते यह मामला फंसा हुआ है।

 

कौन सी है यह कंपनी

इस कंपनी का नाम है हिन्‍दुस्‍तान यूनीलीवर लिमिटेड (HUL)। इस कंपनी ने समय से GST के टैक्‍स रेट घटने का फायदा लाेगों को नहीं दिया। इसमें कपंनी ने कुछ माह की देर की जिसके चलते अब यह मामला तूूल पकड़ रहा है। इससे पहले कंपनी 119 करोड़ रुपए का ऑफर सरकार को दे चुकी थी, लेकिन अब इसने इसमें 36 करोड़ रुपए का और इजाफा किया है। इस प्रकार अब कंपनी सरकार को 155 करोड़ रुपए देने को तैयार है।

 

 

क्‍या है मामला

GST काउंसिल की पिछले साल 15 नवंबर को बैठक हुई थी। इसमें सरकार ने दर्जनों सामानों को कम टैक्‍स रेट के स्‍लेब में डाल दिया था। यह फैसला तुरंत प्रभाव से लागू किया गया था। ज्‍यादातर कंपनियों ने अपने सामान का दाम घटा दिया था। लेकिन एचयूएल ने तुरंत ऐसा नहीं किया था। इसने फरवरी से यह फायदा लोगों को देना शुरू किया। अब 15 नवंबर से 31 जनवरी तक ज्‍यादा वसूले गए टैक्‍स का मामला सरकार और कंपनी के बीच चल रहा है।

 

कंपनी का ये है तर्क

इस मामले में कंपनी का कहना है कि तुरंत टैक्‍स का लाभ देना संभव नहीं हो पाता है। इसके लिए काफी तैयारी करनी होती है। इसके चलते 15 नवंबर को घटाया गए टैक्‍स का फायदा तत्‍काल लोगों तक पहुंचाना संभव नहीं पाया।

 

 

सरकार से किया है संपर्क

HUL का कहना है कि उसने इस मामले में सरकार से संपर्क किया है। यह संपर्क दिसबंर में हुआ था। उस दौरान कंपनी ने ऑफर किया था कि वह जीएसटी के फायदे जमा करने को तैयार है या सरकार अगर कोई अन्‍य सलाह दे तो उसे भी मानने को तैयार है। कंपनी का कहना है कि जनवरी में उसके डिस्‍ट्रीब्‍यूटरों के स्‍टॉक हुए सामान के पर बनने वाले 36 करोड़ रुपए के टैक्‍स को भी उसने सरकार को देने का ऑफर किया है। कुल मिला कर कंपनी और उसके डिस्‍ट्रीब्‍यूटरों पर 155 करोड़ रुपए की देनदारी है जिसे उसने सरकार को देने का ऑफर किया है।

 

 

आगे पढ़ें : बाद में काफी सस्‍ता किया सर्फ और रिन

 

 

कंपनी ने बाद में अपने सर्फ और रिन को काफी सस्‍ता किया

 

सस्‍ते हुए प्रॉडक्‍ट एक नजर में

 

प्रॉडक्‍ट का नाम

नए दाम

कितने घटे दाम

उत्‍पाद का वजन

सर्फ एक्‍सल क्विक वॉश

185 रुपए

15 रुपए

1000 ग्राम

सर्फ एक्‍सल क्विक वॉश

93 रुपए

7 रुपए

500 ग्राम

सर्फ एक्‍सल इजी वॉश

103 रुपए

9 रुपए

1000 ग्राम

सर्फ एक्‍सल इजी वॉश

52 रुपए

4 रुपए

500 ग्राम

रिन डिटर्जेंट  

70 रुपए

5 रुपए

1000 ग्राम

रिन डिटर्जेंट  

35 रुपए

3 रुपए

500 ग्राम

एक्टिव व्‍हील

48 रुपए

4 रुपए

1000 ग्राम

एक्टिव व्‍हील

24 रुपए

2 रुपए

500 ग्राम

रिन अला ब्‍लीच

52 रुपए

6 रुपए

500 ग्राम

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट