Home » Market » StocksDepositories share cos info with exchanges on foreign investment limits 12 कंपनियों में तय सीमा तक पहुंचा विदेश निवेश, DP ने एक्टिवेट किया रेड फ्लैग

12 कंपनियों में तय सीमा तक पहुंचा विदेशी निवेश, DP ने एक्टिवेट किया रेड फ्लैग

देश की दोनाें डिपॉजिटरी में 12 बड़ी कंपनियों में विदेशी निवेश तय सीमा तक पहुंच जाने पर रेड फ्लैग एक्‍टीवेट हो गया है।

Depositories share cos info with exchanges on foreign investment limits  12 कंपनियों में तय सीमा तक पहुंचा विदेश निवेश, DP ने एक्टिवेट किया रेड फ्लैग
 
नई दिल्‍ली. देश की दोनाें डिपॉजिटरी में 12 बड़ी कंपनियों में विदेशी निवेश तय सीमा तक पहुंच जाने पर रेड फ्लैग एक्‍टीवेट हो गया है। डिपॉजिटरी ने इस संबंध में BSE और NSE को सूचित भी कर दिया है। इन कंपनियों में HDFC बैंक, इंडसइंड बैंक, वंडरला हॉलिडे, एस एच कलकर एंड कंपनी जैसे नाम शामिल हैं।
 
ये हैं कंपनियों के नाम
कई कंपनियों में विदेशी निवेश तय सीमा तक पहुंच चुका है। इन कंपनियों में डेल्‍टा कार्पोरेशन, एबॉट इंडिया, शांति एजूकेशनलन इनिशिएटिव्‍स, साईं बाबा इन्‍वेस्‍टमेंट, ट्रेंट और जेवीएल एग्रो इंडस्‍ट्रीज शामिल हैं।
 
दोनाें डिपॉ‍िजिटरी NSDL और CDSL से मिली जानकारी के अनुसार बीएसई ने बताया है कि 18 जून तक इंस्‍टीट्यूशनल ट्रेडिंग सिरीज (6 लाख सिरीज) में इन 12 कंपनियों में ट्रेडिंग की सुविधा उपलब्‍ध थी। लेकिन विदेशी निवेश की लिमिट तय सीमा तक चली जाने से इस पर रोक लगा दी गई है। इन कंपनियों के शेयरों में अब विदेशी निवेशक आपस में ही ट्रेडिंग कर सकेंगे।
 
 
सेबी ने दी थी डिपॉजिटरी को यह जिम्‍मेदारी
सेबी ने दोनों डिपॉजिटरी को यह जिम्‍मेदारी दी थी कि वह लिस्‍टेड कंपनियों में विदेशी निवेश की सीमा की माॅनिटरिंग करें। इसके लिए अप्रैल में एक फ्रैमवर्क तैयार किया गया था। इस फ्रैमवर्क के अनुसार जैसी किसी कंपनी में विदेशी निवेश तय सीमा के 3 फीसदी के दायरे में आ जाता है, रेड फ्लैग एक्टिवेट हो जाता है। इसके बाद डिपॉजिटरी यह सूचना एक्‍सचेंज को भेज देती है।
 
 
विदेशी निवेशक को बेचनी पड़ती है हिस्‍सेदारी
अगर किसी कंपनी में FPI/NRI निवेश तय सीमा से ऊपर चला जाता है तो उस विदेशी निवेशक को अपनी सीमा से ज्‍यादा हिस्‍सेदारी अगले 5 ट्रेडिंग सेशन में बेचनी पड़ती है। इस विदेशी निवेशक को अपनी यह हिस्‍सेदारी डोमेस्टिक इन्‍वेस्‍टर को बेचनी होती है।
 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट