बिज़नेस न्यूज़ » Market » Commodity » Gold SilverGST से गोल्ड ज्वैलरी होगी महंगी

GST से गोल्ड ज्वैलरी होगी महंगी

जीएसटी लागू होने से गोल्ड में ट्रेडिंग करना और गोल्ड ज्वैलरी खरीदना और बेचना दोनों महंगा हो जाएगा।

Small traders affected by GST gold jewelery will be expensive
नई दिल्ली. गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) 1 जुलाई 2017 से देश में लागू हो रहा है। ट्रेडर्स के साथ ग्राहक तक में जीएसटी को लेकर असमंजस की स्थिति है। हालांकि जीएसटी का सबसे ज्यादा असर कमोडिटीज पर देखने को मिल सकता है। जीएसटी लागू होने से गोल्ड में ट्रेडिंग करना और गोल्ड ज्वैलरी खरीदना और बेचना दोनों महंगा हो जाएगा।
 
जीएसटी से स्मॉल गोल्ड ट्रेडर्स की परेशानी बढ़ जाएगी, क्योंकि अब सारा सिस्टम कम्प्यूटराइजड हो जाएगा। पहले छोटे कारोबारी बिना बिल के ही ट्रांजैक्शन करते हैं। लेकिन अब सोना खरीदने और बेचने के साथ सारे ट्रांजैक्शन बिल के जरिए होंगे। इससे उनको बिजनेस करने में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।
जीएसटी से गोल्ड में ट्रेडिंग करना भी महंगा हो जाएगा। मौजूदा समय में ब्रोकरेज पर 15 फीसदी की दर से सर्विस टैक्स लगता था। अब 18 फीसदी जीएसटी लगेगा, जो क्लाइंट को वहन करना पड़ेगा।
 
गोल्ड ज्वैलरी पर 3 फीसदी और मेकिंग चार्ज पर 5 फीसदी जीएसटी लगाने से डिमांड में कमी आएगी। जीएसटी के तहत सोना खरीदने और बेचने पर टैक्स लगाए जाने से गोल्ड की ओर इन्वेस्टर्स का रुझान कम होगा। इससे कारोबारियों के बिजनेस पर असर पड़ेगा।
जीएसटी के बाद ब्लैकमनी काबू में आने की उम्मीद है। पहले ब्लैकमनी का इस्तेमाल गोल्ड खरीदने में ज्यादा होता था। जीएसटी के बाद सारे ट्रांजैक्शन बिल के जरिए होंगे। इससे ब्लैकमनी पर लगाम लगेगा।
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट