विज्ञापन
Home » Market » Commodity » Energyiran oil sanctions on india effect on petrol diesel price

Market / चुनाव के बाद लोगों को लगेगा झटका, बढ़ जाएंगे पेट्रोल-डीजल के दाम

अमेरिका की ओर से ईरान पर प्रतिबंध लगाने से भारतीय तेल बाजार पर पड़ेगा असर

iran oil sanctions on india effect on petrol diesel price
  • 2 मई के बाद से भारत को अन्य तेल उतपादक देशों से समझौता करना पड़ सकता है

नई दिल्ली। बीते वर्ष ईरान पर प्रतिबंध लगाने के बाद अमेरिका ने कुछ देशों को तेल खरीदने के लिए 6 महीने का समय दिया था। 2 मई 2019 को यह समय समाप्त होने जा रहा है इसके साथ ही अमेरिका ने इस छूट को आगे बढ़ाने से इंकार कर दिया है। अमेरिका ने जिन देशों को ईरान से तेल खरीदने की छूट दी थी उनमें भारत, चीन और जापान समेत 8 देश शामिल हैं। आपको बता दें कि ईरान से तेल खरीदने वाले देशों में चीन के बाद भारत दूसरे स्थान पर है। अमेरिका की ओर से ईरान पर प्रतिबंध लगाने के बाद यह चिंता जताई जा रही है कि इससे भारतीय बाजार पर क्या असर पड़ेगा। यह भी आशंका जताई जा रही है कि आगामी कुछ महीनों में भारत में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में खासी बढ़ोतरी होगी। ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि चुनावों के बाद पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने तय हैं।

2 मई के बाद से भारत को अन्य तेल उतपादक देशों से समझौता करना पड़ सकता है


अमेरिका की ओर से समय सीमा ना बढ़ाने के बाद सोमवार को कच्चे तेल की कीमतों में 3.33 फीसदी की बढ़ोतरी देखी गई। भारत फिलहाल ईरान को कच्चे तेल के बदले में खाद्य सामग्री और औषधि का निर्यात करता है। लेकिन 2 मई के बाद से भारत को कच्चे चतेल के बदले ईरान को नकदी मका भुगतान करना पड़ेगा। ट्रेड प्रमोशन काउंसिल ऑफ इंडिया (TPCI) के विश्लेषक अभिषेक झा का कहना है  कि अभी भारत साल में करीब 15 अरब डॉलर का कच्चा तेल बिना नकदी चुकाए ईरान से लेता है। माना जा रहा है कि 2 मई के बाद से भारत को अन्य तेल उत्पादक देशों से समझौता करना पड़ सकता है। 

उत्पादन बढ़ाने की योजना नहींः सऊदी अरब


बुधवार को सऊदी अरब के एनर्जी मिनिस्टर खालिद अल-फलीह (Khalid al-Falih) ने कहा कि अमेरिका द्वारा ईरानी क्रूड के खरीदारों को प्रतिबंध से छूट वापस लिए जाने के बाद तत्काल तेल उत्पादन बढ़ाने की कोई योजना नहीं है। रियाद में एक फाइनेंस कांफ्रेंस के दौरान फलीह ने कहा, ‘वेनेजुएला संकट और ईरान पर सख्ती के बावजूद ग्लोबल इन्वेंट्रीज बढ़ रही हैं। इसलिए तत्काल कुछ होने की उम्मीद नहीं दिखती है।’

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन