Home » Market » Stockslist of stocks from different brokerage firms post Q2 results

Q2 नतीजे के बाद ब्रोकरेज हाउस ने 5 स्टॉक्स पर जताया भरोसा, मिल सकता है 65% तक रिटर्न

कंपनियों की अर्निंग देखकर बड़े ब्रोकरेज हाउस स्टॉक को लेकर अपनी राय बना रहे हैं।

1 of

नई दिल्ली। Stock Market: फाइनेंशियल ईयर 2019 की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) के लिए अर्निंग सीजन जारी है और अब तक आए नतीजे बेहतर रहे हैं। कंपनियों की अर्निंग देखकर टॉप ब्रोकरेज हाउस भी स्टॉक को लेकर अपनी राय बना रहे हैं। जिन कंपनियों में अर्निंग दिखने के साथ फंडामेंटल बेहतर नजर आ रहे हैं, उनमें ब्रोकरेज हाउस निवेश की सलाह दे रहे हैं। ऐसे में निवेशकों के लिहाज से ब्रोकरेज हाउस के पसंदीदा शेयरों में निवेश सेफ बेट हो सकता है। हमने ऐसे ही 5 शेयर चुने हैं, जिनमें ब्रोकरेज हाउस ने खरीददारी की सलाह दी है।

 

वोलेटिलिटी के दौर में जोखिम कम

ब्रोकरेज हाउस कंपनी के मजबूत फंडामेंटल के आधार पर निवेश की सलाह देते हैं। कंपनियों के सेंटीमेंट्स सुधरने पर उनके स्टॉक के लिए टारगेट बढ़ा दिया जाता है। वहीं कुछ कंपनियों के फंडामेंटल इतने मजबूत होते हैं कि एक से ज्यादा ब्रोकिंग हाउस भी इन स्टॉक में निवेश की सलाह दे देते हैं। ऐसे में इन स्टॉक्स में निवेशकों के लिए जोखिम काफी कम हो जाता है क्योंकि अलग-अलग रिसर्च में स्टॉक्स से जुड़े सभी जोखिम कवर हो जाते हैं। वहीं, ब्रोकरेज हाउस के पॉजिटिव आउटलुक की वजह से इन स्टॉक्स के लिए सेंटीमेंट भी बेहतर हो जाता है। जिससे स्टॉक का प्रदर्शन बेहतर हो सकता है। 

 

किन शेयरों में मिलेगा कितना रिटर्न-

 

अल्ट्राटेक सीमेंट

आदित्य बिड़ला समूह की कंपनी अल्ट्राटेक सीमेंट (UltraTech Cement) के प्रॉफिट में फाइनेंशियल ईयर 2019 की दूसरी तिमाही में गिरावट दर्ज की गई। सितंबर तिमाही में कंपनी का प्रॉफिट 9.4 फीसदी घटकर 390.80 करोड़ रुपए रहा, जो कि पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 431.24 करोड़ रुपए था। हालांकि इस दौरान बिक्री में 21 फीसदी की तेजी दर्ज की गई, जोकि 8,111 करोड़ रुपए रही, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 6,752 करोड़ रुपए थी। ब्रोकरेज हाउस नोमुरा ने दूसरी तिमाही के नतीजे के बाद अल्ट्राटेक सीमेंट पर 5,150 रुपए के टारगेट के साथ बाय रेटिंग बरकरार रखा है। करंट प्राइस से शेयर में 52 फीसदी रिटर्न मिल सकता है।

 

आगे पढ़ें, किन शेयरों में करें निवेश

 

यह भी पढ़ें, उधर डूब रही थी अंबानी-टाटा की दौलत, इन 5 कंपनियों ने दोगुना कर लिया पैसा

जुबिलेंट फूडवर्क्स

 

डोमिनोज पिज्‍जा (Dominos Pizza) और डंकिंन डोनट्स (Dunkin Donuts) को ऑपरेट करने वाली जुबिलेंट फूडवर्क्स ने सितंबर तिमाही में बेहतर नतीजा पेश किया। जुलाई-सितंबर तिमाही के दौरान कंपनी का नेट प्रॉफिट 60.2  फीसदी बढ़कर 77.7 करोड़ रुपए रहा। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 48.47 करोड़ रुपए प्रॉफिट रहा था। वहीं दूसरी तिमाही में कंपनी की आय 21.3 फीसदी बढ़कर 881.36 करोड़ रुपए पर रही, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 726.63 करोड़ रुपए थी। तिमाही के दौरान कंपनी ने तेजी से नए स्टोर खोले। इस दौरान 24 नए डोमिनोज स्टोर खोले गए। यह पिछली सात तिमाहियों में सबसे अधिक है। ब्रोकरेज हाउस एचडीएफसी सिक्युरिटीज ने शेयर में 1,555 रुपए का टारगेट दिया है। शुक्रवार के बंद भाव से शेयर में 47 फीसदी तक रिटर्न मिल सकता है।

 

एशियन पेंट्स

 

फाइनेंशियल ईयर 2019 की दूसरी तिमाही में एशियन पेंट्स नेट प्रॉफिट 14.4 फीसदी गिरकर 493 करोड़ रुपए रहा। पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में कंपनी का नेट प्रॉफिट 576 करोड़ रुपए था। हालांकि इस दौरानअवधि के दौरान कंपनी की कुल आय पिछले वित्त वर्ष के 4,327.58 करोड़ रुपए की तुलना में 8.5 फीसदी बढ़कर इस वित्त वर्ष में 4,702.37 करोड़ रुपए पर पहुंच गई। ब्रोकरेज हाउस BofAML ने दूसरी तिमाही के नतीजे के बाद शेयर में 1,650 रुपए के टारगेट के साथ बाय रेटिंग बरकरार रखा है। शुक्रवार को शेयर 1189.45 रुपए पर बंद हुआ था। इस प्राइस से इसमें 39 फीसदी तक रिटर्न मिल सकता है।

आगे पढ़ें, और कहां मिलेगा रिटर्न

साउथ इंडियन बैंक

 

सितंबर 2018 को समाप्त हुए तिमाही में साउथ इंडिया बैंक का प्रॉफिट 16 गुना बढ़कर 70.13 करोड़ रुपए रहा। बैंक की एसेट क्वालिटी स्थिर है, नेट एनपीए कम हुआ। बैंक के प्रोविजन 54.8% घटकर 205 करोड़ रुपए रहा। नेट इंटरेस्ट इनकम में भी बढ़त रही। ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर ने शेयर के लिए 22 रुपए का लक्ष्य रखा है। करंट प्राइस 13.30 रुपए के लिहाज से शेयर में 65 फीसदी रिटर्न मिल सकता है।

 

विप्रो

 

एलारा कैपिटल ने आईटी कंपनी विप्रो 405 रुपए टारगेट के साथ बाय रेटिंग बरकरार रखा है। वित्त वर्ष 2018-19 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 13.8 फीसदी की कमी के साथ 1,889 करोड़ रुपए का प्रॉफिट दर्ज किया। वहीं बीते साल समान तिमाही के दौरान कंपनी का प्रॉफिट 2,191.8 करोड़ रुपए रहा था। हालांकि वित्त वर्ष 2018-19 की दूसरी तिमाही के दौरान विप्रो का ऑपरेशनल रेवेन्यू 8.3 फीसदी की बढ़ोत्तरी के साथ 14,541 करोड़ रुपए तक पहुंच गया, वहीं बीते साल समान अवधि के दौरान यह आंकड़ा 13,423.4 करोड़ रुपए रहा था। करंट प्राइस से शेयर में 27 फीसदी रिटर्न मिल सकता है।

 

(नोट- निवेश की सलाह ब्रोकरेज हाउस के द्वारा दी गई हैं। कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है।)

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट