Advertisement
Home » Market » Stocks161 IPOs garner $5.52 bn till November in 2018

161 IPO के साथ दुनिया में दूसरे नंबर पर रहा भारत, नवंबर तक जुटाए 39 हजार करोड़

IPO: भारतीय स्टॉक एक्सचेंज इस साल नवंबर तक इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग्स (IPO) के मामले में दुनिया में दूसरे नंबर पर रहे।

161 IPOs garner $5.52 bn till November in 2018

 

नई दिल्ली. भारतीय स्टॉक एक्सचेंज इस साल नवंबर तक इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग्स (IPO) के मामले में दुनिया में दूसरे नंबर पर रहे। एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में इस दौरान 161 आईपीओ (IPO) आए, जिनके द्वारा 5.52 अरब डॉलर (39 हजार करोड़ रुपए) जुटाने में कामयाबी मिली।

 

 

चौथी तिमाही में आए सिर्फ 2 आईपीओ

ईवाई इंडिया (EY India) आईपीओ ट्रेंड्सः क्यू4 2018 रिपोर्ट में कहा गया कि इस कैलेंडर वर्ष की चौथी तिमाही में बीएसई और एनएसई पर सिर्फ दो आईपीओ (IPO) आए, जबकि 2017 की चौथी और 2018 की तीसरी तिमाही के दौरान क्रमशः 9 और 3 आईपीओ आए थे।

कुछ ऐसी ही रुझान स्माल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (SME) मार्केट में भी दिखा। 2018 की चौथी तिमाही में जहां 8 आईपीओ आए, जबकि इसकी तुलना में 2017 की चौथी और 2018 की तीसरी तिमाही में क्रमश 31 और 42 आईपीओ आए थे।

 

 

पैसा जुटाने में फाइनेंशियल सेक्टर टॉप पर

आईपीओ की संख्या के मामले में कंस्ट्रक्शन और इंजीनियरिंग सेक्टर सबसे ज्यादा एक्टिव रहे, वहीं फाइनेंशियल सर्विसेस सेक्टर पैसा जुटाने के मामले में टॉप पर रहा।

ईवाई इंडिया में फाइनेंशियल अकाउंटिंग एडवाइजरी सर्विसेस पार्टनर और नेशनल लीडर संदीप खेतान ने कहा, ‘चौथी तिमाही के दौरान भारत में आईपीओ एक्टिविटीज में खासी गिरावट दर्ज की गई। इसकी वजह मार्केट में गिरावट और कई अन्य डॉमेस्टिक व ग्लोबल फैक्टर रहे। फिलहाल कंपनियां वेट एंड वाच की पॉलिसी पर चल रही हैं।’

 

 

इन वजहों से आईपीओ एक्टिविटीज में सुस्ती

रिपोर्ट के मुताबिक, आईपीओ में कमी की वजह शेयर बाजार में गिरावट है। गिरावट का सबसे ज्यादा असर मिड-कैप और स्माल-कैप स्टॉक्स पर दिख रहा है। इसके साथ ही अमेरिका-चीन के बीच ट्रेड वार के चलते ग्लोबल ग्रोथ को लेकर पैदा हुई अनिश्चितताएं भी आईपीओ मार्केट पर भारी पड़ रही हैं।

 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement