बिज़नेस न्यूज़ » Market » ForexForex Market: ऑलटाइम क्लोजिंग लो से रुपए में रिकवरी, 8 पैसे मजबूत होकर 68.87/$ पर बंद

Forex Market: ऑलटाइम क्लोजिंग लो से रुपए में रिकवरी, 8 पैसे मजबूत होकर 68.87/$ पर बंद

ऐसा दूसरी बार हुआ, जब किसी कारोबारी दिन रुपए में 69 प्रति डॉलर का भाव पार किया हो।

Forex market: Rupee recovers from all-time closing low, up 8 paise

नई दिल्ली.  शुक्रवार को रुपए में ऑलटाइम क्लोजिंग से रिकवरी देखने को मिली। डॉलर के मुकाबले रुपया 8 पैसे की मजबूती के साथ 68.87 के स्तर पर बंद हुआ। विदेशों में कमजोर डॉलर के बीच एशियाई बाजारों में बढ़त से रुपए को फायदा मिला।

 

रुपए ने दूसरी बार 69 के स्तर को पार किया

 

इसके पहले फॉरेन कैपिटल आउटफ्लो और डॉलर की डिमांड बढ़ने के चलते सुबह के कारोबार में रुपया गुरुवार के स्तर से 8 पैसे कमजोर होकर 69.03 प्रति डॉलर के भाव पर पहुंच गया। ऐसा दूसरी बार हुआ, जब किसी कारोबारी दिन रुपए में 69 प्रति डॉलर का भाव पार किया हो। सुबह रुपया 7 पैसे मजबूत होकर 68.88 प्रति डॉलर के भाव पर खुला था।

 

गुरुवार को ऑलटाइम लो क्लोजिंग
गुरूवार को Forex Market में रुपया डॉलर के मुकाबले 21 पैसे की कमजोरी के साथ अब तक के सबसे निचले स्तर 68.95 पर बंद हुआ था। क्रूड प्राइस में तेजी और सरकार द्वारा खरीफ फसलों की एमएसपी बढ़ाए जाने से महंगाई बढ़ने की आशंका से रुपया कमजोर हुआ। इसके अलावा इम्पोर्टर्स और कुछ कॉरपोरेट्स द्वारा डॉलर की डिमांड से भी रुपए पर दबाव बना। डॉलर के मुकाबले रुपए की शुरुआत भी कमजोरी के साथ हुई थी। डॉलर के मुकाबले रुपया आज 6 पैसे गिरकर 68.80 के स्तर पर खुला था।

 

इस साल 7% कमजोर हो चुका है रुपया 
रुपए ने बीते साल डॉलर की तुलना में 5.96 फीसदी की मजबूती दर्ज की थी, जो अब 2018 की शुरुआत से लगातार कमजोर हो रहा है। इस साल अभी तक रुपया लगभग 7 फीसदी से ज्यादा टूट चुका है। पिछले हफ्ते रुपए ने 69 प्रति डॉलर का स्तर तोड़कर ऑलटाइम लो बनाया था। वहीं, गुरूवार को रुपए का ऑलटाइम क्लोजिंग लो 58.95 था।   

 

सीएडी बढ़ने की आशंका से भी रुपए पर प्रेशर 
क्रूड की ऊंची कीमतों से भारत के करंट अकाउंट डेफिसिट और महंगाई बढ़ने की आशंका से इन्वेस्टर्स में घबराहट फैल गई। कुछ दिनों की सुस्ती के बाद क्रूड की कीमतें चढ़ने के भी संकेत मिले। अमेरिका द्वारा अपने सहयोगी देशों से नवंबर की डेडलाइन तक ईरान से क्रूड का इंपोर्ट रोकने की बात कहने से अब क्रूड की कीमतों में तेजी देखने को मिल सकती है। वहीं, आरबीआई द्वारा अपने द्वैमासिक फाइनेंशियल स्टैबिलिटी रिपोर्ट में बैंकिंग सेक्टर की धुंधली तस्वीर पेश किए जाने से करंसी मार्केट में घबराहट फैल गई। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट