विज्ञापन
Home » Market » StocksEconomic data and global signals may affect stock market in next week

शेयर बाजार: आर्थिक आंकड़ों और वैश्विक संकेतों पर होगी निवेशकों की नजर

कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से छिटक सकते हैं निवेशक

Economic data and global signals may affect stock market in next week

Economic data and global signals may affect stock market in next week: बीते सप्ताह तेजी में रहने वाले घरेलू शेयर बाजार की दिशा आगामी सप्ताह आर्थिक आंकड़ों, राजनीतिक परिदृश्य, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों के उतार-चढ़ाव ,अमेरिका-चीन की बातचीत और डॉलर की तुलना में रुपए की स्थिति से तय होगी।

नई दिल्ली। बीते सप्ताह तेजी में रहने वाले घरेलू शेयर बाजार की दिशा आगामी सप्ताह आर्थिक आंकड़ों, राजनीतिक परिदृश्य, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों के उतार-चढ़ाव ,अमेरिका-चीन की बातचीत और डॉलर की तुलना में रुपए की स्थिति से तय होगी। आलोच्य सप्ताह के दौरान बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 62.53 अंक यानी 0.17 प्रतिशत की तेजी के साथ 35,871.48 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 67.25 अंक यानी 0.62 प्रतिशत की बढ़त में 10,791.65 अंक पर पहुंच गया।

 

मझोली और छोटी कंपनियों की तरफ बना निवेशकों का रुझान
दिग्गज कंपनियों की तरह छोटी और मंझोली कंपनियों के प्रति भी निवेशकों का रुझान बना रहा। बीते सप्ताह बीएसई का मिडकैप 229.20 अंक यानी 1.64 प्रतिशत की साप्ताहिक तेजी के साथ 14,169.74 अंक पर और स्मॉलकैप 264.90 अंक यानी 0.20 प्रतिशत की तेजी में 13,517.71 अंक पर बंद हुआ। समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान घरेलू शेयर बाजार लगातार नौ दिन गिरावट से उबरने में कामयाब रहे। हालांकि, बाजार में पूरे सप्ताह उठापटक हावी रही।  बाजार विश्लेषकों के मुताबिक, अगले सप्ताह निवेशकों की नजर अमेरिका और चीन की बातचीत पर होगी। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का रुख चीन को लेकर सकारात्मक है और उन्होंने कहा है कि वह समझौते के लिए पूर्व में तय की गयी एक मार्च की डेडलाइन को बढ़ा भी सकते हैं। निवेशकों को इससे राहत मिलती दिख रही है। 

 

कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से पड़ सकता है असर
अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी का रुख है और अगले सप्ताह भी अगर यही स्थिति रही तो इससे निवेश धारणा पर असर पड़ेगा।  इसके अलावा गुरुवार को तीसरी तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद के आंकड़े भी जारी होने हैं। इसी दिन जनवरी के वित्तीय घाटे और कोर उत्पाद के आंकड़े जारी होंगे। फरवरी सीरीज का वायदा करार भी इसी दिन समाप्त हो रहा है। निवेशक इन सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर निवेश करेंगे। आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर देश में राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ी हुई हैं, जिसे देखते हुए निवेशक सतर्कता बरतेंगे। आलोच्य सप्ताह के दौरान पहले दिन सोमवार को एशियाई बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के बावजूद टीसीएस, यस बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईटीसी जैसी दिग्गज कंपनियों में हुई बिकवाली के दबाव में घरेलू शेयर बाजार लगातार आठवें दिन लाल निशान में बंद हुए। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन