Home » Market » StocksChina Battery Giant become billionaires after in one day

बैटरी कारोबारी ने एक दिन में कमाए 23 हजार करोड़, दुनिया के अमीरों को देने लगा टक्कर

लिस्टिंग के बाद शेयर में तेजी आई जिससे कंपनी के फाउंडर की दौलत एक दिन में बढ़कर 23 हजार करोड़ रुपए हो गई।

China Battery Giant become billionaires after in one day

नई दिल्ली.  एक बैटरी कारोबारी एक दिन में अरबपति बन गया। जी हां, यह सुनने में थोड़ा अजीब लग रहा होगा। लेकिन इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए दुनिया का सबसे बड़ा बैटरी बनाने वाले शख्स ने सिर्फ एक दिन में 23 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा कमा लिए हैं। आप सोच रहे होंगे कि यह कैसे मुमकिन हुआ। दरअसल, ई-व्हीकल के लिए सबसे बड़े बैटरी बनाने वाली चीन की कंपनी कन्टेम्परेरी अम्पेरेक्स टेक्नोलॉजी को. लिमिटेड का शेयर एक्सचेंज पर लिस्ट हुआ। लिस्टिंग के बाद शेयर में तेजी आई जिससे कंपनी के फाउंडर की दौलत एक दिन में बढ़कर 23 हजार करोड़ रुपए हो गई।


चीन के अरबपतियों में शामिल हुए युकुन

इलेक्ट्रिक व्हीकल के लिए सबसे बड़े बैटरी बनाने वाली कंपनी कन्टेम्परेरी अम्पेरेक्स टेक्नोलॉजी को. लिमिटेड के फाउंडर जेंग युकुन अब चीन के अरबपतियों के साथ दुनिया के अमीरों को टक्कर देने लगे हैं। शेयर बाजार में शेयर लिस्ट होने की वजह से उनकी दौलत बढ़कर 23 हजार करोड़ रुपए (340 करोड़ डॉलर) हो गई है। कंपनी में जेंग की 26 फीसदी हिस्सेदारी है।

 

कंपनी की वैल्यू 83640 करोड़ रु हुई

पहले दिन के कारोबार में कन्टेम्परेरी अम्पेरेक्स टेक्नोलॉजी के शेयर में 44 फीसदी की तेजी आई। ब्लूमबर्ग बिलियनर्स इंडेक्स के अनुसार, शेयरों में उछाल से कंपनी का वैल्युएशन 83,640 करोड़ रुपए (1230 करोड़ डॉलर) हो गया।

 

बड़ी ऑटो कंपनियों को बैटरी सप्लाई करती है कंपनी

सीएटीएल दुनिया की बड़ी ऑटो कंपनियों को बैटरी सप्लाई करती है। इनमें निसान मोटर, ह्युंडई मोटर और बीएमडब्ल्यू एजी शामिल है। पिछले साल कंपनी दुनिया की बड़ी इलेक्ट्रिक व्हीकल बैटरी सप्लाई करने वाली पैनासोनिक को बिक्री के मामले में पीछे छोड़ा है।

 

2011 में शुरू किया था बैटरी का कारोबार

50 वर्षीय जेंग ने 2011 में बैटरी बनाने का कारोबार शुरू किया था। उन्होंने सरकार द्वारा इलेक्ट्रिक व्हीकल को प्रोमोट किए जाने की पॉलिसी का फायदा उठाया और सीएटीएल की स्थापना की। कंपनी यूरोप में अपनी फैक्ट्री लगाने की योजना बना रही है। यह फैक्ट्री जर्मनी में स्थापित हो सकती है। कंपनी का फोकस जर्मन ऑटो मेकर कंपनियों फॉक्सवैगन, बीएमडब्ल्यू और डेलमर पर है।

 

यह भी पढ़ें- एक साल में 75 हजार करोड़ बढ़ी दौलत, बिड़ला से भी आगे निकल गए दमानी

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट