बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksबिगबी को लगा 650 करोड़ का झटका, बिटकॉइन में तेजी के बीच 910Cr बढ़ी थी दौलत

बिगबी को लगा 650 करोड़ का झटका, बिटकॉइन में तेजी के बीच 910Cr बढ़ी थी दौलत

बच्चन देश की पहली ऐसी बड़ी हस्ती हैं, जिनका नाम बिटकॉइन के साथ जुड़ रहा है।

1 of

नई दिल्ली/न्यूयॉर्क. बिटकॉइन की कीमतों में भारी तेजी के बीच कुछ ही दिनों में मेगास्टार अमिताभ बच्चन की दौलत लगभग 910 करोड़ रुपए बढ़ी थी, लेकिन कुछ ही दिन में उनकी 650 करोड़ रुपए की दौलत डूब भी गई। इसकी वजह क्रिप्टोकरंसीज के मार्केट से जुड़ी एक अनजान सी कंपनी बनी है, जिसमें बिग बी की मामूली हिस्सेदारी है।

 

ऐसे डूबे बच्चन के 650 करोड़ रुपए

- पीटीआई के मुताबिक अमिताभ बच्चन लंबे समय से भारत की छोटी सी लिस्टेड कंपनी स्टैम्पेड के शेयरहोल्डर हैं। इसके प्रमोटर ने हाल में अमेरिका में एक कंपनी लॉन्गफिन को लिस्ट कराया है, जिसके स्टॉक्स में दो दिन के भीतर 2500 फीसदी की तेजी दर्ज की गई। अमेरिका की इस कंपनी ने हाल में सिंगापुर की एक कंपनी जिड्डू डॉट कॉम का अधिग्रहण किया था, जिसमें भी बच्चन की इनडायरेक्ट होल्डिंग थी। इन डील्स और क्रॉस होल्डिंग के क्रम में एक समय बिग बी की होल्डिंग की वैल्यू लगभग 910 करोड़ थी, जो अब 260 करोड़ रुपए रह गई है।

 

यह भी पढ़ें-इस महिला के हाथ में है माल्या की किस्मत, हर घंटे के लेती है 1.60 लाख रु

 

बिटकॉइन से जुड़ा अमिताभ का लिंक

जहां लाखों भारतीयों के बीच बिटकॉइन और अन्य ऐसी वर्चुअल करंसीज को लेकर चर्चाएं हो रही थीं, ऐसे में बच्चन संभवतः देश की पहली ऐसी बड़ी हस्ती हैं, जिनका नाम इसके साथ जोड़ा गया है। ऐसा लगभग 3-4 साल पहले उनके द्वारा किए गए एक छोटे से निवेश की वजह से हुआ था।

इसका लिंक हैदराबाद की एक कंपनी स्टैम्पेड कैपिटल है, जो खुद को 'रिसर्च आधारित ग्लोबल ट्रेड हाउस' और 'लिक्विडिटी उपलब्ध कराने वाली और मार्केट मेकर' के तौर पर पेश करती है।

 

 

इस छोटी सी कंपनी में शेयरहोल्डर हैं बिग बी

- पीटीआई के मुताबिक अपनी रेग्युलेटरी फाइलिंग में कंपनी बच्चन को अपना 'इंडिविजुअल नॉन प्रमोटर शेयरहोल्डर' बताती है, जिनके पास पिछले क्वार्टर के अंत तक कंपनी की 2.38 फीसदी हिस्सेदारी थी।

- बीएसई के रिकॉर्ड्स के मुताबिक, बच्चन कम से कम जून 2014 से उसके शेयरहोल्डर्स (1 फीसदी या ज्यादा हिस्सेदारी) की लिस्ट में बने हुए हैं। हालांकि उनकी हिस्सेदारी लगातार बदलती रही है। 30 जून, 2014 तक कंपनी में बच्चन की हिस्सेदारी 3.39 फीसदी थी, जिसकी वैल्यू उस समय लगभग 9 करोड़ रुपए थी। उनकी मौजूदा होल्डिंग की वैल्यू लगभग आधी 4.7 करोड़ रुपए है।

 

यह भी पढ़ें-कानपुर का शख्स दे रहा दिग्गज कंपनियों को टक्कर, खड़ा किया अरबों का एम्पायर

 
 

अमेरिका में फर्म के लिस्ट होने का मिला फायदा

- बच्चन की दौलत बढ़ने की मुख्य वजह स्टैम्पेड रही, जिसने हाल में अपनी सब्सिडियरी लॉन्गफिन कॉर्प को अमेरिका में नैस्डैक एक्सचेंज पर लिस्ट कराया था। पिछले हफ्ते 2.5 डॉलर प्रति इश्यू की दर से बिक्री के बाद लिस्टिंग के वक्त लॉन्गफिन की मार्केट कैप 37 करोड़ डॉलर थी।

- लॉन्गफिन में स्टैम्पेड की हिस्सेदारी 37.14 फीसदी है और स्टैम्पेड में हिस्सेदारी होने के कारण बच्चन (2.38 फीसदी) को भी अमेरिका में लिस्टेड फर्म का फायदा मिलेगा।

 

दो दिन में 2500 फीसदी चढ़ा लॉन्गफिन का स्टॉक

- हाल में जिड्डू डॉट कॉम के अधिग्रहण के बाद दो दिन के भीतर लॉन्गफिन का स्टॉक 2500 फीसदी चढ़ा। यह एक ऐसी वेबसाइट है जो कमोडिटीज के इंपोर्टर्स और एक्सपोर्टर्स को वेयरहाउस रिसीट्स के एवज में ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से पावर्ड वेयरहाउस कॉइन उपलब्ध कराने का दावा करती है। इसके साथ ही लॉन्गफिन ऐसे कुछ चुनिंदा लिस्टेड कंपनियों में शामिल हो गई है, जो प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर बिटकॉइन से जुड़ी हुई हैं।

- लॉन्गफिन ने इस वेबसाइट को सिंगापुर की इकाई मेरिडियन एंयरप्राइजेज से खरीदा, जिसकी 95 फीसदी स्टेक लॉन्गफिन कॉर्प के सीईओ और चेयरमैन वेंकट एस मीनावल्ली के पास है और वह स्टैम्पेड के मुख्य प्रमोटर भी हैं।

 

 

डील के चलते मिले बच्चन को मिले शेयर

- लॉन्गफिन ने कंपनी के 25 लाख रिस्ट्रिक्टेड क्लास ए कॉमन शेयरों के बदले में मेरीडियन और हॉन्गकॉन्ग की गैलेक्सी मीडिया लि. की अगुआई वाली सहयोगी एंटिटीज के साथ एक एसेट परचेज एग्रीमेंट किया था। इस प्रकार इस डील से एक और बच्चन लिंक सामने आया।

- लॉन्गफिन की यूएस रेग्युलेटर एसईसी में दी गई फाइलिंग के मुताबिक, जिड्डू डॉट कॉम के अधिग्रहण के लिए इन 25 लाख शेयर बांटे गए , जिनमें से 1 लाख शेयर गैलेक्सी मीडिया, 1.25 लाख शेयर अमिताभ बच्चन और 1.25 लाख शेयर अभिषेक बच्चन को मिले।

 

 

आगे भी पढ़ें-कैसे डूबे बच्चन के 650 करोड़ रुपए

 

डिटेल में समझें, बच्चन के डूबे 650 करोड़ रुपए

- लॉन्ग फिन का मौजूदा 41 डॉलर स्टॉक प्राइस के हिसाब से अमिताभ और अभिषेक बच्चन की हिस्सेदारी की वैल्यू 1.025 करोड़ डॉलर (65 करोड़ रुपए) होगी।

- स्टैम्पेड में स्टेक के कारण लॉन्गफिन की मौजूदा 3.4 अरब डॉलर की मार्केट कैप पर इनडायरेक्ट होल्डिंग की वैल्यू लगभग 3 करोड़ डॉलर (195 करोड़ रुपए) होती है। मौजूदा मार्केट कैप भी लिस्टिंग के लेवल से लगभग 10 गुनी ज्यादा है।

- लिस्टिंग के बाद से लॉन्गफिन के शेयर के एनालिसिस से पता चलता है कि दिसंबर, 2017 में इसके स्टॉक ने 142.82 डॉलर का हाई टच किया था, जब उसका मार्केट कैप 10 अरब डॉलर था। उस हाई पर, जिड्डू डॉट कॉम डील के एवज में बच्चन को मिले लॉन्गफिन के शेयरों की वैल्यू 3 करोड़ डॉलर से ज्यादा होती। इसके अलावा लॉन्गफिन की हाईएस्ट वैल्युएशन पर एनालिसिस करें तो स्टैम्पेड के माध्यम से इनडायरेक्ट ओनरशिप की कीमत लगभग 10 करोड़ डॉलर (लगभग 650 करोड़ रुपए) होती। ऊपर के आंकड़ों को जोड़ा जाए तो लॉन्ग फिन के हाई वैल्युएशन पर अमिताभ की दौलत 910 करोड़ रुपए होती है।

- दूसरी तरफ लॉन्गफिन के 2.5 डॉलर प्रति इश्यू ऑफर प्राइस के हिसाब से लिस्टिंग से पहले इस होल्डिंग की वैल्यू महज 10 लाख डॉलर थी। अब डायरेक्ट और इनडायरेक्ट होल्डिंग्स की वैल्यू 4 करोड़ डॉलर (260 करोड़ रुपए) होती है। इस प्रकार बिग बी की वेल्थ लगभग 650 करोड़ रुपए कम हो गई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट