बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksबजट 2018 : MF इंडस्‍ट्री के आसान किए जाएं KYC नियम, नए प्रोडक्‍ट लाने की मिले इजाजत

बजट 2018 : MF इंडस्‍ट्री के आसान किए जाएं KYC नियम, नए प्रोडक्‍ट लाने की मिले इजाजत

म्‍युचुअल फंड इंडस्‍ट्री चाहती है कि उसे भी लम्‍बे समय में वैल्‍थ क्रियेट करने की इजाजत मिले।

1 of

 

नई दिल्‍ली. म्‍युचुअल फंड इंडस्‍ट्री चाहती है कि उसे भी लम्‍बे समय में वैल्‍थ क्रियेट करने की इजाजत मिले। इसके लिए उसे रिटायरमेंट जैसे प्रोडेक्‍ट लाने की अगर इजाजत मिले तो उसके लिए ज्‍यादा बेहतर रहेगा। म्‍युचुअल फंड इंडस्‍ट्री के जानकारों के अनुसार सरकार हर साल बजट में ढेरों योजनाएं लाती है, एेसे में उसे इस इंडस्‍ट्री के लिए ऐसे प्रोडेक्‍ट लाने की अनुमति मिले। यहीं नहीं नो योर क्‍लाइंट (KYC) के नियम भी म्‍युचुअल फंड के लिए आसान किए जाएं।

 

 

MF में मिले रिटायरमेंट फंड लाने की सुविधा 
वैल्‍यू रिसर्च के सीईओ धीरेन्‍द्र कुमार के अनुसार नेशनल पेंशन स्‍कीम्‍स (NPS) की तरह म्‍युचुअल फंड में भी पेंशन प्‍लान की शुरुआत की जानी चाहिए। इसमें निवेशकों को इक्विटी या डेट और दोनों का मिक्‍स का आप्‍शन मिलना चाहिए। यहां पर सरकार चाहे तो लॉकइन पीरियड 20 से 30 साल का रख सकती है। इस निवेश पर सरकार को अतिरिक्‍त टैक्‍स की छूट भी देनी जानी चाहिए। 
कुमार के अनुसार जब म्‍युचुअल फंड में निवेश केवल बैंक के माध्‍यम से ही किया जा सकता है और कैश कराने पर पैसा भी बैंक खाते में ही आता है, ऐसे में बार-बार निवेशकों से पैन और अन्‍य कागजात मांगना कठिन नियम हैं, इनमें ढील मिलनी चाहिए। 

 

आंकड़ों में म्‍युचुअल फंड की ग्रोथ 
-नवबंर 2017 तक आसेट 22.79 लाख करोड़ रुपए 
-31 मार्च 2007 में आसेट 3.26 लाख करोड़ रुपए
-10 साल में यह 7 गुना से ज्‍यादा बढ़ी 
-फोलियो की संख्‍या 6.49 करोड़ 

 

 

यह भी पढ़ें : ये है SIP की A B C D, कराती है बहुत फायदा

 


टैक्‍स सेविंग की सुविधा का डेट म्‍युचुअल फंड में भी विस्‍तार हो 
फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म बीपीएन फिनकैप के डायरेक्‍टर ए के निगम का कहना है बजट में 80C के तहत डेट फंड को भी शामिल किया जाना चाहिए। इसका लॉकइन पीरियड टैक्‍स सेविंग FD के बराबर 5 साल रखा जा सकता है। इससे नए निवेशक इस बाजार से जुड़ सकेंगे। उनका कहना है कि हाइब्रिड फंड में इस तरह का मौका दिया जा सकता है। 
 
KYC के लिए सेंट्रलाइज्‍ड व्‍यवस्‍था बने 
च्‍वॉइस ब्रोकिंग के प्रेसीडेंट अजय केजरीवाल के अनुसार आधार को लिंक कराने के लिए सेंट्रलाइज्‍ड व्‍यवस्‍था बनानी चाहिए। आधार को अभी हर जगह जोड़ने के लिए कहा जा रहा है। लोगों का निवेश कई फंड्स में होता है, इसके अलावा स्‍टॉक एक्‍सचेंज और बीमा सहित कई वित्‍तीय प्रॉडक्‍ट लोगों के पास होते हैं। इसलिए सभी में आधार जोड़ने के लिए कोई सेट्रलाइज्‍ड व्‍यवस्‍था बनानी चाहिए, यहां पर आधार के अलावा पैन को जोड़ने से लेकर सभी तरह की KYC कराई जा सके। उनका कहना है कि अभी म्‍युचुअल फंड डिस्‍ट्रीब्‍यूटर्स का कमीशन 1 फीसदी है, इस पर GST भी देना पड़ रहा है। इसलिए या तो इस कमीशन को बढ़ाया जाए या इस GST के भार को एक फीसदी कमीशन से बाहर किया जाए। इससे म्‍युचुअल फंड कंपनियों को निवेशकों तक पहुंचने में दिक्‍कत आ रही है। अगर GST को 1 फीसदी कमीशन से बाहर कर दिया जाए तो डिस्‍ट्रीब्‍यूटर प्रोडक्‍ट को आसानी से लोगों तक पहुंचा सकेंगे। 

 

 

यह भी पढ़ें : बड़े काम का है टैक्स सेविंग म्युचुअल फंड, जानें निवेश की A B C D

 

(नोट-निवेश सलाह ब्रोकरेज हाउस और मार्केट एक्सपर्ट्स के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।) 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट