Home » Market » Stocksआस्‍ट्रेलिया और कनाडा की सरकार के सामने मोदी की इस स्‍कीम ने खड़ी कर दीं दिक्‍कतें - Govern

मोदी की इस स्‍कीम से डरे कनाडा-आस्‍ट्रेलिया, जारी किया अलर्ट

मोदी सरकार के एक फैसले से कनाडा और आस्‍ट्रेलिया की सरकारें संकट में आ गई हैं।

1 of

 

नई दिल्‍ली. मोदी सरकार के एक फैसले से कनाडा और आस्‍ट्रेलिया की सरकारें संकट में आ गई हैं। इन देशों की सरकारों को अपने किसानों को अलर्ट जारी करना पड़ा है। इन सरकारों को अपने किसानों को फसल चक्र बदलने को कहा गया है, क्‍योंकि भारत सरकार के प्रयासों देश को अब दालों के आयात की जरूरत नहीं रह गई है। इन दोनों से भारत में दालों का काफी आयात होता था, जो अब नहीं होगा। इसके चलते इन देशों को अपने किसानों को कहा है कि वह इस बार दालों की जगह कुछ और फसलों को लगाएं।

 

 

सत्‍ता में आते ही दालों के आयात पर मोदी ने जताई थी चिंता

पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने सत्‍ता में आते ही दालों के आयात पर चिंता जताई थी और किसानों से दाल उत्‍पादन बढ़ाने का आग्रह किया था। साथ ही सरकार ने दालों का मिनिमन सपोर्ट प्राइज (MSP) भी बढ़ाई थी। इससे किसान प्रोत्‍साहित हुए और इस सीजन में इंडिया पल्‍सेस एंड ग्रेन एसोसिएशन के अनुसार इस सीजन में अनुमान है कि भारत को दालों का आयात नहीं करना पड़ेगा।

 

 

कहां-कहां से आयात होती थीं दालें

अभी तक कनाडा, आस्‍ट्रेलिया और म्‍यंमार जैसे देशों से दालों का अायात करता था। इसके अलावा कई अफ्रीकी देशों से भी देश में दालें आती थीं। इंडिया पल्‍सेस एंड ग्रेन एसोसिएशन के अनुसार वर्ष 2016-17 में देश में 4.24 अरब डालर में 5.7 करोड़ टन दालों का अायात हुआ था। यह आयात इसके एक साल पहले 3.9 अरब डालर का था। इस दौरान 5.8 करोड़ टन दालों का अायात हुआ था।

 

 

सरकारी आंकड़े उत्‍साहजनक

सरकार की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार खरीफ सीजन 2017 के दौरान 8.71 मिट्रिक टन उत्‍पादन का अनुमान है। हालांकि यह पिछले साल के उत्‍पादन 9.42 मिट्रिक टन से कम है। अनुमान है कि चालू सीजन में करीब ढाई से तीन मिट्रिक टन अतिरिक्‍त उत्‍पादन होगा। इसके चलते अनुमान है कि देश में 24 से 25 मि्ट्रिक टन दालों की उपलब्‍धता रहेगी। यह जरूरत से ज्‍यादा है, जिसके चलते देश को दालों के आयात की जरूरत नहीं पड़ेगी। देश में हर साल करीब 5 फीसदी दालों की खपत बढ़ रही है। इस अनुमान के अनुसार देश को इस साल करीब 24 मिट्रिक टन दालों की जरूरत होगी, जिससे ज्‍यादा देश में उपलबध है।

 

 

उत्‍पादन के आंकड़ों पर एक नजर

 

वर्ष *

खरीफ

रबी

टोटल

2013-14

5.99

13.25

19.25

2014-15

5.73

11.42

17.15

2015-16

5.53

10.82

16.35

2016-17

9.42

13.53

22.95

2017-18 #

8.71

16-16.50

24.7-25.2

 

                            

नोट : आंकड़े मिलियन टन में। वर्ष * जुलाई से जून के दौरान। # मिनिस्‍ट्री ऑफ एग्रीकल्‍चर की तरफ से जारी खरीफ फसल का पहला अनुमान।

 

आगे पढ़ें : कनाडा और अस्‍ट्रेलिया ने क्‍या कहा अलर्ट में

 

 

कनाडा और आस्‍ट्रेलिया ने जारी किया अलर्ट

कनाडा और आस्‍ट्रेलिया ने भारत में दालों की अच्‍छी उपलब्‍धता को देखते हुए अपने किसानों को अलर्ट जारी किया है। इन देशों की सरकारों ने अपने किसानों से कहा है कि वह इस बार दल की फसल की जगह कुछ और उगाएं, क्‍योंकि भारत में दालों के आयात की जरूरत नहीं पड़ेगी।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट