Home » Market » Commodity » Gold Silvertwo ways taxes on the benefits from selling gold

बेचने जा रहे हैं सोना तो हो जाएं अलर्ट, मोदी सरकार की है नजर

हर फैमली साल में कई बार सोना खरीदती या बेचती है। लेकिन आमतौर इससे जुड़े टैक्‍स नियमों पर ध्‍यान नहीं रखती है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. देश में गोल्‍ड बड़ा कारोबार है। हर फैमली साल में कई बार या तो सोना खरीदती है या बेचती है। लेकिन आमतौर पर लोग यह ध्‍यान नहीं रखते हैं कि गोल्‍ड को बेचने से होने वाले फायदे पर सरकार की नजर है। धीरे-धीरे सरकार नियमों को सख्‍त कर रही है, इसके बाद यह सोचना कि गोल्‍ड बेचा है और सरकार को पता नहीं चलेगा, यह सही नहीं है। कई लोगों को लगता है कि उनको गोल्‍ड गिफ्ट में मिला है इसलिए उसको बेचने से होने वाले फायदे पर टैक्‍स नहीं बनता है, तो यह भी सही नहीं है। गोल्‍ड खरीदा हो या गिफ्ट में मिला हो अगर बेचा जाता है तो उस पर टैक्‍स बनता है। इसलिए गोल्‍ड से जुड़े नियमों को जान लेना चाहिए।

 

 

क्‍या हैं गोल्‍ड पर टैक्‍स के नियम

गोल्‍ड को बेचने पर दो तरह के टैक्‍स के नियम काम करते हैं। एक है 3 साल से पहले बेचने पर दूसरा है 3 साल के बाद बेचने पर। अगर किसी ने गोल्‍ड खरीदने के तीन के अंदर बेचा है तो उस शार्ट टर्म कैपिटल गैन टैक्‍स (STCG) लागू होता है। वहीं अगर किसी ने गोल्‍ड को खरीदने के 3 साल बाद बेचा है तो उस पर लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गैन टैक्‍स (LTCG) लागू होता है। इन टैक्‍स के अलावा सेस और सरचार्ज भी देना होता है।

 

 

कितना होता है यह टैक्‍स

अगर गोल्‍ड बेचने के बाद लॉन्‍ग टर्म कैपिटल गैन टैक्‍स (LTCG) लगता है तो आपको फायदे पर 20 फीसदी की दर से टैक्‍स देना होगा। इस टैक्‍स पर सेस और सरचार्ज भी देना होता है। इसमें बेचने वाला इंडेक्‍सन का फायदा ले सकता है। यह इंडेक्‍स इनकम टैक्‍स विभाग जारी करता है। वहीं अगर गोल्‍ड को तीन साल के अंदर बेचा जाता है, तो शार्ट टर्म कैपिटल गैन (STCG) लागू होता है। इस टैक्‍स की दर आपकी उस साल की इनकम पर तय होता है। यह टैक्‍स भी उसी हिसाब से लगता है।

 

 

गिफ्ट में मिले गोल्‍ड पर कैसे लगता है टैक्‍स

देश में गोल्‍ड को गिफ्ट करने का चलन है। छोटे से छोटे समारोह में लोग गोल्‍ड की वस्‍तुएं गिफ्ट करते हैं, वहीं शादी के मौकों पर रिश्‍तेदाराें के अलावा माता पिता भी काफी गोल्‍ड गिफ्ट में बच्‍चों को देते हैं। अगर यह गोल्‍ड बाद में बेचा जाता है तो उनका खरीद का रेट और बेचने के रेट के अंतर को फायदा माना जाता है। इसलिए गोल्‍ड खरीदने के वक्‍त रिकॉर्ड रखना जरूरी होता है। अगर खरीदने का रिकॉर्ड नहीं है तो इसके लिए किसी वैल्‍युअर से इसकी वैल्‍यू की गणना कराई जा सकती है। इसके आधार फायदे की गणना हो सकती है।

 

आगे पढ़ें : कितना गोल्‍ड रख सकते हैं आमलाेग

 

 

 

शादीशुदा महिला रख सकती है 500 ग्राम सोना

फाइनेंस मिनिस्‍ट्री के अनुसार एक शादीशुदा महिला के पास 500 ग्राम तक सोना रह सकता है। अविवाहित महिलाएं 250 ग्राम तथा पुरुष 100 ग्राम सोना अपने पास रख सकते हैं।

 

इस नियम को समझें

इस नियम के अनुसार एक छोटा परिवार कितना सोना अपने पास रख सकता है, इसे ऐसे समझा जा सकता है। एक परिवार में पति, पत्नी और उनके दो बच्चे एक लड़का और एक लड़की है। पत्नी 500 ग्राम, पति 100 ग्राम, बेटी 250 ग्राम और बेटा 100 ग्राम। इस तरह से 950 ग्राम सोना यह परिवार रख सकता है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट