बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksशेयर खरीददारों को BSE का होली गिफ्ट, ट्रेडिंग हुई सस्‍ती

शेयर खरीददारों को BSE का होली गिफ्ट, ट्रेडिंग हुई सस्‍ती

बीएसई ने सेंसेक्स की 30 कंपनियों के स्टॉक्स खरीदने पर लगने वाले ट्रांजैक्शन चार्ज को हटा लिया है।

1 of

 

नई दिल्ली.  स्टॉक मार्केट में खरीददारी करने वालों को होली के अवसर पर अच्छा गिफ्ट मिला है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) ने रिटेल इन्वेस्टर्स की भागीदारी बढ़ाने और प्रोत्साहित करने के लिए सेंसेक्स की 30 कंपनियों के स्टॉक्स खरीदने पर लगने वाले ट्रांजैक्शन चार्ज को हटा लिया है। यह नियम 12 मार्च से लागू होगा। फिलहाल, ग्रुप ए, बी और नॉन-एक्सक्लूसिव स्क्रिप्स पर सिक्युरिटीज के सौदों पर 50 पैसे से लेकर 1.50 रुपए तक प्रति ट्रेड की दर से ट्रांजैक्शन चार्ज लगाया जाता है। बीएसई के इस फैसले से निवेशकों को फायदा होगा।

 

भारत के लिए ग्रोथ इंजन बनेगा बीएसई
बीएसई ने अपने एक बयान में कहा कि इक्विटी सेगमेंट में एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स 30 के स्टॉक्स से 12 मार्च, 2018 से ट्रांजैक्शन चार्ज हटाया जा रहा है। एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स भारत की इकोनॉमी को मापने के लिए एक तरह से बैरोमीटर है। एक्सचेंज का मानना है कि इस फैसले से सेंसेक्स के 30 के स्टॉक्स में खरीद-फरोख्त के लिए बीएसई सबसे पसंदीदा एक्सचेंज बन जाएगा, जो कि भारत के लिए ग्रोथ इंजन है।

 

आगे पढ़ें-

 

यह भी पढ़ें- 10 हजार का निवेश 5 साल में बना 1 लाख, आगे भी 40% रिटर्न पाने का मौका

ऐसे तय होता है ट्रांजैक्शन चार्च

 

बीएसई के ट्रेडिंग मेंबर्स को प्रत्येक महीने 1 लाख तक के ट्रेड पर 1.50 रुपए प्रति ट्रेड चार्ज देना होता है। वहीं 1 लाख से 3 लाख तक के ट्रेड पर 1.25 रुपए प्रति ट्रेड और 3 से 5 लाख के ट्रेड पर 1 रुपए प्रति ट्रेड के हिसाब से चार्ज लगता है। इसके अलावा 5 लाख से 20 लाख तक के ट्रेड पर 75 पैसे प्रति ट्रेड के हिसाब से ट्रांजैक्शन चार्ज देना होता है। 20 लाख के से ऊपर के ट्रेड पर 50 पैसे प्रति ट्रेड से भुगतान करना होता है।

A, B, T ग्रुप में कैटगराइज है स्टॉक्स

 

बीएसई ने इक्विटी स्क्रिप्स को ग्रुप A, B, T में कैटगराइज किया हुआ है। इससे निवेशकों को गाइडेंस मिलती है। ग्रुप A सबसे ज्यादा ट्रैक होने वाला सेगमेंट है जिसमें करीब 300 स्टॉक्स हैं, जबकि ग्रुप B में 3000 से ज्यादा स्टॉक्स हैं। यह क्लैसफकेशन कई फैक्टर्स जैसे मार्केट कैपिटलाइजेशन, ट्रेडिंग वैल्यूम्स और नंबर, ट्रैक रिकॉर्ड्स, प्रॉफिट, डिविडेंड, शेयरहोल्डिंग पैटर्न और कुछ क्वालिटेटिव एस्पेक्ट्स पर आधारित होता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट