विज्ञापन
Home » Market » StocksBanking sector shares performing well after interest rate deduction by RBI

भारतीय रिजर्व बैंक की दरों में कटौती से बैंकों के शेयरों में उछाल, एक्सिस बैंक में सबसे ज्यादा तेजी

RBI ने रेपो रेट घटाकर 6.25 फीसदी से 6 फीसदी किया

Banking sector shares performing well after interest rate deduction by RBI

Banking sector shares performing well after interest rate deduction by RBI: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की ओर से रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कमी किए जाने का निवेशकों ने स्वागत किया है। इस कमी के बाद शेयर बाजार में बैंकिंग सेक्टर में तेजी का माहौल बना है।

नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की ओर से रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में 25 बेसिस प्वाइंट की कमी किए जाने का निवेशकों ने स्वागत किया है। इस कमी के बाद शेयर बाजार में बैंकिंग सेक्टर में तेजी का माहौल बना है। निजी और सरकारी क्षेत्र के बैंकों में लिवाली के कारण तेजी का माहौल बना हुआ है। बैंकिंग सेक्टर के शेयर 85 अंकों की तेजी के साथ 33,933 अंकों पर कारोबार कर रहे हैं।

एक्सिस बैंक के शेयरों में 1.10 फीसदी की तेजी
ब्याज दरों में कटौती के बैंकिंग सेक्टर में छाई लिवाली का सबसे ज्यादा फायदा फेडरल बैंक को हुआ है। दोपहर 1.38 बजे एक्सिस बैंक के शेयर 0.96 फीसदी की तेजी के साथ 768.70 पर कारोबार कर रहे हैं। इसके बाद स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के शेयर 0.89 फीसदी की तेजी के साथ 323.50 पर कारोबार कर रहे हैं। फेडरल बैंक के शेयरों में 0.89 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है और यह 96.40 पर कारोबार कर रहे हैं। सिटी यूनियन बैंक के शेयर 0.76 फीसदी की तेजी के साथ 199.95 पर कारोबार कर रहे हैं। निजी सेक्टर के प्रमुख बैंकों में शुमार एचडीएफसी बैंक के शेयर 0.56 फीसदी की तेजी के साथ 2308.20 पर कारोबार कर रहे हैं। 

इन बैंकों के शेयर में गिरावट
बैंकिंग सेक्टर के लिए अच्छी खबर होने के बाद भी निजी बैंकों के शेयरों में मंदी का माहौल दिख रहा है। बड़े निजी बैंकों में शुमार आईसीआईसीआई बैंक के शेयर 0.11 फीसदी की गिरावट के साथ 391.95 पर कारोबार कर रहे हैं। कोटक बैंक के शेयर 0.19 फीसदी की गिरावट के साथ 391.95 पर, इंड्सइंड बैंक के शेयर 0.83 फीसदी की गिरावट के साथ 1758 पर और यस बैंक के शेयर 1.28 फीसदी की गिरावट के साथ 270.25 पर कारोबार कर रहे हैं। 

मौद्रिक नीति की मुख्य बातें
- रेपो दर 6.25 प्रतिशत से घटाकर 6.00 प्रतिशत,
रिवर्स रेपो दर 6.00 प्रतिशत से घटाकर 5.75 प्रतिशत
- बैंक दर 6.50 प्रतिशत से घटाकर 6.25 प्रतिशत
मार्जिनल स्टैंडिंग फसिलिटी (एमएसएफ) 6.50 प्रतिशत से घटाकर 6.25 प्रतिशत
- नकद आरक्षित अनुपात चार प्रतिशत पर यथावत
- वैधानिक तरलता अनुपात (एसएलआर) 19.25 प्रतिशत
- चालू वित्त वर्ष के विकास अनुमान को कम कर 7.2 प्रतिशत किया 
- चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में खुदरा महंगाई अनुमान को कम कर 2.9 से 3.0 प्रतिशत के बीच रहने तथा दूसरी छमाही में इसके 3.5 से 3.8 प्रतिशत के बीच रहने की उम्मीद जताई 
- चालू वित्त वर्ष की दूसरी द्विमासिक बैठक 03 से 06 जून 2019 को 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss