बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksIPO से फंड रेजिंग हुई दोगुनी, 6 महीने में 18 कंपनियों ने जुटाए 23,670 करोड़ रु

IPO से फंड रेजिंग हुई दोगुनी, 6 महीने में 18 कंपनियों ने जुटाए 23,670 करोड़ रु

2016 की पहली छमाही में 11 इनिशियल शेयर-सेल ऑफर्स ने 6,962 करोड़ रुपए जुटाए थे।

Fund-raising via IPOs almost doubles to Rs 23,670 cr in H1 2018

नई दिल्ली.  साल 2018 के पहले 6 महीने में 18 कंपनियों ने इनिशनियल पब्लिक ऑफर (IPO) के जरिए 23,670 करोड़ रुपए जुटाए हैं, जो पिछले वित्त वर्ष से करीब दोगुना है। इसके अलावा, 2018 के बचे महीनों के लिए आउटलुक बुलिश दिख रहा है क्योंकि एचडीएफसी म्युचुअल फंड, लोढा डेवलपर्स और रेल विकास निगम समेत लगभग 50 कंपनियां आने वाले महीने में अपने इनिशियल शेयस-सेल ऑफर्स लॉन्च करने की उम्मीद कर रही हैं।

 

28 कंपनियां इंतजार में

इनमें से 28 कंपनियां अपने पब्लिक इश्यू को लॉन्च करने के लिए मार्केट रेग्युलेटर सेबी की मंजूरी का इंतजार कर रही हैं, जबकि सेबी के पास उपलब्ध ताजा अपडेट के मुताबिक, 18 कंपनियां पहले से ही इनिशियल शेयर-सेल ऑफर्स को जारी करने लिए नियामक की मंजूरी हासिल कर चुकी हैं।

 

6 महीने में कंपनियों ने जुटाए 23,670 करोड़ रु

स्टॉक एक्चेंजों के साथ उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, इस साल जनवरी से जून के दौरान 18 कंपनियों ने अपने आईपीओ के जरिए सामूहिक रूप से 23,670 करोड़ रुपए जुटाए हैं, जो 2017 के पहले 6 महीने में 13 इश्यूर्स द्वारा जुटाए गए 12,000 करोड़ रुपए से ज्यादा है।
वहीं 2016 की पहली छमाही में 11 इनिशियल शेयर-सेल ऑफर्स ने 6,962 करोड़ रुपए जुटाए थे।
इस दौरान जुटाए गए अधिकांश फंड बिजनेस विस्तार योजनाओं, लोन का रिपेमेंट और वर्किंग कैपिटल जरूरतों को पूरा करने के लिए है। इसके अलावा, कई कंपनियों ने आईपीओ रूट का चयन अपने प्राइवेट इक्विटी और वेंचर कैपिटल फर्म जैसे मौजूदा शेयरधारकों से बाहर निकलने के लिए किया है। आईपीओ रूट लेकर कंपनियां इक्विटी शेयरों को लिस्ट करने का फायदा उठाती हैं, जो उनके ब्रांड नाम को बढ़ाती हैं। 

 

बंधन बैंक का था सबसे बड़ा आईपीओ

बंधन बैंक का आईपीओ सबसे बड़ा था। बंधन बैंक का आईपीओ 4,473 करोड़ रुपए का था। इसके बाद हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स (4,229 करोड़ रुपए), आईसीआईसीआई सिक्युरिटीज (3,515 करोड़ रुपए), वरोक इंजीनियरिंग (1,955 करोड़ रुपए), इंडोस्टार कैपिटल फाइनेंस (1,844 करोड़ रुपए) और लेमन ट्री होटल (1,040 करोड़ रुपए) है।

अन्य कंपनियों में सरकारी कंपनी भारत डायनामिक्स, राइट्स औऱ मिधानी ने भी आईपीओ रूट का इस्तेमाल फंड जुटाने के लिए किया है। सरकार का इरादा ऐसे पीएसयू के रियल वैल्यू को अनलॉक करने और अधिक जवाबदेह बनाने का है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट