Home » Market » Commodity » Gold Silverशेयर बाजार में गिरावट से सोना हुआ महंगा, दाम पहुंचे 14 महीने के हाई लेवल पर

शेयर मार्केट में गिरावट के बीच गोल्ड 14 महीने के हाई लेवल पर, 330 रु की तेजी के साथ 31,600 पर पहुंचा

गोल्ड 330 रुपए चढ़कर 31,600 रुपए प्रति दस ग्राम पर रहा। यह 14 महीने का हाई लेवल है।

1 of

नई दिल्ली.  ग्लोबल इक्विटी मार्केट में भारी गिरावट के बीच गोल्ड में मंगलवार को तेजी देखी गई। गोल्ड 330 रुपए चढ़कर 31,600 रुपए प्रति दस ग्राम पर रहा। यह 14 महीने का हाई लेवल है। इससे पहले,  9 नवंबर को गोल्ड के रेट 31,750 रुपए प्रति दस ग्राम पर थे। तब गोल्ड में 900 रुपए की बढ़त दर्ज हुई थी।

 

किस वजह से बढ़े रेट 

- ट्रेडर्स का कहना है कि ग्लोबल स्टॉक मार्केट्स में भारी बिकवाली के बाद इन्वेस्टर्स सेफ हैवन इन्वेस्टमेंट्स के तौर पर गोल्ड को देख रहे हैं। ऐसा अनुमान है कि दाम और बढ़ सकते हैं। मंगलवार को शेयर बाजार में भारी गिरावट देखने को मिली। उधर, अमेरिकी डाउजोंस में भी हिस्ट्री की सबसे बड़ी गिरावट हुई। इसका असर ज्यादातर एशियाई मार्केट में दिख रहा है। 

 

वोलैटिलिटी इंडेक्स 15 महीनों के टॉप पर, बाजार में और गिरावट मुमकिन

 

सिंगापुर गोल्ड में 0.27% की तेजी

- ग्लोबल मार्केट की बात करें, तो सिंगापुर गोल्ड 0.27% चढ़कर 1,342.60 डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया और चांदी 0.84% की तेजी के साथ 16.85 डॉलर प्रति औंस रहा। 

 

330 रुपए महंगा हुआ सोना

- राजधानी में 99.9 और 99.5% प्योरिटी वाला सोना 330 रुपए बढ़कर क्रमशः 31,600 रुपए और 31,450 रुपए प्रति दस ग्राम के स्तर पर पहुंच गया। इससे पहले यह लेवल 9 नवंबर, 2016 को देखने को मिला था। हालांकि, गिन्नी (प्रति 8 ग्राम) 24,800 रुपए के स्तर पर फ्लैट रही।

 

चांदी 40,000 रु प्रति किलो के स्तर पर

- चांदी में भी तेजी का ट्रेंड देखने को मिला, जो 500 रुपए चढ़कर 40,000 रुपए प्रति किलोग्राम के स्तर पर पहुंच गई।

- वहीं, वीकली बेस्ड डिलिवरी 510 रुपए चढ़कर 38,960 रुपए प्रति किलोग्राम के स्तर पर रही। वहीं, चांदी के सिक्कों में कोई बदलाव नहीं हुआ, जो प्रति सैकड़ा 74,000 रुपए (खरीद मूल्य) और 75,000 रुपए (बिक्री मूल्य) पर स्थिर रहा।

 

गोल्ड से जुड़ी खास बातें: 

- वर्ल्‍ड गोल्‍ड काउंसिल (WGC) की रिपोर्ट के मुताबिक, 2017 में भारत में गोल्‍ड की डिमांड में 9.1 फीसदी की तेजी आई और यह 727 टन पर पहुंच गई। 2016 में यह डिमांड 666.1 टन थी। उधर, भारत की तुलना में ग्लोबल डिमांड में 7% की गिरावट दर्ज की गई। 

- WGC के भारत में मैनेजिंग डायरेक्‍टर सोमासुंदरम पीआर ने बताया- "2018 के बजट में गोल्‍ड के लिए कई पॉजिटिव कदम उठाए गए हैं, जिसमें गोल्‍ड के लिए एक व्‍यापक पॉलिसी और गोल्‍ड एक्‍सचेंज की स्‍थापना शामिल है। उम्‍मीद है कि 2018 में गोल्‍ड की डिमांड 700-800 टन रहेगी।" 

 

Get Latest Update on Auto Expo 2018

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट