मोदी सरकार का एक फैसला, 3500 करोड़ रु बढ़ गई इस बैंक की वैल्यू

Allahabad Bank: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली सरकार का एक फैसला एक सरकारी बैंक के लिए इतना मुफीद साबित हुआ कि महज 16 दिन के भीतर उसकी मार्केट कैप लगभग 3500 करोड़ रुपए बढ़ गई।

moneybhaskar

Mar 08,2019 02:28:00 PM IST


नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली सरकार का एक फैसला एक सरकारी बैंक के लिए इतना मुफीद साबित हुआ कि महज 16 दिन के भीतर उसकी मार्केट कैप लगभग 3500 करोड़ रुपए बढ़ गई। दरअसल सरकार ने 20 फरवरी 12 सरकारी बैंकों में लगभग 48 हजार करोड़ रुपए के फंड इनफ्यूजन का ऐलान किया था। इसमें यह बैंक भी शामिल था। जानिए किस बैंक को मिला सबसे ज्यादा फायदा…

17 दिन में 3500 करोड़ रु बढ़ी मार्केट वैल्यू

हम यहां सरकार के स्वामित्व वाले इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) की बात कर रहे हैं, जिसके शेयर में शुक्रवार को लगभग 5 फीसदी की मजबूती दर्ज की गई। इसके साथ ही बैंक के शेयर ने 58.20 रुपए का हाई भी टच किया, जो 52 हफ्ते का उच्चतम स्तर था। वहीं 20 फरवरी को बैंक रिकैप प्लान के ऐलान के बाद से देखें तो बीते 16 दिन में 41 रुपए से बढ़कर 57 रुपए के स्तर पर पहुंच गया। इसके चलते बैंक की मार्केट कैप 8500 करोड़ रुपए से बढ़कर लगभग 12 हजार करोड़ रुपए हो गई है। इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) को मिला कितना फंड...


इलाहाबाद बैंक को मिला 6896 करोड़ रु का फंड 20 फरवरी को कैबिनेट ने 12 बैंकों में लगभग 48,000 करोड़ रुपए के फंड इनफ्यूजन का ऐलान किया था, जिसमें से इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) को 6896 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया। इसके बाद से ही इलाहाबाद बैंक के शेयर में रैली देखने को मिल रही है। इससे पहले भारी एनपीए की समस्या को देखते हुए रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने इलाहाबाद बैंक प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन (पीसीए) फ्रेमवर्क में डाल दिया था। दो बैंकों का रहा अच्छा प्रदर्शन...PCA के तहत अच्छा प्रदर्शन करने वाले दो बैंकों को सबसे ज्यादा फंड बैंक रिकैप प्लान का ऐलान करते हुए वित्त सचिव राजीव कुमार ने कहा था कि सरकार रिजर्व बैंक (RBI) की निगरानी में चल रहे प्रॉम्प्ट करेक्टिव एक्शन (PCA) के तहत बेहतर प्रदर्शन करने वाले; दो बैंकों कॉरपोरेशन बैंक (Corporation Bank) और इलाहाबाद बैंक (Allahabad Bank) में सबसे ज्यादा क्रमश 9,086 करोड़ रुपए और 6,896 करोड़ रुपए लगाएगी। पीसीए से बाहर आए दो बैंक इसके अलावा बैंक ऑफ इंडिया (Bank of India) और बैंक ऑफ महाराष्ट्र (Bank of Maharashtra) में क्रमशः 4,638 करोड़ रुपए और 205 रुपए का फंड लगाएगी। ये बैंक हाल में आरबीआई के रेग्युलेटरी पीसीए फ्रेमवर्क से बाहर आए हैं। कुमार ने कहा कि पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) को 5908 करोड़ रुपए, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को 4112 करोड़ रुपए, आंध्र बैंक को 3256 करोड़ रुपए और सिंडिकेट बैंक 1603 करोड़ रुपए मिलेंगे। दिसंबर में 7 बैंकों में लगाए थे 28615 करोड़ रुपए सरकार पीसीए के तहत आने वाले चार अन्य बैंकों- सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, यूनाइटेड बैंक, यूको बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक में 12,535 करोड़ रुपए लगाएगी। सरकार ने दिसंबर में रिकैपिटलाइजेशन बॉन्ड्स के माध्यम से 7 सरकारी बैंकों में 28,615 करोड़ रुपए लगाए थे।
X
COMMENT

Money Bhaskar में आपका स्वागत है |

दिनभर की बड़ी खबरें जानने के लिए Allow करे..

Disclaimer:- Money Bhaskar has taken full care in researching and producing content for the portal. However, views expressed here are that of individual analysts. Money Bhaskar does not take responsibility for any gain or loss made on recommendations of analysts. Please consult your financial advisers before investing.