विज्ञापन
Home » Market » ForexForeign reserve in India

देश में बढ़ा विदेश मुद्रा भंडार, पहुंचा 11 माह के उच्चतम स्तर पर

यह लगातार 8वां सप्ताह है, जब विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ा है। 

Foreign reserve in India
  • विदेशी मुद्रा भंडार किसी भी देश के केंद्रीय बैंक द्वारा रखी गई धनराशि या अन्य परिसंपत्तियां हैं।
  • विदेशी मुद्रा भंडार को जरूरत पड़ने पर बैंक अपनी देनदारियों का भुगतान कर सकें। 

नई दिल्ली. देश का विदेशी मुद्रा भंडार पांच अप्रैल को समाप्त में 1.88 अरब डॉलर (131.6 अरब रुपए) से बढ़कर करीब 11 माह के उच्चतम स्तर 413.78 अरब डॉलर (28964 अरब रुपए) पर पहुंच गया। यह लगातार आठवां सप्ताह है जब विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ा है। इससे पहले 29 मार्च को समाप्त में यह 5.24 अरब डॉलर (366 अरब रुपए) की बड़ी छलांग लगाकर 411.91 अरब डॉलर (28770 रुपए) पर रहा था।

 

रिजर्व बैंक ने जारी किए विदेशी मुद्रा भंडार के आंकड़े 
 

रिजर्व बैंक के आंकड़ों के अनुसार पांच अप्रैल को समाप्त में विदेशी मुद्रा भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा परिसंपत्ति 2.06 अरब डॉलर की बढ़त में 386.12 अरब डॉलर पर पहुंच गया। हालांकि, इस दौरान स्वर्ण भंडार 18.26 करोड़ डॉलर घटकर 23.23 अरब डॉलर रह गया। अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के पास आरक्षित निधि 25 लाख डॉलर घटकर 2.98 अरब डॉलर और विशेष आहरण अधिकार 12 लाख डॉलर फिसलकर 1.46 अरब डॉलर रह गया। 

 

क्या होता है विदेशी मुद्रा भंडार 

विदेशी मुद्रा भंडार किसी भी देश के केंद्रीय बैंक द्वारा रखी गई धनराशि या अन्य परिसंपत्तियां हैं ताकि जरूरत पड़ने पर वह अपनी देनदारियों का भुगतान कर सकें. इस तरह की मुद्राएं केंद्रीय बैंक जारी करता है. साथ ही साथ सरकार और अन्य वित्तीय संस्थानों की तरफ से केंद्रीय बैंक के पास जमा किये गई राशि होती है. यह भंडार एक या एक से अधिक मुद्राओं में रखे जाते हैं. ज्यादातर डॉलर और कुछ हद तक यूरो में विदेशी मुद्रा भंडार में शामिल होता है. विदेशी मुद्रा भंडार को फॉरेक्स रिजर्व या एफएक्स रिजर्व भी कहा जाता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन