विज्ञापन
Home » Market » StocksFortis asks Sebi to arrest Singh brothers for failing to repay Rs 400 crore

400 करोड़ रु के पेमेंट में नाकाम सिंह ब्रदर्स पर गिरफ्तारी का संकट, फोर्टिस की सेबी से मांग

3 महीने की डेडलाइन के भीतर मलविंदर और शिविंदर सिंह ने नहीं लौटाया पैसा

Fortis asks Sebi to arrest Singh brothers for failing to repay Rs 400 crore

अनिल अंबानी के बाद अब फोर्टिस के पूर्व प्रमोटर मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह के सामने गिरफ्तारी का संकट पैदा हो गया है। दरअसल फोर्टिस हैल्थकेयर (Fortis Healthcare) ने मार्केट रेग्युलेटर सेबी (SEBI) में पिटीशन दायर करके 400 करोड़ रुपए के पेमेंट में नाकाम रहने पर सिंह ब्रदर्स गिरफ्तार किए जाने की मांग की है। सेबी (SEBI) ने मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह को गलत तरीके से कंपनी से 400 करोड़ रुपए निकलाने का दोषी माना था।

 

नई दिल्ली. अनिल अंबानी के बाद अब फोर्टिस के पूर्व प्रमोटर मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह के सामने गिरफ्तारी का संकट पैदा हो गया है। दरअसल फोर्टिस हैल्थकेयर (Fortis Healthcare) ने मार्केट रेग्युलेटर सेबी (SEBI) में पिटीशन दायर करके 400 करोड़ रुपए के पेमेंट में नाकाम रहने पर सिंह ब्रदर्स गिरफ्तार किए जाने की मांग की है। सेबी (SEBI) ने मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह को गलत तरीके से कंपनी से 400 करोड़ रुपए निकलाने का दोषी माना था।

फोर्टिस का सेबी से कानूनी कार्रवाई का अनुरोध

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक, फोर्टिस के स्पोक्सपर्सन अजय महाराज ने कहा कि इस महीने की शुरुआत में कंपनी ने सिक्युरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड (Securities and Exchange Board of India) से सिंह ब्रदर्स से पैसे की रिकवरी के लिए कानूनी कार्रवाई करने का अनुरोध किया था। रेग्युलेटर ने अक्टूबर में मलविंदर सिंह और शिविंदर सिंह को तीन महीने के भीतर ब्याज सहित पैसा लौटाने का निर्देश दिया था। शिविंदर सिंह से इस संबंध में कोई टिप्पणी नहीं मिल सकी। वहीं मलविंदर सिंह और सेबी स्पोक्समैन से कोई संपर्क नहीं हो सका।

 

कॉरपोरेट एम्पायर गंवा चुके हैं सिंह ब्रदर्स

फोर्टिस हैल्थकेयर की पिटीशन से पूर्व अरबपति सिंह ब्रदर्स की मुश्किलें बढ़ सकती हैं, जो कर्ज के चलते अपने पूरे कॉरपोरेट एम्पायर को गंवा चुके हैं। वहीं लेंडर्स का पैसा अभी भी उन पर बकाया है। लेंडर्स सिंह ब्रदर्स द्वारा गिरवी रखी गई फोर्टिस की शेयरहोल्डिंग को जब्त कर चुके हैं। फोर्टिस देश की दूसरी बड़ी हॉस्पिटल चेन है, जिस पर अब आईएचएच हैल्थकेयर बेरहद का नियंत्रण है।

 

चल रहा है 50 करोड़ डॉलर का एक अन्य मामला

उन्हें 50 करोड़ डॉलर के एक अन्य फ्रॉड केस में जापान की दवा कंपनी दाइची सैंक्यो (Daiichi Sankyo) से एक भारतीय अदालत में लड़ाई लड़नी पड़ रही है। हालात बिगड़ने के बाद फैमिली में भी दरार पैदा हो गई है। बड़े भाई मलविंदर सिंह ने हाल में पुलिस में एक शिकायत दर्ज कराकर छोटे भाई शिविंदर सिंह और एक आध्यात्मिक गुरु के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। इससे पहले भी दोनों भाई एक दूसरे के खिलाफ मारपीट के आरोप लगा चुके थे।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन