बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksFPI सितंबर में बने सेलर, मार्केट से निकाले 9400 करोड़ रु

FPI सितंबर में बने सेलर, मार्केट से निकाले 9400 करोड़ रु

क्रूड प्राइस में बढ़ोतरी और रुपए में कमजोरी से CAD के बढ़ने की वजह से निकासी हुई।

FPIs turn net sellers in Sept and pull out 9400 crore so far

नई दिल्ली।  पिछले दो महीने निवेश के बाद फॉरेन इंस्टीट्यूशनल इन्वेस्टर्स (FPI) सितंबर महीने में बिकवाली कर रहे हैं। क्रूड प्राइस में बढ़ोतरी और रुपए में कमजोरी से करंट अकाउंट डेफिसिट (CAD) के बढ़ने की वजह से विदेशी निवेशकों ने सितंबर में कैपिटल मार्केट से 9,400 करोड़ रुपए की निकासी की है।  पिछले महीने विदेशी निवेशकों ने कैपिटल मार्केट (इक्विटी और डेट) में करीब 5,200 करोड़ रुपए और अगस्त में 2,300 करोड़ रुपए निवेश किए थे। अप्रैल-जून तिमाही के दौरान विदेशी निवेशकों ने घरेलू बाजार से 61 हजार करोड़ रुपए निकाले थे।

 

सितंबर में घटाई लिक्विडिटी

डिपॉजिटरी के ताजा आंकड़ों के अनुसार फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (FPIs) ने सितंबर महीने में इक्विटी से 4,318 करोड़ रुपए और डेट मार्केट से 5,088 करोड़ रुपए की निकासी की। यानी सितंबर में अबतक कुल 9,406 करोड़ रुपए बाजार से निकाले।

 

निकासी की वजह

मॉर्निंगस्टार के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि विदेशी निवेशकों द्वारा हालिया निकासी की वजह क्रूड कीमतों में उछाल और रुपए में गिरावट से करंट अकाउंट डेफिसिट (CAD) का बढ़ना है। वहीं उम्मीद से कम GST कलेक्शन भी एक फैक्टर है। इन सब फैक्टर्स की वजह से देश का मैक्रो इन्वायरमेंट गिरा है। इसका असर इकोनॉमिक ग्रोथ पर होने की संभावना से एफपीआई सतर्क हैं। इसके अलावा ग्लोब ट्रेड टेंशन का भी असर दिखा है।


रिलायंस सिक्युरिटीज के हेड रिसर्च नवीन कुलकर्णी का कहना है कि FPI ने इस महीने कंज्यूमर स्टॉक्स में बिकवाली की है जिनका वैल्युएशन लाइफटाइम हाई को छुआ है। 

 

यह भी पढ़ें, इरकॉन इंटरनेशनल का IPO सोमवार को खुलेगा, निवेश से पहले जान लें ये 5 फैक्ट्स

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट