Home » Market » StocksFPIs in exit mode, pull out Rs 18000 cr in May

एग्जिट मोड में FPI, मई में कैपिटल मार्केट से निकाले 18 हजार करोड़ रु

फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (एफपीआई) ने भारतीय कैपिटल मार्केट से इस महीने 18,000 करोड़ रुपए निकाले है।

1 of

नई दिल्ली.  फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (एफपीआई) ने भारतीय कैपिटल मार्केट से इस महीने 18,000 करोड़ रुपए (265 करोड़ डॉलर) निकाले हैं। एफपीआई की ओर से इस निकासी की अहम वजह ग्लोबल स्तर पर क्रूड की कीमतों में तेजी और अमेरिका-ईरान में बढ़ी टेंशन है। अप्रैल महीने में एफपीआई ने कैपिटल मार्केट (इक्विटी और डेट) से 15,500 करोड़ रुपए निकाले थे, जो 16 महीने में सबसे तेज निकासी थी।

 

क्या कहते हैं आंकड़े

डिपॉजिटरी डाटा के मुताबिक, फॉरेन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (एफपीआई) ने 2 से 18 मई के दौरान इक्विटी से 4,030 करोड़ रुपए जबकि डेट मार्केट से 12,947 करोड़ रुपए निकाले हैं। इस तरह मई महीने में अभी तक कुल मिलाकर 17,771 करोड़ रुपए (265 करोड़ डॉलर) की निकासी हुई।

 

इकोनॉमिक ग्रोथ पर पड़ेगा असर

ग्रो के सीओओ हर्ष जैन का कहना है कि फॉरेन इन्वेस्टर्स द्वारा बाजार से निकासी की मुख्य वजह क्रूड की कीमतों में उछाल औऱ अमेरिका-ईरान टेंशन हैं। इससे भारत सहित सभी ऑयल इम्पोर्ट्स इकोनॉमी पर असर पड़ेगा और सीएडी, फिस्कल डेफिसिट, इम्पोर्टेड इंफ्लेशन पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा जो इकोनॉमिक ग्रोथ के लिए हेडविंड बनेगा।

 

इसके अलावा, एफपीआई ने कर्नाटक चुनाव से पहले मुनाफावसूली शुरू की, जो 2019 के बड़े चुनाव परिणामों के लिए एक महत्वपूर्ण इंडिकेटर था। इस साल अभी तक, एफपीआई ने इक्विटी में 3,600 करोड़ रुपए से ज्यादा निवेश किए हैं जबकि डेट मार्केट से करीब 24,000 करोड़ रुपए निकाले हैं।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट