बिज़नेस न्यूज़ » Market » StocksUS से भारत तक डूब रहे थे हजारों करोड़, जानें कौन कह रहा था- 'वेलकम'

US से भारत तक डूब रहे थे हजारों करोड़, जानें कौन कह रहा था- 'वेलकम'

पिछले हफ्ते अमेरिका, भारत समेत दुनिया भर के बड़े शेयर बाजारों में तेज गिरावट देखी गई।

1 of

पिछले हफ्ते अमेरिका, भारत समेत दुनिया भर के बड़े शेयर बाजारों में तेज गिरावट देखी गई। शेयर बाजारों में मचे हाहाकार ने निवेशकों परेशान थे। एक झटके में निवेशकों में लाखों-करोड़ों रुपए डूब गए। भारतीय शेयर बाजार की बात करें तो पिछले हफ्ते 5 में से 4 ट्रेडिंग सेशन में शेयर बाजार में भारी गिरावट देखने को मिली। बाजार में गिरावट से देश की टॉप 10 कंपनियों की मार्केट कैप 1,11,986.87 लाख करोड़ रुपए घट गया। इनमें टाटा कंसल्‍टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ। टीसीएस का मार्केट कैप 33,854.18 करोड़ रुपए घटकर 5,68,983.70 करोड़ रुपए हो गया।


IMF ने कहा- 'वेलकम करेक्‍शन'

ग्‍लोबल शेयर मार्केट में गिरावट को इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (आईएमएफ) 'वेलकम करेक्‍शन' के रूप में देख रहा है। दुबई में वर्ल्‍ड गवर्नमेंट समिट के दौरान सीएनबीसी से बातचीत में आईएमएफ की मैनेजिंग डायरेक्‍टर (एमडी) क्रिस्टिना लेगार्डे ने माना कि पिछले हफ्ते मार्केट में आक्रामक बिकवाली हुई। इसके चलते डाउ जोन्‍स का बीते दो साल में सबसे खराब हफ्ता रहा। यह पूछे जाने पर कि क्‍या आईएमएफ के नजरिए से यह हालात चिंताजनक है, लेगार्डे इस पर बेफिक्र दिखाई दीं। उन्‍होंने कहा, एक दिन से दूसरे दिन में मार्केट में काफी उतार-चढ़ाव रहा है खासकर अमेरिकी मार्केट में। लेकिन आप यदि एक हफ्ते पहले के मार्केट वैल्‍यूएशन से तुलना करें तो मार्केट में 6-9 फीसदी का करेक्‍शन है। यह साफ तौर पर बताता है कि जहां एसेट प्राइस काफी ज्‍यादा थे, वहां हमारे अनुसार यह वेलकम करेक्‍शन है। 

 

आगे पढ़ें... अमेरिका क्‍यों आई दूसरी बड़ी गिरावट 

 

अमेरिकी बाजार में आई इतिहास की दूसरी बड़ी गिरावट 

अमेरिकी बाजार में एक फिर भारी गिरावट देखने को मिली है। अमेरिका में 10 साल की बॉन्ड यील्ड बढ़कर 4 साल के हाई 2.88% पर पहुंच गई है। बॉन्ड यील्ड बढ़ने से निवेशकों में घबराहट का माहौल देखने को मिला, जिससे गुरुवार के कारोबार में डाओ जोंस 1000 प्वाइंट्स से ज्यादा टूट गया था। यह अमेरिकी शेयर बाजार के इतिहास में दूसरी सबसे बड़ी गिरावट है। इससे पहले सोमवार को भी बाजार में डॉव जोंस 1,175 अंक टूट गया था।

 

डाउ जोंस 1000 प्वाइंट्स टूटा

9 फरवरी (गुरूवार) के कारोबार में डाउ जोंस 1,033 अंक यानी 4.15 फीसदी की गिरावट के साथ 23,860 अंक पर बंद हुआ था। वहीं नैस्डैक 275 अंक यानी 3.90 फीसदी गिरकर 6,777 अंक पर बंद हुआ था। इसके अलावा एसएंडपी 500 इंडेक्स 101 अंक यानी 3.75 फीसदी की कमजोरी के साथ 2,581 के स्तर पर बंद हुआ।

 

क्‍यों आई अमेरिकी मार्केट में गिरावट? 

अमेरिका में 10 साल के बॉन्ड यील्ड 2.85 फीसदी पर पहुंच गई है। बॉन्ड यील्ड बढ़ना ब्याज दरों में बढ़ोतरी का संकेत होता है। वहीं पिछले महीने जॉब डाटा भी बेहतर आया। इससे अब ब्याज दरों में बढ़ोतरी की चिंता बढ़ गई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Don't Miss