बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksकभी स्कूल फीस भरने के नहीं थे पैसे, खड़ा कर दिया 2 हजार करोड़ का बिजनेस

कभी स्कूल फीस भरने के नहीं थे पैसे, खड़ा कर दिया 2 हजार करोड़ का बिजनेस

आइए जानते हैं इस शख्स की सफलता के बारे में।

1 of

नई दिल्ली. बिजनेस शुरू करने के लिए किसी डिग्री या फिर हायर एजुकेशन जरूरी नहीं है। यह हम नहीं कह रहे, बल्कि दुनिया के टॉप अमीरों में शामिल बिल गेट्स और मार्क जुकरबर्ग ने साबित किया है। इन्होंने कॉलेज की पढ़ाई बीच में छोड़ अपने आइडिया पर काम शुरू किया और आज वो दुनिया के सबसे अमीर हस्तियों की लिस्ट में शामिल हैं। ऐसे ही एक शख्स ने कॉलेड की पढ़ाई छोड़ कबाड़ का बिजनेस शुरू किया और इसे 2 हजार करोड़ रुपए के कारोबार में तब्दील कर दिया है। आइए जानते हैं इस शख्स की सफलता के बारे में।

 

 

कबाड़ को बनाया कारोबार

 

47 साल ब्रायन स्कुडामोर को जंक मैन के नाम से जाना जाता है। 1-800-GOT-JUNK के फाउंडर और सीईओ ब्रायन को कबाड़ से बिजनेस का आइडिया कॉलेज के दिनों में मिला था। आज उनका कबाड़ का बिजनेस यूएस, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया में 160 जगहों पर फैला है। उनकी कंपनी का टर्नओवर करीब 2,000 करोड़ रुपए (30 करोड़ डॉलर) तक पहुंच गया है।

 


आगे पढ़ें- फीस भरने के नहीं थे पैसे

खुद किया फीस का इंतजाम

ब्रायन का बचपन गरीबी में बीता। उनके पिता के पास ब्रायन की ट्यूशन की फीस भरने के पैसे भी नहीं थे। पढ़ने-लिखने में कमजोर होने की वजह से ब्रायन के पिता निराश रहते थे। फीस का इंतजाम करने के लिए उन्होंने खुद पैसों का बंदोबस्त किया। इसके लिए उन्होंने पार्ट टाइम काम किया।

 

 

ऐसे मिला बिजनेस आइडिया

उन्होंने देखा कि कबाड़ के बिजनेस में कई खामियां हैं। यहां जो सर्विस मिल रहीं है, वे उस दर्जे की नहीं है जैसी होनी चाहिए। हायर एजुकेशन के लिए ब्रायन ने मांटेरियल स्थित कॉनकोर्डिया यूनिवर्सिटी में दाखिला लिया, क्योंकि यही एक कॉलेज था जो हाई स्कूल ड्रॉप आउट एक मौका देता था।

 

आगे पढ़ें- कैसे की शुरुआत

65 हजार रु लगा शुरू किया बिजनेस
बिजनेस का आइडिया मिलने के बाद ब्रायन ने इस पर 65 हजार रुपए (1000 डॉलर) निवेश किए। इस राशि में से उन्होंने 700 डॉलर एक पिकअप ट्रक पर और बाकी रकम फ्लायर्स और बिजनेस कार्ड पर खर्च की। इसके बाद उन्होंने कस्टमर्स तलाशने का काम शूरू किया। गर्लफ्रेंड की सलाह पर न्यूजपेपर में विज्ञापन दिए और इससे उन्होंने फायदा मिला।
 
6.5 करोड़ कमाने में लगे 8 साल
धीरे-धीरे ब्रायन का बिजनेस बढ़ता गया और 8 साल बाद उनकी कंपनी का रेवेन्यू 6.5 करोड़ रुपए (1 मिलियन डॉलर) के पार हुआ। इस सफलता से ब्रायन संतुष्ट नहीं हुए और अपने बिजनेस बढ़ाने के लिए लगातार प्रयासरत रहे। उनकी मेहनत रंग लाई और आज उनकी कंपनी का सालाना टर्नओवर 2000 करोड़ रुपए हो गया है।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट