Home » Market » Stocksबेहतर कॉरपोरेट अर्निंग से FPI ने जनवरी में अबतक 22 हजार करोड़ किए निवेश

बेहतर कॉरपोरेट अर्निंग से FPI हुए अट्रैक्टिव, जनवरी में 22 हजार करोड़ किए निवेश

एफपीआई ने जनवरी महीने में 22,000 करोड़ रुपए (350 करोड़ डॉलर) कैपिटल मार्केट में निवेश किए हैं।

1 of

नई दिल्ली. फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (एफपीआई) ने जनवरी महीने में 22,000 करोड़ रुपए (350 करोड़ डॉलर) कैपिटल मार्केट में निवेश किए हैं। एफपीआई की ओर से किया गया यह निवेश कॉरपोरेट्स अर्निंग बढ़ने और आकर्षक यील्ड में सुधार की उम्मीद के चलते हुआ है।

 

एफपीआई निवेश की रफ्तार हो सकती है  धीमी 

मॉर्निंगस्टार इंडिया के सीनियर एनालिस्ट मैनेजर (रिसर्च) हिमांशु श्रीवास्तव के मुताबिक, हालांकि स्टॉक में निवेश पर नए टैक्स के लागू होने से एफपीआई निवेश की रफ्तार धीमी हो सकती है। लेकिन लॉन्ग टर्म के लिहाज से सिनारियो पॉजिटिव दिख रहा है।

 

22,254 करोड़ रु रहा कुल निवेश

डिपॉजिटरी डेटा के मुताबिक, एफपीआई ने जनवरी महीने में इक्विटी में 13,781 करोड़ रुपए और डेट मार्केट में 8,473 करोड़ रुपए इन्वेस्ट किए हैं। इस हिसाब से यह कुल निवेश 22,254 करोड़ रुपए का रहा। बता दें कि दिसंबर में 3500 करोड़ रनपए की निकासी के बाद इंडियन कैपिटल मार्केट में निवेश बढ़ा है।

 

ये भी पढ़ें- मोदी के फैसले से इस शख्स ने कमाए थे अरबों, एक आरोप से डूब गई आधी दौलत

 

ऑनलाइन इन्वेस्टमेंट प्लेटफॉर्म ग्रो के को-फाउंड और सीओओ हर्ष जैन का कहना है नई फिस्कल बूक्स के निर्माण के लिए जनवरी में फॉरेन निवेश ज्यादा रहना सामान्य बात है। इसके अलावा कंपनियों की बेहतर अर्निंग और 2018-19 में ग्रोथ बेस्ट बजट भी इसका एक कारण है।

 

अर्निंग में रिकवरी का असर

5nance के सीईओ दिनेश रोहिरा के मुताबिक, करंट माह में कंपनियों की अर्निंग में रिकवरी और और आकर्षक यील्ड ने फॉरेन इन्वेस्टर्स को अपनी ओर आकर्षित किया है।

 

वहीं हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि पॉजिटिव ग्लोबल मार्केट, घरेलू स्तर पर प्रोमाइजिंग इकोनॉमिक नंबर, उम्मीद से बेहतर कॉरपोरेट अर्निंग्स और आईएमएफ द्वारा 2018-19 में भारत में सबसे बढ़ती इकोनॉमी जैसे फैक्टर्स ने एफपीआई के लिए फेवरेबल इन्वेस्टमेंट एंवायरमेंट बनाया।

 

ये भी पढ़ें- मोदी के एक फैसले से डूबे 4.5 लाख करोड़, मार्केट में मचा हाहाकार

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट