बिज़नेस न्यूज़ » Market » Stocksइस हफ्ते मार्केट पर हावी रहेंगे ग्लोबल सेंटीमेंट्स, निफ्टी के लिए 11,000 का लेवल अहम

इस हफ्ते मार्केट पर हावी रहेंगे ग्लोबल सेंटीमेंट्स, निफ्टी के लिए 11,000 का लेवल अहम

पिछले हफ्ते घरेलू शेयर बाजार में सीमित दायरे में कारोबार देखने को मिला। इस दौरान बाजार में तेज उतार-चढ़ाव रहा।

nifty50 may touch 11000 level

नई दिल्ली.  पिछले हफ्ते घरेलू शेयर बाजार में सीमित दायरे में कारोबार देखने को मिला। इस दौरान बाजार में तेज उतार-चढ़ाव रहा। इस हफ्ते शेयर बाजार पर घरेलू सेंटीमेंट्स हावी रहेंगे। क्रूड इन्वेंट्री, ट्रम्प-किम जोंग मुलाकात, मानसून की चाल जैसे कुछ फैक्टर्स हैं जिसपर बाजार की नजर रहेगी। मार्केट एक्सपर्ट्स का कहना कि बीते हफ्ते निफ्टी ने 10,800 के स्तर को पार करने में कामयाब रहा है। ऐसे में बाजार तेजी के बीच निफ्टी के लिए 11,000 का लेवल अहम हो गया है।

 

निफ्टी के लिए 11,000 का लेवल अहम

मार्केट एक्सपर्ट सचिन सर्वदे का कहना है कि बाजार में इस हफ्ते तेजी रहने की संभावना है। निफ्टी में 10,800 का रेजिस्टेंस है। पिछले हफ्ते निफ्टी 10,700 के ऊपर बंद होने में कामयाब रहा, जो बाजार के लिए अच्छा संकेत है। 10,800 के ऊपर बंद होने पर निफ्टी 11,000 के लेवल तक जा सकता है। हालांकि इसके नीचे बंद होने पर निफ्टी में 10,500 का अहम सपोर्ट है।
वहीं ट्रेडस्विफ्ट ब्रोकिंग के डायरेक्टर संदीप जैन ने कहा कि इस बाजार में ग्लोबल फैक्टर्स हावी रहेंगे। मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में ज्यादा गिरावट हो गई है और अब इससे फिर से खरीददारी देखने को मिल सकती है। निफ्टी में 10,800 का रेजिस्टेंस रहेगा।


 

ये फैक्टर्स रहेंगे पॉजिटिव

 

# क्रूड इन्वेंट्री डाटा

इस हफ्ते बुधवार को क्रूड ऑयल इन्वेंट्री के डाटा जारी होंगे। केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि अमेरिका में क्रूड का प्रॉडक्शन बढ़ा हुआ है। उनके मुताबिक, क्रूड इन्वेंट्री के डाटा अच्छे रहेंगे। प्रोडक्शन में बढ़ोतरी से क्रूड की कीमतें गिरेंगी, जो बाजार के लिए अच्छा संकेत है।

 

मानसून की चाल

इसके अलावा बाजार की नजर मानसून पर भी रहेगी। पश्चिम में मानसून ने दस्तक दे दी है। इस सीजन में मानसून अनुमान से भी तेजी से देश के अलग-अलग हिस्सों में पहुंच रहा है। मौसम विभाग का अनुमान है कि इसी महीने पूरे देश को मानसून कवर कर लेगा। मानसून का पॉजिटिव रहना बाजार के लिए अच्छी खबर है।

 

# ट्रम्प-किम जोंग की मुलाकात पर नजर

दुनियाभर के बाजारों को इस सप्ताह उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की सिंगापुर में होने वाले ऐतिहासिक शिखर सम्मेलन में होने वाली मुलाकात का भी इंतजार है। दोनों नेताओं के बीच उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को बंद करने और परमाणु हथियारों को नष्ट करने पर बातचीत होने की संभावना है।

 

ये फैक्टर्स बाजार के लिए हैं निगेटिव-

 

# ट्रेड वार का संकट बरकरार

संदीप जैन के मुताबिक, ट्रेड वार का संकट अभी भी बरकरार है। निवेशकों को कनाडा में चल रहे विकसित देशों का समूह G-7 के शिखर सम्मेलन के नतीजों का इंतजार है। इसमें इम्पोर्ट ड्यूटी को लेकर पैदा हुए ट्रेड वार पर बातचीत होने की संभावना है जिससे ग्लोबल मार्केट को दिशा मिलेगी और उसका असर भारतीय शेयरों पर भी दिखेगा।

 

यूएस फेडरल रिजर्व के नतीजे

मंगलवार औऱ बुधवार को यूएस फेडरल रिजर्व की बैठक होगी। बैठक के नतीजे बुधवार को जारी होंगे।  इंडेक्स जीनियस इन्वेस्टमेंट एडवाइजर्स के डायरेक्टर अमीत हरचेक का कहना है कि अमेरिकी जॉब डाटा अच्छे रहने से इस बार अमेरिकी ब्याज दरों में बढ़ोतरी की उम्मीद है। फेडरल रिजर्व साल में दो बार में रेट हाइक करने की घोषणा करता है तो यह बाजार के लिए निगेटिव फैक्टर्स होगा।
इसके एक दिन बाद यूरोपीय सेंट्रल बैंक यानी ईसीबी की बैठक में भी ब्याज दर बढ़ाने को लेकर फैसले आने की उम्मीद है। वहीं बैंक ऑफ जापान भी अपनी मॉनिटरी पॉलिसी की बैठक में कुछ फैसले ले सकता है। दुनिया के प्रमुख सेंट्रल बैंकों के फैसलों से अंतर्राष्ट्रीय शेयर बाजारों की दिशा तय होगी, जिसका असर घरेलू बाजारों पर भी पड़ना स्वाभाविक है।

 

क्या करें निवेशक

संदीप जैन ने बाजार में गिरावट पर खरीददारी की सलाह दी है। मिडकैप औऱ स्मॉलकैप शेयरों का वैल्युएशन अच्छा हो गया है। इसलिए चुनिंदा शेयरों में खरीददारी की जा सकती है। इनमें अच्छा रिटर्न मिल सकता है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट