Trending News Alerts

ट्रेंडिंग न्यूज़ अलर्ट

    Home »Market »Commodity »Metals» Aluminium Price Increased Up To 11 Pc Since Jan

    एल्युमीनियम के दाम में 12 फीसदी तक आ सकती है तेजी, कंज्यूमर ड्यूरेबल सेक्टर से बढ़ी डिमांड

    एल्युमीनियम के दाम में 12 फीसदी तक आ सकती है तेजी, कंज्यूमर ड्यूरेबल सेक्टर से बढ़ी डिमांड
    नई दिल्ली। इंटरनेशनल और घरेलू स्तर पर पिछले तीन महीनों में एल्युमीनियम की कीमतों में 11 से 12.5 फीसदी की तेजी हुई है और इसकी कीमतों में अगले क्वार्टर तक 10 से 12 फीसदी की तेजी आ सकती है। एल्युमीनियम की कीमतों में ये तेजी सरकार द्वारा इंफ्रास्ट्रक्चर सेक्टर को बूस्ट किए जाने से आ सकती है। इसके अलावा कंज्यूमर ड्यूरेबल्स कंपनियों की मार्च महीने में बड़े ऑर्डर मिलने शुरू हो जाते हैं जिससे इसकी मांग तेजी आएगी।
     
    घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़े दाम
    घरेलू स्तर पर जनवरी से एल्युमीनियम की कीमतों में अभीतक 11 फीसदी की तेजी हुई है। जनवरी में एल्युमीनियम का भाव 114.80 रुपए प्रति किलोग्राम था जो बढ़कर 127 रुपए प्रति किलोग्राम तक पहुंच गया है। वहीं अंतरराष्ट्रीय मार्केट में जनवरी में एल्युमीनियम का भाव 1686 डॉलर प्रति टन था जो बढ़कर 1897 डॉलर प्रति टन हो गया है।
     
    10 फीसदी कीमत और बढ़ने की उम्मीद
    वायदा बाजार के कारोबारी का कहना है कि एल्युमिनियम की कीमतों में आने वाले दिनों में तेजी देखने को मिल सकती है। एंजेल कमोडिटी के रिसर्च हेड अनुज गुप्ता के मुताबिक अगले क्वार्टर तक एल्युमीनियम की कीमतों में 10 से 12 फीसदी की तेजी हो सकती है। एमसीएक्स पर मार्च वायदा फिलहाल 126-127 रुपए प्रति किलोग्राम है।
     
    हाजिर बाजार के कारोबारी भी इस बात से सहमत हैं कि आने वाले दिनों में एल्यूमीनियम की कीमतों में बढ़ोतरी होगी। दिल्ली के पहाड़गंज में कुकरेजा ब्रदर्स के प्रमुख सुमित कुकरेजा का कहना है कि पिछले साल मांग में ज्यादा तेजी नहीं थी। मार्च की शुरुआत से इलेक्ट्रिकल उपकरण बनाने वाली कंपनियों की ओर से ऑर्डर मिलने शुरू होने से मांग में तेजी आने की उम्मीद है।
     
    बजट में इंफ्रा सेक्टर को मिला 3.96 लाख करोड़
    सरकार ने फाइनेंशियल ईयर 2017-18 के बजट में 13 फीसदी की बढ़ोत्तरी के साथ इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के लिए 3.96 लाख करोड़ रुपए का आवंटन किया है। सरकार द्वारा स्मार्ट सिटी, रेलवे, एविएशन सेक्टर को बूस्ट किए जाने से एल्युमीनियम की मांग बढ़ेगी। विश्व में एल्युमीनियम के कुल प्रोडक्शन का 25 फीसदी इस्तेमाल कंस्ट्रक्शन में होता है।
     
    2021 तक 53 लाख टन कंज्म्पशन बढ़ने की उम्मीद
    देश में एल्युमीनियम की खपत 2015-2016 में 33 लाख टन से बढ़कर 2020-21 तक 53 लाख टन हो जाएगी। कंज्म्पशन में बढ़ोतरी की वजह सरकार द्वारा उठाए गए कदम जैसे, मेक इन इंडिया, स्मार्ट सिटी, सभी के लिए घर, रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन और फ्रेट कॉरिडोर्स है। 
     
    कितना हुआ एल्युमीनियम का प्रोडक्शन
    केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि साल 2015-16 में हुआ घरेलू स्तर पर 26.5 लाख टन एल्युमीनियम का प्रोडक्शन हुआ। वहीं, ग्लोबल प्रोडक्शन में 15 फीसदी की कमी हुई है, जिससे एल्युमीनियम की कीमतों में तेजी आई है।
     
    एल्युमीनियम का कहां होता है इस्तेमाल
    भारत में एल्युमीनियम का इस्तेमाल पावर सेक्टर, एविएशन, ऑटोमोटिव, कंस्ट्रक्शन, कंज्यूमर ड्यूरेबल और पैकेजिंग इंडस्ट्री में होता है।
     
    फिक्की और टाटा स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट ग्रुप की डेटा के मुताबिक देश का पैकेजिंग इंडस्ट्री 2020 तक 4.89 लाख करोड़ रुपए तक बढ़ने की उम्मीद है। देश की साल दर साल पैकेजिंग इंडस्ट्री 18 फीसदी की तेजी से बढ़ रही है। पैकेजिंग इंडस्ट्री में ग्रोथ की वजह से एल्युमीनियम की मांग बढ़ेगी जिससे इसका भाव बढ़ेगा। 

    Recommendation

      Don't Miss

      NEXT STORY