Home » Market » Commodity » Gold Silverआंगड़ि‍यों के काम बंद करने से परेशानी में आए हीरा करोबारी - Business of diamond is badly hit after Angadias suspended their operations

आंगड़ि‍यों के काम बंद करने से परेशानी में आए हीरा करोबारी, एक्‍सपोर्ट पर भी पड़ा असर

मुंबई और गुजरात के हीरा कारोबार की गतिवि‍धियां इन दि‍नों कुछ मंद पड़ गई हैं।

1 of

मुंबई। मुंबई और गुजरात के हीरा कारोबार की गतिवि‍धियां इन दि‍नों कुछ मंद पड़ गई  हैं। वजह है 'आंगड़ि‍या' का फि‍लहाल इस बि‍जनेस से अलग हो जाना। आंगड़ि‍ये इस कारोबार की बहुत की महत्‍वपूर्ण और सबसे भरोसेमंद कड़ी हैं। इनका काम होता है, पूरी ईमानदारी और बेहद गुपचुप तरीके से हीरों और कैश को इधर से उधर ले जाना।

अहम भूमिका नि‍भाते हैं 

हालांकि‍ अब सरकार की सख्‍ती की वजह से इन्‍होंने अपना काम फौरी तौर पर बंद कर दि‍या है। मुंबई से रफ डायमंड लेकर सूरत पहुंचाने और पॉलि‍श हुए हीरे सूरत से लेकर मुंबई पहुंचाने का काम इन्‍हीं आगड़ि‍यों के हाथ में है। बीते दि‍नों जीएसटी वि‍भाग और सेंट्रल एक्‍साइज ने एक संयुक्‍त छापेमारी में 85 आंगड़ि‍यों को हि‍रासत में ले लि‍या था। इनसे उन्‍होंने 90 बैग जब्‍त कि‍ए जि‍नमें 1042 बहुमूल्‍य पार्सल थे। उस घटना के बाद से आंगड़ि‍यों ने काम बंद कर रखा है। उनकी मांग है कि‍ इस पर सरकार स्‍पष्‍ट दि‍शा निर्देश जारी करे। 

 

एक्सपोर्ट पर भी असर

जेम्स एंड ज्वैलरी ट्रेड फेडरेशन के चेयरमैन नितिन खंडेलवाल ने moneybhaskar.com को बताया कि‍ अंगड़िया के ऊपर आईटी रेड की गई है, जिसकी वजह से पूरा बिजनेस ठप सा हो गया है। यहां तक की एक्सपोर्ट भी इफेक्ट हो रहा है। अंगड़िया डायमंड बिजनेस में मीडिएटर का काम करते हैं। सरकार अगर थोड़ी उनकी काउंसलिंग करती तो ये नौबत नहीं आती। जीएसटी आने के बाद रेड नहीं काउंसलिंग की जरुरत है।

 

रोज 2000 पार्सल लाते हैं 
यह सबकुछ ऐसे वक्‍त पर हुआ है जब दुनि‍या में हीरे की मांग बढ़ना शुरू हुई है। दि‍संबर 2017 में तराशे और पॉलि‍श कि‍ए हुए हीरे के एक्‍सपोर्ट में 7.86 फीसदी का इजाफा हुआ है।  कारोबारी सूत्रों के मुताबि‍क, आंगड़ि‍या रोज औसतन 2000 हीरों के पार्सल सूरत और मुंबई के बीच लाते ले जाते हैं। सूरत में हीरों को तराशने और उन्‍हें पॉलि‍श करने का काम बड़े पैमाने पर होता है वहीं मुंबई में इनका कारोबार होता है और इन्‍हें वि‍श्‍व के बाजारों में भेजा जाता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट