बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksडिमांड ग्रोथ से बेहतर है ऑटो सेक्टर का आउटलुक, ये शेयर दे सकते हैं 40% तक रिटर्न

डिमांड ग्रोथ से बेहतर है ऑटो सेक्टर का आउटलुक, ये शेयर दे सकते हैं 40% तक रिटर्न

ऐसे में ऑटो स्टॉक्स में आगे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद बन गई है।

1 of

नई दिल्ली.  ऑटो एक्सपो-2018 ऑटो कंपनियों द्वारा व्हीकल्स की नई लॉन्चिंग और महीने दर महीने सेल्स में बढ़ोतरी से ऑटो सेक्टर का आउटलुक का बेहतर हुआ है। पैसेंजर व्हीकल्स के साथ टू व्हीलर और कमर्शियल व्हीकल्स की डिमांड सुधरी है। वहीं, कंपनियों ने नए साल में कीमतों में बढ़ोतरी की हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि नई लॉन्चिंग से कंपनियों की बिक्री में बढ़ोतरी होगी, जिससे कंपनी को मार्जिन बढ़ाने में मदद मिलेगी। ऐसे में ऑटो और उससे जुड़ी कंपनियों के स्टॉक्स में आगे बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद बन गई है।

 

 

डिमांड सेंटीमेंट्स पॉजिटिव 
-ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल की रिपोर्ट के मुताबिक अनुसार ऑटो सेक्टर में नए प्रोडक्ट्स आने का फायदा मिल रहा है, जिससे सेंटीमेंट्स पॉजिटिव बने हुए हैं। फाइनेंशियर ईयर 2018 में टू-व्हीलर और 4 व्हीलर इंडस्ट्री में ग्रोथ है। अभी तक टू व्हीलर इंडस्ट्री 13.6 फीसदी बढ़ी है। स्कूटर और मोटरसाइकिल दोनों सेग्मेंट में ग्रोथ है। ओवरऑल पैसेंजर व्हीकल्स सेग्मेंट में रिटेल ग्रोथ हेल्दी बनी हुई है। कमर्शियल व्हीकल्स में मिक्स्ड डिमांड है। 


-ब्रोकिंग फर्म के मुताबिक, मौजूदा साल में रूरल डिमांड में मजबूत पिक-अप देखने को मिल रही है। इंडिया में कॉम्पिटीटिव एन्वायरमेंट का भी फायदा सेक्टर को मिल रहा है। 

 

 

चौथी तिमाही में मुनाफा बढ़ने का अनुमान
जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के हेड ऑफ इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटजिस्ट गौरांग शाह का कहना है कि जनवरी में ऑटो कंपनियों की सेल्स बेहतर रही है। सबसे अच्छा प्रदर्शन कमर्शियल व्हीकल सेग्मेंट में देखने को मिला है। वहीं टू-व्हीलर और यूटिलिटी व्हीकल्स के आंकड़े भी अच्छे रहे हैं। बिक्री के आंकड़ों से अनुमान है कि चौथे क्वार्टर में कंपनियों की आय पर बेहतर असर देखने को मिल सकता है। 


उनके मुताबिक मानसून बेहतर रहा है ऐसे में आने वाले समय में ग्रामीण इलाकों में डिमांड और बढ़ेगी। ग्रामीण इलाकों में मांग का सीधा असर टू व्हीलर सेग्मेंट में देखने को मिल सकता है। वहीं बजट में सरकार का फोकस रूरल इंडिया की इनकम बढ़ाने पर है। इसका ऑटो कंपनियों का फायदा मिलेगा। वहीं फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर का कहना है कि शादी का सीजन शुरू हो गया है। इस सीजन में टू-व्हीलर और कारों की डिमांड बढ़ती है।

 

आगे पढ़ें- इन स्टॉक्स में करें निवेश

रिको ऑटो इंडस्ट्रीज

 

रिको ऑटो इंडस्ट्रीज देश की बड़ी कारमेकर कंपनी मारुति सुजुकी और महिंद्रा एंड महिंद्रा को ऑटो पार्ट्स सप्लाई करती है। फाइनेंशियल ईयर 2018 की तीसरी तिमाही में कंपनी का कंसोलिडेटेड नेट प्रॉफिट 31.54 फीसदी बढ़कर 13.22 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल समान क्वार्टर में कंपनी का नेट प्रॉफिट 10.05 करोड़ रुपए था। ब्रोकरेज हाउस शेयरखान ने रिको ऑटो में करंट मार्केट प्राइस से 40 फीसदी ग्रोथ का अनुमान जताया है। ब्रोकरेज हाउस ने स्टॉक में 115 रुपए का लक्ष्य दिया है। 


टाटा मोटर्स

हाल ही में सम्पन्न हुए ऑटो एक्स-पो 2018 में टाटा मोटर्स ने मार्केट शेयर बढ़ाने के लिए दो नए मॉडल्स पेश किए हैं। H5X और 45X  नाम के दो कॉन्‍सेप्‍ट मॉडल भी पेश किए। कंपनी ने दोनों की डिजाइन थीम को अगली जनरेशन का डिजाइन बताया है। इसके अलावा कंपनी इलेक्ट्रिक व्हीकल पर भी फोकस कर रही है। इसके तहत टाटा मोटर्स ने ऑटो एक्स-पो में 6 इलेक्ट्रिक वाहन भी लॉन्‍च किए हैं। इसमें टियागो और टिगोर के इलेक्ट्रिक वर्जन के साथ 4 कॉमर्शियल वाहन शामिल हैं। ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर ने शेयर में 438 रुपए का लक्ष्य दिया है। वहीं फॉर्च्यून फिस्कल के डायरेक्टर जगदीश ठक्कर ने 400 रुपए का लक्ष्य दिया है। मौजूदा प्राइस 372.80 के लिहाज से शेयर में 17 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है।


मारुति सुजूकी

सिमी भौमिक डॉट कॉम की टेक्निकल एनालिस्ट सिमी भौमिक ने मारुति सुजूकी में 9200-9500 के लक्ष्य के साथ निवेश की सलाह दी है। सिमी के मुताबिक आने वाले समय में कंपनी को रूरल इकोनॉमी में रिकवरी का फायदा मिलेगा। कंपनी की घरेलू ऑटो सेक्टर में मजबूत हिस्सेदारी है। वहीं ऑटो एक्स-पो 2018 में नए लॉन्च से कंपनी को आने वाले समय में और फायदा मिलने की उम्मीद है। करंट प्राइस से स्टॉक में 5 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है।

 

बजाज ऑटो

ब्रोकरेज हाउस केआर चोकसी ने बजाज ऑटो पर अपना भरोसा जताया है। ब्रोकरेज हाउस के मुताबिक, रूरल डिमांड का फायदा कंपनी को मिलेगा और जिससे स्टॉक 16 फीसदी की ग्रोथ देखने को मिल सकती है। जनवरी महीने में कंपनी ने 163111 यूनिट्स बेचे थे। पिछले साल समान अवधि की तुलना में 36 फीसदी ग्रोथ रही। ब्रोकिंग फर्म ने शेयर में 3,504 के लक्ष्य के साथ निवेश की सलाह दी है। करंट मार्केट प्राइस से 16.48 फीसदी का रिटर्न मिलने सकता है।


(नोट- दी गई निवेश सलाह मार्केट एक्सपर्ट्स और ब्रोकरेज हाउस के द्वारा जारी की गई रिपोर्टेस पर आधारित हैं। निवेश के फैसले से पहले अपने स्तर पर भी इन सलाह की जांच कर लें। मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, ऐसे में निवेश से पहले सतर्कता जरूरी है।)

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट