बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksFPI ने दिसंबर में इक्विटी से निकाले 4000 करोड़, फिस्कल डेफिसिट बढ़ने का असर

FPI ने दिसंबर में इक्विटी से निकाले 4000 करोड़, फिस्कल डेफिसिट बढ़ने का असर

फॉरेन इन्वेस्टर्स ने दिसंबर महीने अब तक घरेलू स्टॉक मार्केट में 4000 करोड़ रुपए से ज्यादा की निकासी की है।

1 of

नई दिल्ली. फॉरेन इन्वेस्टर्स ने दिसंबर महीने अब तक घरेलू स्टॉक मार्केट में 4000 करोड़ रुपए से ज्यादा की निकासी की है। क्रूड प्राइस में तेजी और फिस्कल डेफिसिट बढ़ने की वजह से एफपीआई ने मार्केट से पैसे निकाले हैं।

 

8 महीने के हाई के बाद घटा एफपीआई निवेश

8 महीने के हाई के बाद एफपीआई का निवेश दिसंबर महीने में घटा है। सरकार द्वारा बैंकों के लिए रिकैपिटलाइजेशन प्लान और वर्ल्ड बैंक की ईज ऑफ डुइंग बिजनेस रैंकिंग में भारत की रैंकिंग में सुधार के चलते नवंबर में निवेश 8 महीने के हाई पर पहुंच गया था। नवंबर में एफपीआई का इन्वेस्टमेंट 19,728 करोड़ रुपए रहा था। यह मार्च के बाद एफपीआई का हाइएस्ट इन्वेस्टमेंट था। मार्च में एफपीआई ने 30,906 करोड़ रुपए निवेश किए थे।

 

ये भी पढ़ें- 7 महीने में ही 96%के लेवल पर पहुंचा फिस्‍कल डेफिसिट, मोदी सरकार के लिए बढ़ा चैलेंज

 

4089 करोड़ रुपए निकाले

डिपॉजिटरी डाटा के मुताबिक, फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स ने 8 दिसंबर तक स्टॉक्स मार्केट से 4089 करोड़ रुपए (63.4 करोड़ डॉलर) निकाले हैं। हालांकि, इस दौरान ऐसे इन्वेस्टर्स ने 2200 करोड़ रुपए डेट मार्केट में निवेश किए हैं।

 

ये भी पढ़ें- GDP में 5 तिमाही की गिरावट पर लगा ब्रेक, Q2 में 6.3 फीसदी रही ग्रोथ

 

मॉर्निंगस्टार इंडिया के सीनियर एनालिस्ट मैनेजर (रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि क्रूड प्राइस में तेजी और फिस्कल डेफिसिट में बढ़ोतरी की वजह फॉरेन इन्वेस्टर्स थोड़े सचेत हुए हैं। भारत का फिस्कल डेफिसिट अक्टूबर के अंत तक 96.1 फीसदी के लेवल पर पहुंच गया है। उसी दिन साल 2017-18 की सेकंड क्वार्टर में जीडीपी ग्रोथ रेट 6.3 फीसदी पर रही है। इसके अलावा रुपए में मजबूती और घरेलू मार्केट की बढ़ोतरी ने एफपीआई को मुनाफावसूली का अवसर दिया।

 

ये भी पढ़ें- अक्टूबर में पी नोट्स इन्वेस्टमेंट बढ़कर 1.31 लाख करोड़ हुआ

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट