Home » Market » Stocksविज्ञापन और कपड़े काे लिया वापस - Advertising and clothes taken back

छोटे से बच्चे के आगे झुकी लाखों करोड़ की कंपनी, मांगनी पड़ी माफी

लगभग पौने दो करोड़ रुपए का कारोबार करने वाली कंपनी को एक बच्‍चे के आगे झुकने के लिए मजबूर होना पड़ा है।

1 of
 
नई दिल्‍ली. लगभग पौने दो करोड़ रुपए का कारोबार करने वाली कंपनी को एक बच्‍चे के आगे झुकने के लिए मजबूर होना पड़ा है। दरअसल इस कंपनी ने अपने एक विज्ञापन में इस बच्‍चे का फोटो इस्‍तेमाल किया था, जिसके बाद विवाद खड़ा हो गया। इसके चलते न सिर्फ कंपनी को विज्ञापन वापस लेना पड़ा बल्कि उसे माफी भी मांगनी पड़ी। वैसे यह कंपनी इससे पहले भी कई बार विवादों में पड़ चुकी है। 

 
 

ब्‍लैक बच्‍चे का छापा था फोटो

स्‍वीडन की H&M कंपनी दुनियाभर में कपड़ों का कारोबार करती है। इसने पिछले दिनाें ब्रिटेन में इसने अपने स्वेट-शर्ट का एक ऑनलाइन विज्ञापन दिया था। इस विज्ञापन में कपनी ने एक ब्‍लैक बच्‍चे का फोटो इस्‍तेमाल किया था। इस बच्‍चे ने जो शर्ट पहनी थी उसमें लिखा था "Coolest monkey in the jungle." (जंगल में कूलेस्‍ट मंकी)। जैसे ही कंपनी ने विज्ञापन जारी किया सोशल मीडिया में लोगों ने निगेटिव प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी। लोगों ने इस विज्ञापन को नस्‍ली भेदभाव से प्रेरित बताया।
 

क्‍यों शुरू हुआ विवाद

दरअसल यह विवाद ब्‍लैक बच्‍चे के बाद एक अंगेेज बच्‍चे के विज्ञापन के बाद शुरू हुआ। इसमें अंग्रेज के बच्‍चे को सर्वाइवल एक्‍सपर्ट्स बताया गया था। इसके बाद ब्रिटेन में लोगों ने दोनों बच्‍चों के विज्ञापन को एक साथ करके सोशल मीडिया पर निगेटिव प्रतिक्रया के साथ आगे बढ़ाना शुरू कर दिया। इसके बाद ही कपंनी को माफी मांगनी पड़ी।
 

 

कंपनी ने वापस ली अपनी स्वेट-शर्ट

लोगाें की बढ़ती निगेटिव प्रतिक्रिया के बाद कंपनी ने एक बयान जारी लोगों से माफी मांगी। वाशिंगटन पोस्‍ट में छपे माफीनामे में कपंनी ने कहा है कि उनको इस बाद का बेहद दुख है। कंपनी ने न सिर्फ मांफी मांगी बल्कि यह भी कहा है कि वह इस फोटो को वापस ले रही है बल्कि इस स्वेट-शर्ट को वह अपने दुनियाभर के शोरूम से भी वापस ले रही है।
 

कंपनी बना रही योजना जिससे दोबारा ऐसी गलती न हो

कंपनी का कहना है कि उससे इस तरह की गलती दोबारा न हो इसके लिए व्‍यवस्‍था बनाई जा रही है। इस मामले की पूरी तरह से जांच की जा रही है। रिटेल एक्‍सपर्ट्स वेंडी लेबमान्‍न का कहना है कि जो कंपनियां दुनियाभर में कारोबार करती हैं, उनको ज्‍यादा संवेदशील रहना चाहिए। ऐसा न होने के चलते ही इस तरह की दिक्‍कतें सामाने आती हैं।

 

आगे पढ़ें : कितना बड़ा है कंपनी का आकार

 

 

पौने दो लाख करोड़ की है वैल्‍यू

स्‍वीडन की H&M शेयर बाजार में लिस्‍टेड कंपनी है। सोमवार को बंद शेयर भाव के हिसाब से कंपनी की मार्केट वैल्‍यू करीब 1.84 लाख करोड़ रुपए की है। कंपनी पुरुषों, महिलाओं और बच्‍चों के कपड़े बेचती है। कंपनी का कारोबार करीब 62 देशों में फैला हुआ है। इन देशों में कंपन के करीब 5000 स्‍टोर्स हैं।
 

पहले भी हो चुके हैं विवाद

-कंपनी इस विवाद के पहले भी कई बार विवादों में घिर चुकी है। कंपनी पर 2010 में अमेरिका के स्‍टोर से रिफंडिड कपड़े बेचने का आरोप लगा था।      
 
-जनवरी 2012 में कंपनी पर एक आर्टिस्‍ट का काम चुराने का आरोप लगा था।
 
-अगस्‍त 2013 में कंपनी पर ऐसे आइटम बेचने का आरोप लगा था जिससे कनाडा के लोगों के अपमान होता था।
 
-जून 2014 में कंपनी पर बंग्‍लादेश में तय समय सीमा से अधिक काम कराने का आरोप लगा था। कंपनी पर आरोप लगा था कि वह बंग्‍लादेश में हर हफ्ते 80 घंटे काम करा रही है, जबकि नियम 60 घंटे का है।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट